1. home Hindi News
  2. world
  3. pakistan news in hindi imran khan decided to seek vote of confidence pak army officials isi chief bharat amh

हिल गई इमरान खान की कुर्सी! बोले पाकिस्तानी पीएम- जब मैं भारत से खेलकर आता था तो...

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Imran Khan, ISI, Pakistan Tehreek-e-Insaf
Imran Khan, ISI, Pakistan Tehreek-e-Insaf
twitter
  • सरकार की वैधता साबित करने के लिए शनिवार को विश्वास मत

  • प्रधानमंत्री इमरान खान को बड़ा झटका

  • शनिवार को नेशनल असेंबली का सत्र

क्या पाकिस्तान में इमरान खान की सरकार गिर जाएगी? ये सवाल इसलिए खड़ा हो रहा है क्योंकि सीनेट में एक कड़े मुकाबले में वित्त मंत्री के चुनाव हारने के बाद इस्तीफे के बढ़ते दबाव के बीच पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने गुरुवार को कहा कि वह अपनी सरकार की वैधता साबित करने के लिए शनिवार को विश्वास मत का सामना करेंगे.

खान ने राष्ट्र के नाम संबोधन के दौरान यह घोषणा की. साथ ही ‘लोकतंत्र का मजाक बनाने' के लिए महागठबंधन की आलोचना की और कहा कि वह भ्रष्टाचारियों को नहीं छोड़ेंगे. वित्त मंत्री अब्दुल हफीज शेख को बुधवार को सीनेट चुनाव में मिली हार के मद्देनजर अपनी सरकार की वैधता को बरकरार रखने के लिए विश्वास मत हासिल करने से पहले खान ने यह संबोधन दिया. अपने संबोधन में उन्होंने यह भी कहा कि 80 के दशक में जब वह हिन्दुस्तान से खेलकर पाकिस्तान जाते थे तो लगता था कि गरीब मुल्क से अमीर मुल्क में पहुंचे हैं. कभी पाकिस्तान की मिसाल दी जाती थी.

पाकिस्तान डेमोक्रेटिक मूवमेंट (पीडीएम) के उम्मीदवार और पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी ने बुधवार को पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के उम्मीदवार शेख को हराकर प्रधानमंत्री खान को एक बड़ा झटका दिया, जिन्होंने अपने मंत्रिमंडल सहयोगी के लिए व्यक्तिगत रूप से प्रचार किया था.

पीडीएम, खान की सरकार को गिराने के लिए पिछले साल सितंबर में गठित 11-दलीय गठबंधन है. क्रिकेटर से नेता बने 68 वर्षीय खान ने कहा कि मैं परसों (शनिवार) विश्वास मत हासिल करूंगा. मैं अपने सदस्यों से यह दिखाने के लिए कहूंगा कि उनका मुझ पर विश्वास है. अगर वे कहते हैं कि उन्हें कोई भरोसा नहीं है, तो मैं विपक्षी बेंच पर बैठूंगा.

खान ने कहा कि अगर मैं सरकार से बाहर होता हूं, तो मैं लोगों के पास जाऊंगा और उन्हें देश के लिए अपना संघर्ष जारी रखने के लिए कहूंगा. मैं इन गद्दारों (जिन्होंने देश को लूटा है) को शांति से नहीं बैठने दूंगा. मैं उन्हें गद्दार कहता हूं क्योंकि वे लुटेरे हैं. आपको बता दें कि 342 सदस्यीय नेशनल असेंबली में खान की पार्टी के 157 सदस्य हैं. निचले सदन में विपक्षी पीएमएल-एन और पीपीपी के क्रमशः 84 और 54 सदस्य हैं.

राष्ट्रपति आरिफ अल्वी को शनिवार को नेशनल असेंबली का सत्र बुलाने के लिए कहा गया है. साथ ही सत्तारूढ़ दल और उसके सहयोगियों के सदस्यों को शनिवार को इस्लामाबाद में मौजूद रहने के निर्देश दिए गए हैं. इस बीच, प्रधानमंत्री खान ने सीनेट चुनाव का उल्लेख करते हुए इसमें भ्रष्टाचार के आरोप लगाए और उन्होंने सीनेटर बनने के लिए अन्य को रिश्वत देने के आरोप भी लगाए.

भाषा इनपुट के साथ

Posted By : Amitabh Kumar

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें