1. home Hindi News
  2. life and style
  3. parenting tips parents should not do this work even by mistake in parents teacher meeting know in hindi tvi

Parenting Tips: बच्चों के दिमाग पर पड़ता है बुरा असर इसलिए पीटीएम में पैरेंट्स गलती से भी न करें ये काम

शिक्षक और माता-पिता बच्चे के जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. इसलिए, माता-पिता या शिक्षकों की एक छोटी सी गलती भी बच्चे के मनोवैज्ञानिक विकास के लिए हानिकारक हो सकती है. जानें एक पैरेंट्स के तौर पर आपको पैरेंट्स-टीचर मीटिंग के दौरान वे कौन-सी बातें हैं जो नहीं करनी चाहिए.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Parenting Tips
Parenting Tips
Instagram

Parenting Tips: माता-पिता के रूप में, आपको अपने बच्चे के स्कूली जीवन में सक्रिय रूप से शामिल होना चाहिए. पैरेंट्स-टीचर मीटिंग एक बेहतरीन अवसर है जहां आप जांच सकते हैं कि आपका बच्चा स्कूल में सही रास्ते पर है या नहीं. इसलिए, अपने बच्चे के शिक्षक के साथ प्रभावी ढंग से बात करना आपके और आपके बच्चे के लिए जरूरी है. शिक्षक और माता-पिता बच्चे के जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. एक बच्चा स्कूल में बहुत सी चीजें सीखता है और ये चीजें जो अंततः उस बच्चे के चरित्र को प्रभावित करती हैं. इसलिए, माता-पिता या शिक्षकों की एक छोटी सी गलती भी बच्चे के मनोवैज्ञानिक विकास के लिए हानिकारक हो सकती है. ऐसी कुछ चीजें हैं जो आपको पैरेंट्स-टीचर मीटिंग (Parents Teacher Meeting) में माता-पिता (parents) के रूप में करने से बचना चाहिए. आगे पढ़ें...

अपने बच्चे को सबके सामने डांटें नहीं

कई माता-पिता अपने बच्चों को पैरेंट्स-टीचर मीटिंग (parents teacher meeting) में डांटने लगते हैं. इससे बच्चे की मानसिकता पर गलत असर पड़ता है. अपने बच्चे को उसके शिक्षकों और दोस्तों के सामने डांटकर, आप अपने बच्चे के साथ अपने रिश्ते को खराब कर रहे हैं.

अपने बच्चे की बहुत ज्यादा तारीफ करने से बचें

शिक्षक के सामने कभी भी अपने बच्चे की बहुत ज्यादा तारीफ न करें. यह आपके बच्चे को एकेडमिक और एक्स्ट्रा करिकुलर एक्टिविटीज (extracurricular activities) में ओवर कॉन्फिडेंस (over confidence) का कारण बन सकता है.

अपने बच्चे की बहुत सी गलतियों को उजागर करना सही नहीं

कई बार पैरेंट्स-टीचर मीटिंग में पैरेंट्स अपने बच्चे की कई कमियों को उजागर कर देते हैं. इससे आपके बच्चे का आत्मविश्वास कम हो सकता है.

बच्चों के प्रति आक्रामक न हों

यदि आप अपने बच्चे के अंकों या बुरे व्यवहार से नाराज हैं, तो पैरेंट्स-टीचर मीटिंग में अपने बच्चे पर चिल्लाने से बचें. आपको भी अपने बच्चे को कभी नहीं मारना चाहिए. माता-पिता को चाहिए कि वे अपने बच्चों को घर ले जाएं और उन्हें उनकी गलतियों को विनम्रता से समझाएं.

अपने बच्चे को डिमोटिवेट करने से बचें

यदि आप अपने बच्चे के एकेडमिक परफॉर्मेंस (academic performance) से निराश हैं, तो आपको अपने बच्चे को डिमोटिवेट (demotivate) नहीं करना चाहिए. अपने बच्चे को असफल करार देकर, आप उसके व्यक्तित्व को भारी नुकसान पहुंचाएंगे. अपने बच्चों की अत्यधिक आलोचना से बचें और उन्हें हर काम में अपना 100% देने के लिए प्रोत्साहित करें.

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें