1. home Hindi News
  2. state
  3. up
  4. lucknow
  5. world menstrual hygiene day 2022 do not compromise on cleanliness during menstruation

World Menstrual Hygiene Day 2022: माहवारी में स्वच्छता से न करें समझौता, भ्रांतियों से बचना भी जरूरी

World Menstrual Hygiene Day 2022 (28 May) समाज में माहवारी के प्रति चुप्पी को तोड़ने के लिए एक प्रयास है. क्योंकि आज भी समाज माहवारी को गंदा समझता है. समाज पूजा न करना, खाना न बनाना, रसोई में न जाना, अलग कमरे में रहना आदि कई प्रकार की भ्रांतियों को मानता है.

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
समुदाय में जागरूकता से दूर होंगी भ्रांतियां
समुदाय में जागरूकता से दूर होंगी भ्रांतियां
प्रभात खबर

Menstrual Hygiene Day 2022: हम सभी जानते है कि 28 मई का दिन माहवारी दिवस के रूप में मनाया जाता है. यह दिवस मुख्य रूप से समाज में माहवारी के प्रति चुप्पी को तोड़ने के लिए एक प्रयास है. क्योंकि आज भी समाज माहवारी को गंदा समझता है और पूजा न करना, खाना न बनाना, रसोई में न जाना, अलग कमरे में रहना आदि कई प्रकार की भ्रांतियों को मानता है.

माहवारी पर चुप्पी तोड़ने के लिये हुये जागरूकता कार्यक्रम
माहवारी पर चुप्पी तोड़ने के लिये हुये जागरूकता कार्यक्रम
प्रभात खबर

भ्रांतियों के कारण किशोरियों और महिलाओं काफी समस्याओं का सामना भी करना पड़ता है. इन्हीं सब भ्रांतियों और माहवारी पर चुप्पी को तोड़ने के उद्देश्य से वात्सल्य संस्था ने 'आदर्श' परियोजना के तहत गांव में किशोरी समूहों, महिलाओं, पुरूषों के जागरूकता कार्यक्रम किये. जिसमें किशोरियों ने चार्ट पोस्टर, दीवार लेखन, सामूहिक बैठकें व रैली निकालकर अपनी अभिव्यक्ति व्यक्त की. मासिक धर्म से जुड़ी भ्रांतियों के बारे में समुदाय को बताया.

किशोरियों को मन से दूर किये गये भ्रम
किशोरियों को मन से दूर किये गये भ्रम
प्रभात खबर

वात्सल्य संस्था की कार्यकारी अधिकारी और स्त्री एवं प्रसूति रोग विशेषज्ञ डॉ. नीलम सिंह बताती हैं कि माहवारी आना एक सामान्य प्रक्रिया है. गर्भधारण करने के लिये माहवारी बहुत जरूरी है. लेकिन भ्रांतियों के चलते इसे एक सामाजिक अभिशाप की तरह लिया जाता है.

मासिक धर्म से जुड़ी भ्रांतियों के बारे में समुदाय को बताया
मासिक धर्म से जुड़ी भ्रांतियों के बारे में समुदाय को बताया
प्रभात खबर

डॉ. नीलम सिंह ने बताया कि माहवारी के बारे में किशोरियों से बात करना चाहिये. उन्हें बताना चाहिये की इस दौरान स्वच्छता कितनी जरूरी है. हर चार घंटे में सैनिटरी पैड को बदलना चाहिए. लंबे समय तक एक ही पैड इस्तेमाल करने से एलर्जी और संक्रमण हो सकता है.

गांव की दीवारों पर लिये गये जागरूकता संदेश
गांव की दीवारों पर लिये गये जागरूकता संदेश
प्रभात खबर

माहवारी के दौरान अच्छी नींद लें. अधूरी नींद से चिंता, चिड़चिड़ापन, ऐंठन और आलस महसूस हो सकता है. कम से कम 8 घंटे की नींद जरूर लें. इससे आप फ्रेश और एक्टिव महसूस होगा. पीरियड्स के दौरान ढेर सारा पानी पीना चाहिये. कैफीन डिहाइड्रेशन और ऐंठन को बढ़ाता है. जंक, ऑयली, प्रोसेस्ड और डिब्बाबंद भोजन खाने से बचना चाहिए. पौष्टिक आहार खाकर स्वस्थ्य रहा जा सकता है.

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें