1. home Home
  2. state
  3. up
  4. up news businessman dies due to police beating in gorakhpur akhilesh yadav attacks yogi bjp government acy

गोरखपुर में पुलिस की पिटाई से व्यापारी की मौत, अखिलेश यादव बोले- यूपी को हिंसा में धकेलने वाले इस्तीफा दें

यूपी के गोरखपुर जिले में एक व्यापारी की होटल में मौत हो गई. दोस्तों ने पुलिस की पिटाई से मौत होने का आरोप लगाया है. सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने इस मामले को लेकर बीजेपी सरकार पर हमला बोला है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
up news: youth killed by police beating in gorakhpur
up news: youth killed by police beating in gorakhpur
prabhat khabar

UP News: उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में कानपुर के एक व्यापारी की मौत हो गई. वह दो दोस्तों के साथ गोरखपुर घूमने आया था. दोस्तों का आरोप है कि जांच के नाम पर होटल के कमरे में पहुंची पुलिस ने उसको जमकर पीटा था, जिससे उसकी मौत हो गई. वहीं, पुलिस का कहना है कि व्यापारी बिस्तर उठते ही लड़खड़ाकर गिर गया, जिससे आई चोट से उसकी मौत हुई है. घटना रामगढ़ताल इलाके के तारामंडल रोड स्थित होटल कृष्णा पैलेस में सोमवार देर रात की है. इस मामले को लेकर सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने बीजेपी की योगी सरकार पर हमला बोला है.

पुलिस पिटाई से व्यापारी की मौत के आरोप में इंस्पेक्टर जे एन सिंह, चौकी इंचार्ज फलमंडी अक्षय मिश्र और चार सिपाहियों को निलंबित कर दिया गया है. एसएसपी विपिन ताडा ने पूरे प्रकरण की जांच एसपी उत्तरी को सौंपी है.

एनकाउंटर की हिंसक संस्कृति का दुष्परिणाम

इससे पहले अखिलेश यादव ने ट्वीट कर बीजेपी सरकार पर हमला बोला है. उन्होंने कहा कि गोरखपुर में पुलिस की बर्बरता ने एक युवा व्यापारी की जान ले ली. ये बहुत ही दुखद और निंदनीय है. उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार ने एनकाउंटर की जिस हिंसक संस्कृति को जन्म दिया है, ये उसी का दुष्परिणाम है. संलिप्त लोगों पर हत्या का मुकदमा चले और उत्तर प्रदेश को हिंसा में धकेलने वाले इस्तीफा दें.

क्या है पूरा मामला

बता दें, कानपुर के बर्रा के रहने वाले व्यापारी मनीष गुप्ता अपने दोस्त प्रदीप कुमार और हरवीर सिंह के साथ गोरखपुर घूमने आए थे. सिकरीगंज के महादेवा बाजार के रहने वाले चंदन सैनी से तीनों की पुरानी दोस्ती थी. चंदन ने ही होटल कृष्णा पैलेस में अपने नाम पर कमरा बुक कराया था. सोमवार की रात पुलिस चे‌किंग करने के लिए होटल पहुंची थी. इसी दौरान मनीष रहस्यमय तरीके से गंभीर रूप से जख्मी हो गया. आनन-फानन में पुलिस उसे ‌लेकर जिला अस्पताल पहुंची, जहां से उसे मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया गया. मेडिकल कॉलेज में मनीष की मौत हो गई.

मौत की खबर पाने के बाद जुटे दोस्तों ने होटल के बाहर जमकर हंगामा किया. उनका आरोप था कि पुलिस की पिटाई से मौत हुई है. इस मामले में कार्रवाई होनी चाहिए. वहीं, रामगढ़ताल थाने के इंस्पेक्टर जगत नारायण सिंह का कहना है कि सबके आधार कार्ड चेक किए जा रहे थे. दो युवकों ने तो दिखा दिया, लेकिन तीसरा नशे में सो रहा था. अचानक वह उठा और उसका पैर फिसल गया, जिससे उसे गंभीर चोट आईं. उसे मेडिकल कॉलेज पहुंचाया गया, जहां उसकी मौत हो गई.

एसएसपी डॉ विपिन ताडा ने बताया कि पुलिस होटल के मैनेजर को साथ में लेकर युवक को अस्पताल ले गई थी. मौत का कारण पता लगाने के लिए डॉक्टरों के पैनल से पोस्टमार्टम कराया जाएगा. तीनों युवक गोरखपुर किसलिए आए थे, कितने दिन से ठहरे थे, इसकी भी जांच कराई जा रही है.

मनीष अपने माता-पिता का इकलौता बेटा था. पांच साल पहले ही उसकी शादी हुई थी. परिवार में बीमार पिता और पत्नी के अलावा एक 4 साल का बेटा है. मां की कुछ दिन पहले ही मौत हो चुकी है.

Posted By: Achyut Kumar

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें