1. home Hindi News
  2. state
  3. up
  4. sanjeev balyan latest news clash in soram village under conspiracy incident after declaration from mosque bjp rld jhadap amh

'मस्जिद से ऐलान के बाद मुजफ्फरनगर में हुई झड़प'

By Agency
Updated Date
sanjeev balyan
sanjeev balyan
sanjeev balyan tweet this pic
  • मस्जिद से ऐलान के बाद मुजफ्फरनगर में हुई झड़प

  • घटना विपक्षी दल की पूर्वनियोजित साजिश थी

  • सोरम गांव में भाजपा अैर रालोद समर्थकों के बीच झड़प

उत्तर प्रदेश (uttar npradesh) में मुजफ्फरनगर जिले के सोरम गांव में भाजपा अैर रालोद समर्थकों के बीच हुई झड़प के एक दिन बाद मंगलवार को केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान (sanjeev balyan) ने आरोप लगाया कि यह घटना विपक्षी दल की पूर्वनियोजित साजिश थी और एक मस्जिद से किए गए ऐलान के जरिए उन्हें उकसाया गया.

सोरम गांव में सोमवार को एक कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान का कुछ लोगों ने विरोध किया था, जिसके बाद भाजपा कार्यकर्ता और विरोध कर रहे लोग आपस में भिड़ गए थे. इस घटना में तीन से चार लोग घायल हुए थे. स्थानीय सांसद बालियान ने कहा कि उन्होंने स्थानीय अधिकारियों से मामले की जांच करने का अनुरोध किया है.

राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) प्रमुख अजित सिंह भी मंगलवार को घटना में घायल हुए लोगों को देखने पहुंचे. बालियान ने आरोप लगाया कि झड़प में शामिल लोग किसान नहीं बल्कि रालोद के पदाधिकारी थे। यह पूर्वनियोजित झड़प थी, वरना सोशल मीडिया पर वीडियो तत्काल कैसे सामने आए या रोलाद नेता के ट्वीट तत्काल कैसे सामने आए.

मुजफ्फरनगर में किसानों और भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच झड़प : मेरठ से सटे मुजफ्फरनगर जिले के थाना शाहपुर क्षेत्र के सोरम गांव में सोमवार को एक कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे केंद्रीय राज्य मंत्री संजीव बालियान का कुछ लोगों ने विरोध किया जिसके बाद भाजपा कार्यकर्ता और विरोध कर रहे लोग आपस में भिड़ गए. इस घटना में तीन लोग घायल हो गए. इलाके के थाना प्रभारी संजीव कुमार ने बताया कि राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) के नेता एवं पूर्व मंत्री योगराज सिंह घटना में घायल हुए तीन लोगों को लेकर थाने आए थे, उन्हें मामूली चोटें आई थीं और तीनों को प्राथमिक उपचार के बाद घर भेज दिया गया.

जयंत चौधरी का ट्वीट : झड़प के बाद रालोद नेता जयंत चौधरी ने ट्वीट किया कि सोरम गांव में भाजपा नेताओं और किसानों के बीच संघर्ष हुआ है. कई लोग घायल हैं. किसान के पक्ष में बात नहीं होती तो कम से कम व्यवहार तो अच्छा रखो...किसान की इज़्ज़त तो करो...इन कानूनों के फायदे बताने जा रहे सरकार के नुमाइंदों की गुंडागर्दी बर्दाश्त करेंगे गांववाले?

Posted By : Amitabh Kumar

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें