1. home Home
  2. state
  3. up
  4. up vidhan sabha chunav 2022 suheldev bhartiya samaj party op rajbhar on alliance with samajwadi party bjp sbsp bsp acy

UP Chunav 2022 : सपा छोटे दलों से समझौता कर ले, तो पूर्वी यूपी में BJP को नहीं मिलेगी एक भी सीट, राजभर का दावा

सुभासपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओपी राजभर ने दावा किया है कि अगर सपा छोटे दलों से गठबंधन कर ले भाजपा को पूर्वी उत्तर प्रदेश में एक भी सीट नहीं मिलेगी. उन्होंने कहा कि सपा का गठबंधन चुनाव परिणाम बदल देगा.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
OP Rajbhar met Swatantra Dev Singh
OP Rajbhar met Swatantra Dev Singh
Internet

UP Vidhan Sabha Chunav 2022: सुहेलदव भारतीय समाज पार्टी (Suheldav Bhartiya Samaj Party) के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर (Om Prakash Rajbhar) ने बड़ा़ दावा किया है. उन्होंने कहा है कि अगर समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) छोटे दलों से समझौता कर ले तो पूर्वी उत्तर प्रदेश में भाजपा को एक भी सीट नहीं मिलेगी. उनका कहना है कि मौजूदा योगी सरकार (Yogi Government) से प्रदेश की जनता बेहद नाराज है.

इन सीटों पर ही रहेगी लड़ाई

ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि अगर सपा क्षेत्रीय पार्टियों से समझौता कर ले तो विधानसभा चुनाव परिणाम बदल जाएगा. वह केवल हमसे ही समझौता कर ले तो मऊ, गाजीपुर, बलिया, आजमगढ़, अंबेडकर नगर आदि जिलों में बीजेपी शून्य पर सिमट कर रह जाएगी. उसे एक भी सीट नहीं मिलेगी. लड़ाई सिर्फ वाराणसी में दो सीटों पर होगी.

बसपा का वो क्रेज नहीं, जो सपा का है

ओपी राजभर ने कहा कि बीजेपी को टक्कर देने के लिए हमने जो संकल्प भागीदारी मोर्चा बनाया है, उसमें अभी अन्य दल और आ सकते हैं. हमारा मोर्चा काफी मजबूत है. उन्होंने कहा कि जनता को लगता है कि बीजेपी को टक्कर सिर्फ सपा ही दे सकती है. बसपा का वो क्रेज नहीं है, जो सपा का है.

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष से की थी मुलाकात

बता दें, इससे पहले ओपी राजभर ने लखनऊ में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह से मुलाकात की थी, जिसके बाद से यह कयास लगाए जाने लगे कि वे जल्द ही भाजपा में शामिल हो सकते हैं. वहीं राजभर ने कहा था कि यह एक औपचारिक मुलाकात है. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि राजनीति में कुछ भी संभव है.

कौन हैं ओपी राजभर?

ओपी राजभर वाराणसी जिले के मूल निवासी हैं. वह गाजीपुर जिले की जहूराबाद विधानसभा सीट से 2017 में निर्वाचित हुए थे. सुभासपा का मुख्यालय बलिया जिले के रसड़ा में है. वह जिस राजभर बिरादरी से आते हैं, उसकी पूर्वी उत्तर प्रदेश के जिलों में अच्छी संख्या है. ओपी राजभर का दावा है कि बहराइच से बलिया तक पूर्वी उत्तर प्रदेश में उनके समुदाय की आबादी 12 फीसद है. यही नहीं, 403 सदस्यों वाली विधानसभा में पूर्वी यूपी से लगभग 150 सीट हैं.

2017 में 4 सीटों पर मिली थी जीत

ओम प्रकाश राजभर ने 2017 का विधानसभा चुनाव बीजेपी के साथ मिलकर लड़ा था. इस चुनाव में उनकी पार्टी को 4 सीटों पर जीत हासिल हुई थी. योगी सरकार में उन्हें कैबिनेट मंत्री बनाया गया था, लेकिन 2019 लोकसभा चुनाव से पहले उन्होंने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया और अपनी पार्टी को एनडीए गठबंधन से अलग कर लिया.

Posted by : Achyut Kumar

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें