1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. jharkhand gets 9 new coronavirus positive cases in single day 5 from hindpidhi 4 in bokaro

Covid19 Outbreak: झारखंड में Covid19 से पहली मौत, एक दिन में सामने आये 9 मरीज, हिंदपीढ़ी के 5 और बोकारो के 4 लोगों में संक्रमण की पुष्टि

By Mithilesh Jha
Updated Date
राजधानी रांची में प्रशासन के साथ विभिन्न संगठनों के लोग अपील कर रहे हैं कि लोग अपने घरों में रहें, ताकि कोरोना का संक्रमण नहीं फैले.
राजधानी रांची में प्रशासन के साथ विभिन्न संगठनों के लोग अपील कर रहे हैं कि लोग अपने घरों में रहें, ताकि कोरोना का संक्रमण नहीं फैले.

रांची/बोकारो : झारखंड (Jharkhand) में कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण से एक बुजुर्ग की मौत हो गयी है. बोकारो जिला (Bokaro District) के गोमिया प्रखंड (Gomia Block) अंतर्गत साड़म (Saram) के रहने वाले 75 वर्षीय बुजुर्ग में कोरोना के संक्रमण की पुष्टि हुई. इसके पहले स्वास्थ्य विभाग ने कहा था कि प्रदेश में कोरोना कोरोना वायरस (Covid19) से संक्रमित मरीजों की संख्या 13 हो गयी है, जिसमें 2 बच्चे हैं. राजधानी रांची और बोकारो में एक ही दिन में 9 मरीजों में संक्रमण की पुष्टि और एक मरीज की मौत से प्रशासन में हड़कंप मच गया है.

राजधानी रांची में एक साथ 5 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं. वहीं, बोकारो में इनकी संख्या 4 चार है. स्वास्थ्य विभाग ने गुरुवार (9 अप्रैल, 2020) को इसकी पुष्टि की. इसके पहले 7 अप्रैल, 2020 तक राज्य में कोरोना के सिर्फ 4 मरीज मिले थे. इनमें दो तबलीगी जमात से जुड़ी महिलाएं थीं.

बोकारो में बुधवार (8 अप्रैल, 2020) को कोविड19 के चार नये मरीज मिले हैं. सभी बोकारो के तेलो गांव की कोरोना पॉजिटिव महिला के परिजन शामिल हैं. इधर, रांची में भी पांच लोगों में कोरोना की पुष्टि हो गयी है. इनमें तीन एक ही परिवार के हैं. मलयेशियाई महिला के संपर्क में आयी हिंदपीढ़ी की महिला ने अपने पति और दो बच्चों में भी यह संक्रमण फैलाया. दो अन्य लोग भी हैं, जो इस जानलेवा विषाणु की चपेट में आ गये हैं. महिला का पति किडनी की बीमारी से जूझ रहा है.

हिंदपीढ़ी में जो 5 लोग कोरोना पॉजिटिव पाये गये हैं, सभी को कोरोना पॉजिटिव महिला के साथ क्वारेंटाइन सेंटर में भर्ती कराया गया था. महिला समेत कुल 7 लोगों को प्रशासन ने आइसोलेशन में रखा था. इनमें से 5 में कोरोना वायरस के संक्रमण की पुष्टि हो गयी है. शेष 2 लोगों की रिपोर्ट शुक्रवार (10 अप्रैल, 2020) को आने की संभावना है.

हिंदपीढ़ी के 5 संक्रमित मरीजों में से 2 को अस्पताल में शिफ्ट कर दिया गया है. 2 बच्चों को जब अस्पताल ले जाने लगे, तो वे रोने लगे. इन्हें उनकी मां के साथ गुरुवार को कोविड19 हॉस्पिटल में शिफ्ट किया जायेगा. उधर, बोकारो में जो 4 संक्रमित पाये गये हैं, वे सभी उस जमाती महिला के संपर्क में आये थे, जो मार्च में तबलीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल होने बांग्लादेश की राजधानी ढाका गयी थी.

पिछले दिनों बोकारो जिला के चंद्रपुरा प्रखंड अंतर्गत स्थित तेलो गांव की यह 50 वर्षीय महिला अपने पति के साथ बांग्लादेश में तबलीगी जमात की मरकज में शामिल हुई थी. वहां से वह हवाई मार्ग से रांची होते हुए बोकारो के रास्ते 15 मार्च, 2020 को तेलो गांव पहुंची थी. उसके साथ चंद्रपुरा के ही चार और लोग भी थे.

इन सभी 6 लोगों की ट्रेवल हिस्ट्री को देखते हुए जिला प्रशासन ने गुरु गोविंद सिंह एजुकेशनल टेक्निकल कैंपस, कांड्रा चास में 30 मार्च को क्वारेंटाइन कराया था. सभी के ब्लड और स्वाब सैंपल जांच के लिए रिम्स भेजे गये थे. जांच में महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आयी थी. उसके बाद तेलो गांव से 20 लोगों के ब्लड व स्वाब सैंपल जांच के लिए रिम्स भेजे गये थे. इनमें से चार लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है. ये सभी संक्रमित महिला के परिजन हैं.

उल्लेखनीय है कि झारखंड का पहला कोरोना पॉजिटिव मामला राजधानी रांची के हिंदपीढ़ी में मिला था. 22 वर्षीय एक मलयेशियाई युवती में कोविड19 की पुष्टि हुई थी. यह युवती दिल्ली के निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के धार्मिक आयोजन में शामिल होने के बाद राजधानी एक्सप्रेस से 17 मार्च को रांची पहुंची थी. इसके बाद हजारीबाग के विष्णुगढ़ के करगालो गांव का 54 वर्षीय एक व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव पाया गया था, जो आसनसोल में मजदूरी करता था.

तीसरा संक्रमित मरीज बोकारो जिला में के तेलो गांव में मिला था. की 50 वर्षीय महिला के कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई थी. इसके बाद चौथा मरीज रांची के हिंदपीढ़ी में मिला, जो 61 वर्षीय एक महिला है. रांची में मिली दोनों कोरोना पॉजिटिव महिलाओं का इलाज रिम्स के ट्रॉमा सेंटर में बने कोविड-19 अस्पताल में चल रहा है. जबकि दो अन्य मरीजों का इलाज उनके संबंधित जिलों में बने विशेष अस्पतालों में किया जा रहा है.

हिंदपीढ़ी को प्रशासन ने कर रखा है सील

झारखंड का दूसरा पॉजिटिव केस सामने आने के बाद ही हिंदपीढ़ी मुहल्ला से कर्फ्यू लगा दिया गया. पूरे इलाके को सील कर दिया गया है. पुलिस फोर्स को तैनात कर दिया गया है. मुहल्ले के लोगों ने भी अब खुद को घरों में बंद कर लिया है. बड़े पैमाने पर लोगों की स्क्रीनिंग हुई. पूरे इलाके को सैनिटाइज किया गया. जिस किसी व्यक्ति में कोरोना वायरस के लक्षण दिखते हैं, उन्हें क्वारेंटाइन सेंटर पहुंचा दिया जा रहा है.

अब प्रशासन यह जानने की कोशिश कर रहा है कि मलयेशियाई महिला के संपर्क में आकर कोरोना से संक्रमित हुई महिला के संपर्क में और कितने लोग आये. कोरोना की जांच सिर्फ उन्हीं की करायी जा रही है, जिनमें सर्दी, खांसी या बुखार के लक्षण हैं.

31 मार्च को आया था पहला केस, 10 दिन में बढ़े 12 मरीज

  • 31 मार्च, 2020 को झारखंड का पहला केस राजधानी के हिंदपीढ़ी में मिला था. 22 साल की मलयेशियाई महिला कोरोना से संक्रमित मिली थी.

  • 2 अप्रैल, 2020 को हजारीबाग के विष्णुगढ़ में एक शख्स में संक्रमण की पुष्टि हुई. वह पश्चिम बंगाल के आसनसोल से अपने गांव लौटा था. बताया जाता है कि उसने कोलकाता में एक शादी समारोह में भी भाग लिया था.

  • 5 अप्रैल, 2020 को बोकारो से तीसरा केस सामने आया. बांग्लादेश की राजधानी ढाका में तबलीगी जमात के कार्यक्रम में शिरकत करके लौटी एक महिला कोरोना से संक्रमित मिली.

  • 6 अप्रैल, 2020 को राजधानी रांची के हिंदपीढ़ी में एक और महिला में कोविड19 के संक्रमण की पुष्टि हुई. 54 साल की यह महिला राज्य की पहली संक्रमित मलयेशियाई महिला के सीधे संपर्क में आयी थी.

  • 8 अप्रैल, 2020 को रांची के हिंदपीढ़ी में दो बच्चों समेत 5 लोग और बोकारो में 4 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाये गये.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें