1. home Hindi News
  2. business
  3. corona crisis on airlines industry

एयरलाइंस उद्योग पर 'कोरोना' संकट : रोज हो रहा 150 करोड़ का नुकसान, जून तक डूब जायेगी कई कंपनियां !

By AvinishKumar Mishra
Updated Date
Air india
Air india
Twitter

नयी दिल्ली : कोरोनावायरस का कहर सबसे ज्यादा विमान कंपनियों पर पड़ने वाला है. इस महामारी से विमान कंपनियों को भारत में लगभग 3.3 अरब डॉलर का झटका लगेगा. सेंटर फॉर एशिया पैसिफिक एविएशन ने सरकार को चेताया है कि इसमें अगर जल्द सुधार नहीं की गयी तो कई कंपनियां बर्बाद हो जायेगी. साथ ही हजारों की लोगों की इसकी वजह से नौकरी चली जायेगी.

50 प्रतिशत कारोबार डाउन- फिक्की ने जनवरी फरवरी की रिपोर्ट जारी की थी, जिसमें एयरलाइंस कंपनियों के 8400 करोड़ रुपये के नुकसान का आकलन किया गया था. साथ ही फिक्की ने उम्मीद जातयी थी कि यह आंकड़ा मार्च से जून तक सही हो जायेगा, लेकिन कोरोनावायरस की वजह से इसमें और। नुकसान हो गया है. सीएपीए की मानें तो एयरलाइंस इंडस्ट्री को 50 फीसदी का नुकसान हो सकता है.

रोज हो रह 150 करोड़ का नुकसान- सीएपीए ने अपने अनुमान में कहा है कि वित्त वर्ष 2021 की पहली तिमाही में ही यानी जून, 2020 तक भारतीय एविएशन इंडस्ट्री को करीब 3.3 से 3.6 अरब डॉलर 27 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा का नुकसान हो सकता है. कोरोना वायरस की वजह से भारतीय एविएशन सेक्टर को हर दिन करीब 150 करोड़ रुपये का नुकसान हो रहा है.

दुनियाभर में 252 अरब डॉलर का नुकसान-कोरोना वायरस महामारी से दुनियाभर की विमानन कंपनियों की यात्रियों से होने वाली आय में 2020 में 252 अरब डॉलर का नुकसान होने का अनुमान है. विमानन कंपनियों की अंतरराष्ट्रीय संस्था आईएटीए के निदेशक ने मंगलवार को यह बात कही. इंटरनेशनल एयर ट्रांसपोर्ट एसोसिशन (आईएटीए) के निदेशक एलेक्जेंडर डी जुनियाक ने कहा, ‘कोरोना वायरस महामारी के व्यापक प्रसार को देखते हुए पांच मार्च को हमारा आकलन था कि इससे विमानन कंपनियों को 113 अरब डॉलर की आय का नुकसान होगा.'

200 से अधिक विमान बंद- कोरोनावायरस कै कारण भारत में 200 से अधिक विमान बंद पड़ हुआ है. माना जा रहा था कि 31 मार्च के बाद विमान फिर से उड़ना भरना शुरू करेगा, लेकिन लॉकडाउन की अवधि बढ़ने के कारण इसमें और देरी हो सकती है.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें