1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. west bengal coal and cattle smuggling hearing on arresting of vinay mishra in calcutta high court mtj

कोयला व पशु तस्करी मामला : विनय मिश्रा को गिरफ्तारी से मिलेगा संरक्षण या नहीं, सुनवाई 9 को

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
सीबीआई से बचने के लिए तरह-तरह की जुगत भिड़ा रहा विनय मिश्रा
सीबीआई से बचने के लिए तरह-तरह की जुगत भिड़ा रहा विनय मिश्रा
Prabhat Khabar

कोलकाता : कोयला व पशु तस्करी मामले के आरोपी और ममता बनर्जी के भतीजा अभिषेक बनर्जी के करीबी माने जाने वाले तृणमूल युवा कांग्रेस के नेता विनय मिश्रा को गिरफ्तारी से संरक्षण मिलेगा या नहीं, इस पर कलकत्ता हाइकोर्ट में सुनवाई होगी. साथ ही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये मामले की सुनवाई पर भी चर्चा होगी. आरोपी विनय मिश्रा के वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने हाइकोर्ट में इस संबंध में याचिका दायर की है.

विनय के वकील की याचिका को जस्टिस तीर्थंकर घोष ने स्वीकार कर लिया है और सुनवाई के लिए बुधवार (9 जून) का दिन तय किया है. इससे पहले मुख्य आरोपी की अंतरिम जमानत की मियाद भी बढ़ाने की अपील उसके एक अन्य वकील सिद्धार्थ लूथरा ने की है. हालांकि, जज ने फैसला नहीं सुनाया. मामले पर अगली सुनवाई बुधवार को होगी.

आरोपी के वकील की दलील है कि उनका मुवक्किल भारत का निवासी नहीं है. कहा जा रहा है कि उसने भारत सरकार से अपनी नागरिकता रद्द करने की अपील की है. सीबीआई को पता चला है कि आरोपी विनय मिश्रा ने 5 सितंबर 2018 से प्रशांत महासागर के एक द्वीप वानुअतु की नागरिकता ले ली है.

मामले में केंद्रीय एजेंसी ने विदेश मंत्रालय से भी संपर्क साधा है. उल्लेखनीय है कि आरोपी फिलहाल कोयला चोरी मामले में अंतरिम जमानत पर है. चूंकि उसके खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी हुआ है, इसलिए कई विकल्प हैं. आरोपी के वकील ने कोर्ट से अपील की है कि कोरोना संक्रमण की स्थिति में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये सुनवाई की इजाजत दी जाये.

अधिकारियों के अनुसार, तस्करी की बड़ी राशि विनय मिश्रा के जरिये रसूखदारों के पास जाती थी. सीबीआई के गुप्तचरों का दावा है कि विनय मिश्रा तस्करी गिरोह का सरगना है. इंटरपोल का रेड कॉर्नर नोटिस जारी होने के बाद भी विनय मिश्रा पकड़ में नहीं आया है.

सीबीआई ने न्यायाधीश को सूचित किया है कि आरोपी का दावा अनुचित है. वह भारत का निवासी है. बचाव पक्ष का यह भी तर्क है कि सीबीआई ने काफी देर से केस दर्ज किया. पहली दो प्राथमिकी में उसका नाम भी नहीं था. गौरतलब है कि सीबीआई को लंबे समय से मवेशी व कोयला तस्करी में आरोपी व्यवसायी विनय मिश्रा की तलाश है.

अधिकारियों के अनुसार, तस्करी की बड़ी राशि विनय मिश्रा के जरिये रसूखदारों के पास जाती थी. सीबीआई के गुप्तचरों का दावा है कि विनय मिश्रा तस्करी गिरोह का सरगना है. इंटरपोल का रेड कॉर्नर नोटिस जारी होने के बाद भी विनय मिश्रा पकड़ में नहीं आया है.

Posted By: Mithilesh Jha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें