1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. so caouse notice to sabyasachi dutta for making anti party statements former tmc leader may leave bjp mtj

सब्यसाची दत्त भी भाजपा से नाता तोड़ने की तैयारी में, पार्टी ने भेजा कारण बताओ नोटिस

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
सब्यसाची दत्त
सब्यसाची दत्त
File Photo

कोलकाता : मुकुल रॉय के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से नाता तोड़ लेने के बाद उनके करीबी माने जाने वाले पूर्व विधायक सब्यसाची दत्त भी भगवा दल से नाता तोड़ने की तैयारी कर रहे हैं. ऐसी अटकलें तेज हैं. एक दिन पहले ही उन्होंने पार्टी नेतृत्व की कार्यशैली पर सवाल खड़े किये थे.

सब्यसाची दत्त लगातार केंद्रीय नेताओं की कार्यशैली पर भी सवाल खड़े करते रहे हैं. शुक्रवार को जब भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल रॉय ने ममता बनर्जी की मौजूदगी में तृणमूल कांग्रेस में वापसी की, तो प्रदेश भाजपा ने सब्यसाची के खिलाफ कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया.

सब्यसाची को नोटिस का जवाब देने के लिए दो दिन की मोहलत दी गयी है. नोटिस में सब्यसाची से पूछा गया है कि दलविरोधी बयान देने और पार्टीविरोधी कार्यों की वजह से क्यों न उनके खिलाफ कार्रवाई की जाये. माना जा रहा है कि सब्यसाची दत्त भी मुकुल रॉय की राह पर चल सकते हैं.

हालांकि, सब्यसाची ने सफाई भी दे दी है. उन्होंने कहा है कि ये सब बस अटकलें हैं. न तो तृणमूल कांग्रेस के किसी नेता ने अब तक यह कहा है कि मैं उनकी पार्टी में शामिल हो रहा हूं, न ही मैंने अब तक किसी से कहा है कि मैं तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने जा रहा हूं. मैं भाजपा के साथ हूं और मेरी तृणमूल में जाने की कोई योजना नहीं है.

ज्ञात हो कि शुक्रवार को अपने बेटे शुभ्रांशु रॉय के साथ तृणमूल कांग्रेस में वापसी के बाद मुकुल रॉय ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा था कि भाजपा से कई लोग टीएमसी में आयेंगे. उन्होंने यहां तक कहा कि भाजपा में अभी जो हालात हैं, वहां कोई भी नहीं रह जायेगा. ममता बनर्जी ने भी कहा कि अभी और कई लोग तृणमूल में शामिल होंगे.

उल्लेखनीय है कि बंगाल विधानसभा चुनाव 2021 से पहले बड़ी संख्या में तृणमूल से नाराज होकर लोग भाजपा में शामिल हुए थे. इनमें से कई को भगवा दल ने अपना उम्मीदवार भी बनाया. कई लोगों को टिकट नहीं मिले. भाजपा भी चुनाव में आशा के अनुरूप प्रदर्शन नहीं कर पायी.

प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता में लौटी तृणमूल कांग्रेस

बंगाल चुनाव 2021 में 200 से अधिक सीटें जीतने के इरादे से पूरे दम-खम के साथ मैदान में उतरी भारतीय जनता पार्टी सिर्फ 77 सीटें ही जीत पायी. जब भाजपा सरकार नहीं बना पायी और ममता बनर्जी प्रचंड बहुमत के साथ लगातार तीसरी बार बंगाल की सत्ता पर काबिज हुईं, तो उनकी पार्टी छोड़कर भागे लोगों ने घरवापसी की गुहार लगानी शुरू कर दी.

ममता बनर्जी ने शुक्रवार को मुकुल रॉय को पार्टी में शामिल करने के बाद कहा कि अभी और लोग पार्टी में शामिल होंगे. साथ ही उन्होंने कहा कि वह गद्दारों को पार्टी में शामिल नहीं करेंगी. जिन लोगों ने पार्टी के खिलाफ तल्ख टिप्पणी की है, उनके लिए तृणमूल कांग्रेस के दरवाजे बंद हैं.

Posted By: Mithilesh Jha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें