25.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

सिउड़ी सहकारी बैंक में सीबीआई ने फर्जी अकाउंट से करोड़ों के ट्रांजैक्शन का किया पर्दाफाश

पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले के सिउड़ी थाना क्षेत्र सिउड़ी सहकारी बैंक में केंद्रीय जांच एजेंसी के अधिकारी ने जांच के दौरान गुरुवार को 177 फर्जी बैंक अकाउंट का पर्दाफाश किया था.

पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले के सिउड़ी थाना क्षेत्र विवेकानंद रोड स्थित सिउड़ी सहकारी बैंक में केंद्रीय जांच एजेंसी के अधिकारी ने जांच के दौरान गुरुवार को 177 फर्जी बैंक अकाउंट का पर्दाफाश किया था. इस मामले की पड़ताल करने पर फर्जी बैंक अकाउंट को लेकर सिउड़ी दो नंबर ब्लॉक के हरिपुर ग्राम निवासी ममता मिद्धा और सुंदरी बास्की ने बताया की उन्हें तो पता भी नही है की उनके नाम पर सिउड़ी समवाय बैंक में अकाउंट भी है. सुंदरी का आरोप है की वह पढ़ना लिखना भी नहीं जानती. उसका किसी बैंक में कोई अकाउंट भी नही है. किसने उक्त अकाउंट खोला है, उसे नही पता. वही ममता मिद्धा ने भी बताया की उक्त बैंक में उसने कोई अकाउंट ही नहीं खोला है .उनके घर के पास ही एक बैंक में उनका एक अकाउंट है. किसने उक्त अकाउंट खोला और करोड़ों करोड़ों रूपयो का ट्रांजैक्शन किया उन्हें इसकी कोई जानकारी नहीं है. बताया जाता है की अब सीबीआई इन सब फर्जी नाम से खोले गए अकाउंट को लेकर जांच पड़ताल में जुट गई है.

Also Read: West Bengal : हिंदी भाषियों ने लिया निर्णय : कम्युनिटी सेंटर मिले पानागढ़ हिंदी हाई स्कूल को
सीबीआई को गुप्त सूत्रों से गुप्त सूत्रों से मिली थी जानकारी

सीबीआई को गुप्त सूत्रों से जानकारी मिली थी कि बैंक में कुछ ऐसे खाते हैं जिनके मालिक वास्तव में मौजूद ही नहीं हैं. पता चला है कि इस बैंक में करीब 177 फर्जी खाते खोले गए हैं. छापेमारी के बाद जब सीबीआई अधिकारियों ने बैंक अधिकारियों से पूछताछ शुरू की तो उनके बयानों में कई तरह की विसंगतियां देखने को मिलीं. वे सीबीआई की किसी भी तरह की मदद करने को तैयार नहीं थे. बाद में जब सीबीआई ने इन सभी को गिरफ्तार करने की धमकी दी तो वे डर गए और उन खातों के दस्तावेज सीबीआई को सौंप दिए. इस जांच के प्रमुख सुशांत भट्टाचार्य हैं.

177  फर्जी खाते का सीबीआई करेंगी जांच

बीरभूम जिला सहकारी बैंक का कारनामा गौ तस्करी के मामले की जांच के हित में सामने आया है. सुशांत भट्टाचार्य के नेतृत्व में कुल तीन सदस्यों ने बैंक में धावा बोल दिया था. पहले चरण में उन्हें 177 फर्जी खाते मिले है. करीब तीन घंटे की तलाश के बाद सनसनीखेज जानकारी सामने आई.उन 177 खातों पर केवल एक व्यक्ति के हस्ताक्षर हैं. और ऐसा लगता है कि इन खातों से अनुब्रत मंडल के साथ है.

खातों से अब तक करीब 10 करोड़ रुपये का हुआ ट्रांजैक्शन

इन खातों से अब तक करीब 10 करोड़ रुपये ट्रांजैक्शन हो चुके हैं. सीबीआई के अधिकारी खाते के सभी दस्तावेज एकत्र करने के बाद शाम करीब साढ़े छह बजे सहकारी बैंक से निकले थे. हालांकि, सीबीआई अधिकारियों ने अभी तक यह खुलासा नहीं किया है कि वास्तव में इन खातों पर किसके हस्ताक्षर हैं. हालांकि, यह ज्ञात है कि इस खाते के साथ राज्य खाद्य विभाग का घनिष्ठ संबंध है.माना जाता है कि इन खातों का इस्तेमाल गरीब लोगों से कम कीमत पर धान खरीदकर और उसे खाद्य विभाग को ऊंचे दामों पर बेचने से जमा हुए काले धन को सफेद करने के लिए किया जाता था .खोजी सूत्रों के मुताबिक, ये खाते मुख्य रूप से 2020 से 2021 के बीच खोले गए थे.जब यांग गुरुंग नाम के शख्स को बैंक का मैनेजर नियुक्त किया गया था.

Also Read: अनुब्रत को फिर नहीं मिली बेल, 19 जनवरी तक रहेंगे जेल हिरासत में

रिपोर्ट : मुकेश तिवारी पानागढ़

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें