1. home Hindi News
  2. state
  3. west bengal
  4. calcutta
  5. cbi court granted bail to four including three trinamool ministers in narada sting operation case ksl

नारदा स्टिंग ऑपरेशन मामले में तृणमूल के तीन मंत्रियों समेत चार को सीबीआई कोर्ट ने दी जमानत, टीएमसी कार्यकर्ताओं के हंगामे पर राज्यपाल ने जतायी चिंता

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर
Prabhat Khabar

कोलकाता : नारदा स्टिंग ऑपरेशन मामले में सीबीआई द्वारा गिरफ्तार किये गये पश्चिम बंगाल के सभी चारो मंत्रियों को सोमवार की शाम को जमानत मिल गयी. मालूम हो कि आज सुबह ही सीबीआई ने चारो मंत्रियों को गिरफ्तार किया था. मंत्रियों की गिरफ्तारी के बाद तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के कार्यकर्ताओं ने कोलकाता स्थित सीबीआई कार्यालय के बाहर प्रदर्शन करते हुए नारेबाजी की थी. टीएमसी कार्यकर्ताओं के हंगामे पर पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने चिंता जतायी है.

जानकारी के मुताबिक, नारदा स्टिंग मामले में केंद्रीय जांच ब्यूरो ने मंत्री फिरहाद हकीम, मंत्री सुब्रत बनर्जी् विधायक मदन मित्रा और पूर्व मंत्री सोवन चटर्जी को सोमवार की सुबह गिरफ्तार किया. इसके बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी कोलकाता के निजाम पैलेस स्थित सीबीआई कार्यालय पहुंची. ममता बनर्जी ने पार्टी नेताओं व मंत्री की गिरफ्तारी का विरोध किया. साथ ही कहा कि सीबीआई को उन्हें भी गिरफ्तार करना होगा. उसके बाद पार्टी कार्यकर्ताओं का हुजूम लग गया. पार्टी कार्यकर्ताओं ने हंगामा करते हुए जमकर नारेबाजी की. इस दौरान पत्थरबाजी किये जाने के बाद सुरक्षाबलों ने लाठीचार्ज भी किया.

मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने सोमवार की शाम को ही चारो आरोपितों को जमानत दे दी. सूत्रों के मुताबिक सीबीआई मामले को लेकर हाई कोर्ट जा सकती है. मालूम हो कि नारदा स्टिंग ऑपरेशन 2016 में हुआ था. राज्यपाल ने हाल ही में जांच की अनुमति दी थी. इसके बाद सीबीआई ने टीएमसी नेताओं के घर छापेमारी कर गिरफ्तार किया था.

सीबीआई कार्यालय के बाहर टीएमसी कार्यकर्ताओं के हंगामे के बाद राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने कहा है कि ''अराजकता... ममता बनर्जी से संवैधानिक मानदंडों और कानून के शासन का पालन करने का आह्वान पालन करें. कोलकाता पुलिस और बंगाल के गृह मंत्रालय को कानून-व्यवस्था बनाये रखने के लिए सभी कदम उठाये जाने चाहिए. दुखद है कि अधिकारियों द्वारा ठोस कार्रवाई नहीं होने के कारण स्थिति को बिगड़ने दिया जा रहा है.

साथ ही कहा है कि पुलिस और प्रशासन मौन मोड में है. आप इस तरह की अराजकता और संवैधानिक तंत्र की विफलता के परिणामों को महसूस करेंगे. मिनट दर मिनट बिगड़ती जा रही इस विस्फोटक स्थिति को प्रतिबिंबित और नियंत्रित करने का समय आ गया है. सीबीआई कार्यालय में आगजनी और पथराव देखा. दयनीय है कि पुलिस सिर्फ दर्शक हैं. अपील है कि कानून-व्यवस्था बहाल करें.''

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें