34.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

NIA ने पुणे में एक स्कूल की 2 मंजिलों को किया अटैच, PFI द्वारा ट्रेनिंग कैंप के रूप में किया जाता था इस्तेमाल

NIA ने रविवार को महाराष्ट्र के पुणे में एक स्कूल की इमारत की दो मंजिलों को कुर्क किया है. बताया गया कि यहां प्रतिबंधित पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) द्वारा कट्टरता फैलाने के लिए शिविर का आयोजन किया जाता था.

NIA Action: राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने रविवार को महाराष्ट्र के पुणे में एक स्कूल की इमारत की दो मंजिलों को कुर्क किया है. बताया गया कि यहां प्रतिबंधित पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) द्वारा कट्टरता फैलाने के लिए शिविर का आयोजन किया जाता था. शिविर में मुस्लिम युवाओं को शिक्षित किया जाता था. साथ ही उन्हें एक विशेष समुदाय के नेताओं और संगठनों के खिलाफ लक्षित हत्याओं और हमलों को अंजाम देने के लिए प्रशिक्षण दिया जा रहा था.

चौथी और पांचवीं मंजिल को किया गया अटैच

पिछले साल 13 अप्रैल को एजेंसी द्वारा दर्ज एक मामले में गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम, 1967 के प्रावधानों के तहत एनआईए द्वारा दो मंजिलों को आतंकवाद की आय के रूप में संलग्न किया गया था. एनआईए ने इस साल 18 मार्च को दिल्ली की एक विशेष अदालत के समक्ष पीएफआई सहित 20 अभियुक्तों के खिलाफ चार्जशीट दायर की थी. एनआईए द्वारा पिछले साल 22 सितंबर को स्कूल परिसर की दो मंजिलों पर चलाए गए अपने तलाशी अभियान के बाद यह कदम उठाया गया. तलाशी अभियान के दौरान स्कूल परिसर से आपत्तिजनक दस्तावेज जब्त किए गए थे, जिससे पता चला कि संपत्ति का इस्तेमाल उन अभियुक्तों द्वारा किया गया था, जिनका संबंध पीएफआई से था. प्रशिक्षण शिविरों ने सरकार के साथ-साथ एक विशेष समुदाय के नेताओं और संगठनों के खिलाफ निर्दोष मुस्लिम युवाओं को भड़काने के लिए मंच के रूप में कार्य किया. शिविरों का उपयोग उनके जुनून को भड़काने और उन्हें आतंकवादी बनाने के उद्देश्य से हिंसक जिहाद को अपनाने के लिए उकसाने के लिए भी किया गया था.

एनआईए की जांच में सामने आई ये अहम जानकारी

एनआईए ने कहा, नए भर्ती किए गए पीएफआई कैडरों को भारत में इस्लामी शासन स्थापित करने की संगठन की विचारधारा का विरोध करने वाले प्रमुख नेताओं पर हमला करने और उनकी हत्या करने के लिए चाकू, दरांती आदि जैसे खतरनाक हथियारों के इस्तेमाल का प्रशिक्षण दिया गया था. एनआईए की जांच से पहले पता चला था कि आरोपी व्यक्ति देश के खिलाफ युद्ध छेड़कर और लोकतांत्रिक रूप से चुनी हुई सरकार को गिराकर भारत में खिलाफत और इस्लामी शासन स्थापित करने की आपराधिक साजिश का हिस्सा थे. एजेंसी ने कहा, उन सभी की पहचान पीएफआई के वरिष्ठ कैडर, एनईसी सदस्य, लेखाकार, पीएफआई के बैंक खातों के अधिकृत हस्ताक्षरकर्ताओं के रूप में की गई थी. मामले में अन्य आरोपी व्यक्तियों और संदिग्धों की भूमिका का पता लगाने के लिए जांच चल रही है. एनआईए पीएफआई की गतिविधियों की जांच कर रही है, जिसे सितंबर 2022 में गैरकानूनी संघ घोषित किया गया था.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें