1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. west bengal election 2021 in bankura praising tmc candidate sayantika banerjee by cm mamata banerjee will work

Bengal Election 2021: बांकुड़ा में TMC कैंडिडेट सायंतिका की तारीफ, ममता बनर्जी के लिए कितना होगा फायदेमंद ?

By Guest Contributor
Updated Date
बांकुड़ा में TMC कैंडिडेट सायंतिका की तारीफ ममता बनर्जी के लिए होगी कारगर साबित !
बांकुड़ा में TMC कैंडिडेट सायंतिका की तारीफ ममता बनर्जी के लिए होगी कारगर साबित !
social media

Bengal Election 2021: बांकुड़ा विधानसभा सीट पर दूसरे चरण में चुनाव होने वाला है. रांगामाटी देश के नाम से परिचित बांकुड़ा से टीएमसी ने टाॅलीवुड एक्ट्रेस सायंतिका बनर्जी को चुनावी मैदान में उतारा है. बांकुड़ा में चुनाव प्रचार में उतरी टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी ने सायंतिका की खूब प्रशंसा की. सायंतिका की तारीफ ममता बनर्जी के लिए कारगर साबित होती है या नहीं, यह अब समय की बात रह गयी है.

चुनावी जनसभा से ममता बनर्जी ने कहा सायंतिका उनकी पसंदीदा कैंडिडेट है. उसे कोई साधारण युवती समझने की गलती ना करें. उसके पिता पुलिस में रह चुके हैं. अभी स्पोर्ट्स से जुड़े हुए हैं. सायंतिका को वोट देकर बांकुड़ा की जनता कोई भूल नहीं करेगी. उसे मिलने वाला वोट आखिर मुझे ही मिलेगी. सायंतिका की प्रशंसा को लेकर ममता बनर्जी की चुनावी रणनीति को लेकर भी लेकर सियासी हलकों में चर्चा भी तेज हो गयी.

बांकुड़ा सीट भी इस बार टीएमसी के लिए काफी महत्वपूर्ण सीट मानी जा रही है. दरसअल, लोकसभा चुनाव में बांकुड़ा में मोदी की हवा थी और यहां से बीजेपी को काफी बढ़त मिली थी. बीजेपी की बढ़त में टीएमसी के आपसी विवाद का भी हाथ था. इस बार भी ठीक इसी तरह की स्थिति टीएमसी के सामने आ रही है. इस बार टीएमसी की शम्पा दरिपा को टिकट नहीं दिया गया.

टिकट ना मिलने पर शम्पा ने टीएमसी छोड़ने का भी निर्णय ले लिया था लेकिन बाद में टीएमसी ने उसे समझा लिया था. मगर टीएमसी इस बार कोई चूक नहीं छोड़ना चाहती है. पार्टी में विद्रोह की वजह से सीट ना गंवानी पड़े, इसके लिए चुनावी सभा से ही ममता बनर्जी ने शम्पा दरिपा को भी खुश रखने की कोशिश की. उन्होंने कहा शम्पा बहुत अच्छी महिला है. उसे इस बार टिकट नहीं दिया गया यह सच बात है. मगर पार्टी उसे बहुत महत्वपूर्ण कार्य का दायित्व सौंपने वाली है.

ममता बनर्जी ने कहा मेरे लिए मेरे कार्यकर्ता ही संपत्ति है. मैं अपने कार्यकर्ताओं को लेकर आगे बढ़ती हूं जो दूसरी पार्टियां नहीं करती है. बता दें कि शम्पा ने बीजेपी में जाने की कोशिश की थी लेकिन टीएमसी ने मामला सुलझा लिया. चुनाव में इसका असर ना पड़े, इसलिए बांकुड़ा में कैंडिडेट की प्रशंसा के साथ ही विद्रोही समर्थकों को भी करीब रखने के लिए ममता बनर्जी की रणनीति कितना कारगर साबित होती है, इसका पता 2 मई को ही चलेगा.

Posted by : Babita Mali

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें