1. home Hindi News
  2. state
  3. up
  4. high court seeks reply from uppsc for not releasing the final answer key sht

UPPSC: अंतिम उत्तर कुंजी जारी नहीं करने पर यूपीपीएससी को कोर्ट ने किया तलब, मांगा जवाब

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की पीसीएस परीक्षा 2019 और 2020 को लेकर प्रतियोगी छात्र संघर्ष समिति ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की है. हाईकोर्ट ने याचिका पर सुनवाई करते हुए आयोग से 22 फरवरी को जवाबी हलफनामा दायर करने का आदेश दिया है.

By Prabhat Khabar Digital Desk, Prayagraj
Updated Date
इलाहाबाद हाईकोर्ट
इलाहाबाद हाईकोर्ट
Photo: Twitter

UP Election 2022: उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (UPPSC) एक बार फिर सवालों के घेरे में है. आयोग की पीसीएस परीक्षा 2019 और 2020 को लेकर प्रतियोगी छात्र संघर्ष समिति ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की है. समिति ने याचिका के माध्यम से कोर्ट को बताया कि आयोग ने अभी तक PCS परीक्षाओं की उत्तर कुंजी जारी नहीं की है. हाईकोर्ट ने याचिका पर सुनवाई करते हुए आयोग से 22 फरवरी को जवाबी हलफनामा दायर करने का आदेश दिया है.

आयोग के अधिवक्ता ने कही ये बात

आयोग के अधिवक्ता ने हाईकोर्ट को बताया कि, आयोग द्वारा 24 अगस्त 2014 को एक निर्णय लिया था, कि प्रारंभिक परीक्षा के बाद सभी सेट की आंसर की जारी कर दी जाएगी. लेकिन एक अन्य आदेश के द्वारा इसे सुपरसीड कर दिया गया. नए आदेश के अनुसार प्रारम्भिक परीक्षा की संसोधित उत्तर कुंजी, अंतिम परीक्षा परिणाम जारी होने के बाद जारी किए जाने का निर्णय लिया गया है.

22 फरवरी को होगी मामले की अगली सुनवाई

वहीं, आयोग के अधिवक्ता अनुज कुमार मिश्रा ने समिति का पक्ष रखते हुए कोर्ट को बताया कि आयोग ने अभी तक PCS 2019, 2020 का अंतिम परिमाण तो जारी कर दिया है, लेकिन प्रारंभिक परीक्षाओं की उत्तर कुंजी अभी तक जारी नहीं है. जिस पर कोर्ट ने याचिका पर संज्ञान लेते हुए आयोग को 10 दिन में हलफनामा दाखिल करने का निर्देश दिया. इस मामले की सुनवाई 22 फरवरी को होगा.

अनंतिम उत्तर कुंजी जारी करने की मांग

लोकसेवा आयोग से प्रतियोगी छात्र संघर्ष समिति द्वारा लंबे समय से अनंतिम उत्तर कुंजी जारी करने की मांग की जा रही थी. इतना ही नहीं समिति के अध्यक्ष अवनीश पांडेय व मीडिया प्रभारी प्रशांत का कहना है कि कई बार आयोग को ज्ञापन देकर प्री का परिणाम आने के बाद आंसर की जारी करने की मांग कर चुके है लेकिन आयोग ने अभी तक उनकी मांग नहीं सुनी, जिसके बाद मजबूरन उन्हें हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाना पड़ा.

रिपोर्ट- एसके इलाहाबादी

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें