33.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

वाराणसी: नए साल पर नहीं कर पाएंगे बाबा काशी विश्वनाथ का स्पर्श दर्शन, मंदिर आने से पहले जरूर जानें ये बात

श्रीकाशी विश्वनाथ का एक जनवरी को स्पर्श दर्शन पर पूरी तरह से रोक रहेगी. बाबा विश्वनाथ का झांकी दर्शन ही होगा. यह निर्णय श्रद्धालुओं की भारी भीड़ के मद्देनजर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की बैठक में लिया गया है.

श्रीकाशी विश्वनाथ (Shri Kashi Vishwanath) का साल के पहले दिन दर्शन-पूजन के लिए नई व्यवस्थाएं लागू कर दी गईं हैं. एक जनवरी (1st January) को बाबा विश्वनाथ के स्पर्श दर्शन पर पूरी तरह से रोक रहेगी. बाबा विश्वनाथ का झांकी दर्शन ही होगा. यह निर्णय श्रद्धालुओं की भारी भीड़ के मद्देनजर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की बैठक (Police and Administrative Officials Meeting) में लिया गया है. साथ ही श्रद्धालुओं से अपील की गई है कि वह अनावश्यक सामान लेकर बाबा के दरबार न आएं. ताकि उन्हें दर्शन-पूजन में असुविधा न हो. कमिश्नर कौशल राज शर्मा (Commissioner Kaushal Raj Sharma) की अध्यक्षता में पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की बैठक शनिवार को श्री काशी विश्वनाथ धाम में हुई. बैठक में तय किया गया कि एक जनवरी को वीआईपी, बुजुर्ग और दिव्यांग श्रद्धालुओं के लिए गोदौलिया चौराहा और मैदागिन चौराहा पर ई-रिक्शा व गोल्फ कार्ट उपलब्ध कराई जाएगी. पासधारक नियमित दर्शनार्थियों को मंगला आरती के बाद नंदू फारिया गली से विश्वनाथ धाम में प्रवेश दिया जाएगा. सुरक्षा व्यवस्था के नाम पर किसी भी श्रद्धालु के साथ दुर्व्यवहार की शिकायत नहीं आने दी जाएगी. बैठक में अपर पुलिस आयुक्त (कानून एवं व्यवस्था) एस. चनप्पा, धाम के मुख्य कार्यपालक अधिकारी सुनील कुमार वर्मा और एसीपी दशाश्वमेध अवधेश कुमार पांडेय के साथ ही पुलिस-प्रशासन के अन्य अधिकारी मौजूद रहे.

Also Read: Ayodhya: वाराणसी से अयोध्या की दूरी 25 मिनट में होगी पूरी, काशी विश्वनाथ के बाद रामलला के दर्शन होंगे आसान
गर्भगृह में ऐसे मिलेगा प्रवेश

वहीं श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर के मुख्य कार्यपालक अधिकारी सुनील कुमार वर्मा ने बताया कि जो श्रद्धालु मैदागिन की ओर से आएंगे, उन्हें गेट नंबर 4 से मंदिर परिसर में प्रवेश मिलेगा. यहां से आने वाले भक्त गर्भ गृह के उत्तरी द्वार पर दर्शन करेंगे. गंगा द्वार से आने वाले श्रद्धालु गर्भ गृह के पूर्वी ओर सरस्वती फाटक गेट नंबर 2 से गर्भ गृह के दक्षिणी द्वार पर से दर्शन और जलाभिषेक करेंगे. ढूंढी राज प्रवेश द्वार से आने वाले श्रद्धालुओं को गर्भ गृह के पश्चिमी द्वार से दर्शन करने की व्यवस्था की गई है. विश्वनाथ मंदिर में श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए पेयजल व्यवस्था, बैरिकेडिंग पब्लिक अनाउंसमेंट सिस्टम आदि का भी इंतजाम किया गया है. इस दौरान अपर पुलिस आयुक्त एस. चिनप्पा ने सभी अधिकारियों को वाहन गेट नंबर 4 तक न लाने का निर्देश दिया है. वहीं गोदौलिया और गंगा घाट के साथ ही मैदागिन चौराहे पर एक्स्ट्रा पुलिस फोर्स लगाकर दर्शनार्थियों की भीड़ को कतारबद्ध करने का निर्देश पुलिस के अधिकारियों को दिया है.

Also Read: वाराणसी: नए साल पर बाबा काशी विश्वनाथ मंदिर में ऑनलाइन रुद्राभिषेक कर सकेंगे श्रद्धालु, ऐसे करें बुकिंग
गोदौलिया पर उपलब्ध रहेगी व्हील चेयर

बता दें कि बुजुर्ग, बीमार और दिव्यांग दर्शनार्थियों के लिए गिरजाघर और गोदौलिया चौराहा पर व्हील चेयर उपलब्ध रहेगी. इस संबंध में एसीपी दशाश्वमेध अवधेश कुमार पांडेय ने व्हील चेयर संचालकों को शनिवार को हिदायत दी कि किसी से मनमाना किराया न वसूला जाए. गिरजाघर/गोदौलिया चौराहा से दशाश्वमेध घाट तक प्रति व्यक्ति व्हील चेयर से आने-जाने व दर्शन का 200 रुपए किराया लगेगा. गिरजाघर/गोदौलिया चौराहा से विश्वनाथ धाम तक प्रति व्यक्ति आने-जाने व दर्शन का 400 रुपए किराया लगेगा. वहीं, गिरजाघर/गोदौलिया चौराहा से कालभैरव मंदिर तक प्रति व्यक्ति आने-जाने व दर्शन का किराया 600 रुपए है.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें