1. home Hindi News
  2. health
  3. benefits of garlic in sugar garlic is helpful to control blood sugar levels diabetes symptoms food and ayurvedic home remedies sry

Benefits of Garlic in Sugar: डायबिटीज में फायदेमंद है लहसुन, ऐसे करें सेवन

लहसुन को आयुर्वेद में काफी इस्तेमाल किया जाता है. सभी के घरों में खाने में लहसुन का इस्तेमाल किया जाता है. लहसुन के सेवन से कोलेस्ट्रॉल कम करने और मधुमेह को कंट्रोल करने में मदद मिलती है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Benefits of Garlic in Sugar
Benefits of Garlic in Sugar
Prabhat Khabar Graphics

Benefits of Garlic in Sugar: शुगर एक तरह का मेटाबॉलिक डिसॉर्डर है, जो शरीर में इंसुलिन की कमी से होता है. शुगर के मरीजों को अपने खानपान का विशेष रूप से ध्यान रखने की जरूरत होती है, क्योंकि खान-पान के कारण खून में शुगर की मात्रा अनियंत्रित तौर पर घटने और बढ़ने लगती है. बात अगर लहसुन की करें तो यह शुगर की वजह से होने वाली परेशानियों को कम करने में भी मददगार है.

Benefits of Garlic in Sugar: लहसुन का इस तरह करें सेवन

  • सबसे पहले आप 100 ग्राम लहसुन के रस में प्याज का रस, नींबू का रस और अदरक का रस मिलाएं

  • इस सभी चीजों को अच्छी तरह से मिक्स कर लें और फिर पका लें.अब इसमें बराबर मात्रा में शहद मिलाएं

  • रोजाना एक चम्मच इस काढ़े का सेवन करने से शरीर में शुगर की मात्रा नियंत्रित रहती है.

  • साथ ही यह हार्ट ब्लॉकेज से भी निजात दिलाने में मदद करता है.

Benefits of Garlic in Sugar: रोज खाएं लहसुन की 2-3 कलियां

आयुर्वेद डॉक्टर अबरार मुल्तानी कहते हैं कि शुगर पेशेंट 2 से 3 लहसुन की कच्ची कली चबाकर भी खा सकते हैं.

अगर आपको अधिक गर्मी लगती है तो रात में लहसुन को पानी में भिगोकर रख दें. फिर सुबह खाली पेट इसका सेवन करें. इससे शुगर लेवल नियंत्रित रहेगा.

लहसुन को आयुर्वेद में काफी इस्तेमाल किया जाता है. सभी के घरों में खाने में लहसुन का इस्तेमाल किया जाता है. लहसुन के सेवन से कोलेस्ट्रॉल कम करने और मधुमेह को कंट्रोल करने में मदद मिलती है. इसके लिए रातभर लहसुन की 2-3 कलियों को पानी में भिगो दें. सुबह खाली पेट इन्हें चबाकर खा लें.

ये हैं टाइप-1 और टाइप-2 डायबिटीज के शुरुआती लक्षण हैं

  • चिड़चिड़ापन

  • आंखों में धुंधलापन

  • घाव का देरी से भरना

  • स्किन इंफेक्शन

  • बहुत प्यास लगना

  • बार-बार टॉयलेट आना

  • बहुत भूख लगना

  • वजन बढ़ना या कम होना

  • थकान

  • ओरल इंफेक्शन्स

  • वजाइनल इंफेक्शन्स

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें