1. home Home
  2. world
  3. omicron variant cases increase in uk 22 new case in britain new guidelines issued in india prt

Omicron Variant: UK में तेजी से फैल रहा ओमिक्रॉन, संक्रमितों की संख्या बढ़कर हुई 22, भारत में नई गाइडलाइन जारी

यूके में कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन के 22 नये माामले सामने आये हैं. सार्नजनिक जगहों पर अब मास्क लगाना अनिवार्य हो गया है. टीके की वूस्टर डोज लगवाने की अपील.

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
Omicron Variant: यूके में तेजी से फैल रहा ओमिक्रॉन
Omicron Variant: यूके में तेजी से फैल रहा ओमिक्रॉन
pti

Omicron Variant: यूनाइटेड किंगडम में कोरोना वायरस के नये वेरिएंट ओमिक्रॉन के 22 मामले सामने आये हैं. ब्रिटेन में यह वेरिएंट तेजी से पांव पसार रहा है. मंगलवार को स्कॉटलैंड में तीन नए मामले आने के बाद कुल मामलो की संख्या 14 हो गई थी, जो अब बढ़कर 22 हो गई है. इसी के साथ एक बार फिर इंग्लैंड में सार्वजनिक स्थलों पर मास्क पहनने को अनिवार्य कर दिया गया है.

ओमिक्रोन को लेकर ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने देश वासियों से सावधान रहने और प्रोटोकॉल का पालन करने की अपील की है. उन्होंने कहा है कि कोरोना के इस वेरिएंट से बचाव की हर संभव कोशिश की जा रही है. उन्होंने लोगों से टीके की वूस्टर डोज लगवाने की भी अपील की है. वहीं, फ्रांस और जापान में भी ओमिक्रोन से जुड़े पहले मामले की पुष्टि हो गई है. जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल 16 राज्यों के गवर्नर के साथ ओमिक्रोन को लेकर बैठक करेंगी.

इधर, कोरोना के ओमिक्रोन वैरिएंट के प्रभाव को देखते हुए भारत सरकार भी अलर्ट मोड पर आ गयी है. सरकार ने अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए भारत आने से जुड़े नियमों में बदलाव किये हैं. इसको लेकर संशोधित गाइडलाइन आज यानी बुधवार से प्रभावी हो जायेगी. यात्रियों को सफर शुरू करने से पहले अपनी ट्रेवल हिस्ट्री और निगेटिव आरटी-पीसीआर रिपोर्ट केंद्र सरकार के एयर सुविधा पोर्टल पर अपलोड करनी होगी.

ओमिक्रोन मामूली बीमारी का कारण-रिपोर्ट: ओमिक्रोन वैरिएंट को समझने के मामले में यह बहुत शुरुआती दिन है. सेंटर फॉर प्लेनेटरी हेल्थ एंड फूड सिक्योरिटी, ग्रिफिथ यूनिवर्सिटी साउथ ईस्ट क्वींसलैंड (ऑस्ट्रेलिया) के निदेशक हामिश मैक्कलम ने बताया कि अफ्रीका से मिले बहुत शुरुआती संकेत बताते हैं कि यह विशेष रूप से गंभीर बीमारी का कारण नहीं बनता है. उन्होंने कहा कि एक बार आबादी में स्थापित हो जाने के बाद वायरस का कम प्रभावी (अर्थात कम गंभीर बीमारी का कारण) होना बहुत आम है.

Posted by: Pritish Sahay

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें