1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. pm narendra modi mann ki baat how much do you know the aloe vera village deori of jharkhand which is praised grj

Jharkhand News : पीएम मोदी ने मन की बात में झारखंड के जिस एलोवेरा विलेज की तारीफ की, उसे कितना जानते हैं आप

पीएम मोदी ने मन की बात में झारखंड के रांची जिले के देवरी गांव की तारीफ की. ये गांव एलोवेरा विलेज के नाम से जाना जाता है. इस गांव के हर आंगन और खेत में एलोवेरा उगाये जा रहे हैं. इससे ना सिर्फ ग्रामीण महिलाएं स्वावलंबी बन रही हैं, बल्कि ऐलोवेरा की खेती से जीवन बेहतर बना रही हैं.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand News : एलोवेरा विलेज देवरी
Jharkhand News : एलोवेरा विलेज देवरी
प्रभात खबर

Jharkhand News, रांची न्यूज : पीएम नरेंद्र मोदी ने आज रविवार को मन की बात में झारखंड के एलोवेरा विलेज देवरी की सराहना की. उन्होंने कहा कि रांची के सतीश कुमार ने पत्र के माध्यम से झारखंड के एलोवेरा विलेज देवरी की ओर उनका ध्यान दिलाया. देवरी गांव की महिलाओं ने मंजू कच्छप के नेतृत्व में एलोवेरा की खेती की है. इससे इन महिलाओं की न सिर्फ आमदनी बढ़ गई, बल्कि इससे स्वास्थ्य के क्षेत्र में लाभ भी मिला.

झारखंड के रांची जिले के नगड़ी प्रखंड स्थित देवरी गांव को आज लोग एलोवेरा विलेज के रूप में जानते हैं. इस एलोवेरा की खेती गांव के हर आंगन और खेत में बखूबी हो रही है. एलोवेरा की खेती ग्रामीण महिलाओं के आर्थिक स्वावलंबन का वाहक बन रही है. मंजू कच्छप समेत दर्जनों महिलाएं एलोवेरा के पौधों को सींच कर खुद के स्वावलंबन की वाहक बन रही हैं. मंजू कहती हैं कि एलोवेरा ने पूरे राज्य में हमारे गांव का मान बढ़ाया है. अब इस गांव को लोग एलोवेरा विलेज के नाम से जानते हैं जो हमें गौरवान्वित करता है.

बिरसा कृषि विश्वविद्यालय के सहयोग से एलोवेरा विलेज में उगाये जा रहे एलोवेरा की मांग पूरे राज्य में है. ग्रामीण महिलाएं 35 रुपये प्रति किलो के हिसाब से इसके पत्ते बेच रही है. मांग के अनुरूप आपूर्ति नहीं हो पा रही. यही वजह है कि अन्य खेतिहर परिवार भी एलोवेरा की खेती में आगे आ रहे हैं. मंजू कहती हैं कि एलोवेरा जेल की मांग इन दिनों काफी बढ़ी है.

ग्रामीण महिलाओं के मुताबिक, अधिक धूप की वजह से सिंचाई की जरूरत पड़ती है. इसके पौधरोपण में भी किसी प्रकार का खर्च नहीं होता. एक पौधा से दूसरा पौधा तैयार होता है, जिसमें किसी प्रकार का निवेश नहीं होता और बाजार भी उपलब्ध है. राज्य सरकार का साथ ऐसे ही मिलता रहा, तो बड़े पैमाने पर खेती करने से पीछे नहीं हटेंगी.

Posted By : Guru Swarup Mishra

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें