1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. jharkhand news 25515 workers had registered on the chief ministers shramik yojana but only so many people asked for work srn

Jharkhand News : मुख्यमंत्री श्रमिक योजना होने पर 25,515 श्रमिकों ने कराया था पंजीयन लेकिन सिर्फ इतने लोगों ने मांगा काम

By Sameer Oraon
Updated Date
मुख्यमंत्री श्रमिक योजना शुरू होने के आठ माह बाद भी स्थिति यथावत
मुख्यमंत्री श्रमिक योजना शुरू होने के आठ माह बाद भी स्थिति यथावत
Prabhat Khabar

Jharkhand News, Ranchi News, Mukhya Mantri Shramik Yojna Jharkhand रांची : राज्य में मुख्यमंत्री श्रमिक योजना शुरू होने के आठ माह में 25,515 श्रमिकों ने पंजीयन कराया है. 18,983 श्रमिकों को स्थानीय निकायों ने जॉब कार्ड दे दिया है. हालांकि, योजना के तहत काम मांगनेवाले श्रमिकों की संख्या काफी कम है. योजना के तहत निबंधित श्रमिकों में से अब तक केवल 2,797 ने ही सरकार से काम मांगा है. 2,407 शहरी श्रमिकों को कार्य आवंटन भी किया गया है.

सबसे अधिक धनबाद के 4,779 श्रमिकों और रांची के 1,882 श्रमिकों ने काम मांगा है. मुख्यमंत्री श्रमिक योजना 14 अगस्त 2020 में शुरू की गयी थी. कोरोना संक्रमण के कारण लाखों की संख्या में प्रवासी श्रमिक अपने घर लौटे थे. रोजगार का अभाव झेल रहे दिहाड़ी मजदूरों की समस्या का निवारण करने के लिए योजना शुरू की गयी थी.

अमृत योजना के तहत शहरों में हो रहे आधारभूत संरचना निर्माण, सड़क, नाली निर्माण, पौधरोपण, पार्क सौंदर्यीकरण, स्वच्छ भारत मिशन के तहत स्वच्छता कार्य, नदी तालाब सौंदर्यीकरण कार्य, प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना के तहत भवन निर्माण कार्य, वर्षा जल संचयन, निर्माण कार्य एवं अन्य विभागों द्वारा विकास क्षेत्र में संचालित विभिन्न योजनाओं में श्रमिकों को कार्य उपलब्ध कराया जा रहा है. योजना से शहरी जनसंख्या के गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन कर रहे 31 प्रतिशत लोगों को लाभान्वित करने का लक्ष्य रखा गया है.

रोजगार नहीं, तो भत्ता मिलेगा

मुख्यमंत्री श्रमिक योजना में रोजगार मिलने की गारंटी है. श्रमिक के निबंधन के साथ 15 दिन के अंदर रोजगार देना है. रोजगार नहीं होने की स्थिति में लाभुक को बेरोजगारी भत्ता देने का प्रावधान किया गया है. 18 वर्ष या अधिक के शहरी अकुशल श्रमिक योजना के तहत नि:शुल्क जॉब कार्ड प्राप्त कर एक वित्तीय वर्ष में अधिकतम 100 दिनों का रोजगार हासिल कर सकते हैं.

काम की मांग के 15 दिनों के अंदर उनके निकाय क्षेत्र में ही रोजगार दिया जायेगा. मजदूरी करने शहर आनेवाले ग्रामीण श्रमिक, जिसके पास मनरेगा जॉब कार्ड नहीं है, वह भी इस योजना का लाभ ले सकते हैं. प्रज्ञा केंद्र, ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से, सीआरपी दीदी या निकाय कार्यालय में लिखित आवेदन देकर जॉब कार्ड प्राप्त किया जा सकता है.

Posted By : Sameer Oraon

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें