21.1 C
Ranchi
Wednesday, February 21, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

Homeराज्यओडिशाधीरज साहू के ठिकानों पर आयकर की रेड : 40 बैग में मिले 300 करोड़ रुपए, 136 बैग में...

धीरज साहू के ठिकानों पर आयकर की रेड : 40 बैग में मिले 300 करोड़ रुपए, 136 बैग में भरे नोटों की गिनती अभी बाकी

ओडिशा में चल रही देश की सबसे बड़ी आयकर छापेमारी में बरामद नोटों से भरे बैग की संख्या बढ़कर 176 हो चुकी है. शुक्रवार तक नोटों से भरे 156 बैग आयकर विभाग के अधिकारियों के पास थे. वहीं शुक्रवार की देर रात सुदापाड़ा शराब भट्ठी के कर्मचारी बंटी साहू के किराये के मकान से नोटों से भरे 20 बैग बरामद किये गये.

कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य धीरज साहू से जुड़े बौध डिस्टिलरी बिजनेस ग्रुप के ओडिशा व झारखंड स्थित ठिकानों पर आयकर विभाग की छापामारी चौथे दिन भी जारी रही. तीन दिन से जारी नोटों की गिनती के दौरान अब तक नोट गिनने की कई मशीनें जल चुकी हैं और नोटों की गिनती अभी जारी है. रविवार तक नोटों की गिनती खत्म होने की संभावना है. शनिवार तक 40 बैग से 300 करोड़ रुपये की गिनती की जा चुकी थी. अभी 136 बैग में रखे नोटाें की गिनती जारी है. अनुमानत: यह आंकड़ा 400 करोड़ रुपये पार कर सकता है. ओडिशा में चल रही देश की सबसे बड़ी आयकर छापेमारी में बरामद नोटों से भरे बैग की संख्या बढ़कर 176 हो चुकी है. शुक्रवार तक नोटों से भरे 156 बैग आयकर विभाग के अधिकारियों के पास थे. वहीं शुक्रवार की देर रात सुदापाड़ा शराब भट्ठी के कर्मचारी बंटी साहू के किराये के मकान से नोटों से भरे 20 बैग बरामद किये गये. इन बैगों में 100 के 200 के और 500 रुपये के नोट हैं. इस कारण एक बैग में कितने रुपये हैं इसका अनुमान लगाना मुश्किल हो रहा है. मशीन लगातार खराब हो रही थी. इसे ठीक करने के लिए इंजीनियर भी मुस्तैद हैं. कर्मचारियों की संख्या बढ़ाकर 50 कर दी गयी है. 25 मशीनों से नोटों की गिनती की जा रही है. बलांगीर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की मुख्य शाखा में यह रकम लाकर रखी गयी है. उम्मीद है कि रविवार तक सटीक आंकड़े स्पष्ट हो जायेंगे. उधर, हैदराबाद से आयकर विभाग की 25 सदस्यीय एनालिस्ट टीम पहुंच चुकी है. यह टीम डिजिटल तथ्यों की जांच करेगी. जिन ठिकानों पर आयकर विभाग की टीम ने छापेमारी की है, वहां से बरामद कंप्यूटर, लैपटॉप, मोबाइल सहित अन्य उपकरणों की भी जांच होगी.

खास बातें

  • बौध डिस्टिलरीज ग्रुप के ठिकानों पर चौथे दिन भी जारी रही छापामारी

  • 400 करोड़ रुपए तक पहुंच सकती है रकम, अभी 40 बैग की हुई है गिनती

  • चार दिन में नोटों से भरे 176 बैग मिले आयकर अधिकारियों को

  • सुदापाड़ा भट्ठी के कर्मचारी बंटी साहू के घर से 20 बैग रुपए फिर मिले

  • 50 कर्मचारी 25 मशीनों से कर रहे नोटों की गिनती, हैदराबाद से 25 सदस्यीय एनालिस्ट की टीम पहुंची

  • 10 दिसंबर को खत्म हो सकती है नोटों की गिनती

हमारे पास आये नोटों से भरे 176 बैगों में से 40 बैगों में भरे नोटों की गिनती पूरी कर ली गयी है. नोट गिनने में मशीनों और कर्मचारियों की संख्या बढ़ा दी गयी है. हमारा प्रयास है कि कल तक गिनती पूरी कर ली जाये.

भगत बेहरा, रीजनल मैनेजर, एसबीआइ

5 दिसंबर से शुरू हुई छापेमारी

आयकर विभाग ओडिशा की अनुसंधान शाखा ने बौध डिस्टिलरी प्राइवेट लिमिटेड (बीडीपीएल) समूह से जुड़ी कंपनियों के ठिकानों पर पांच दिसंबर की सुबह छापामारी शुरू की थी. इस कंपनी समूह में बलदेव साहू इंफ्रा प्राइवेट लिमिटेड, क्वालिटी बॉटलर्स और किशोर प्रसाद विजय प्रसाद बिवरेज प्राइवेट लिमिटेड शामिल है. आयकर अधिकारियों ने बीडीपीएल कंपनी समूह के ओडिशा और रांची के सभी ठिकानों को छापामारी में शामिल किया है. छापामारी के दौरान कंपनी के ठिकानों से 30 अलमारियों में भरे नोट मिले थे.

Also Read: धीरज साहू की गिरफ्तारी की मांग तेज, झारखंड बीजेपी का प्रदर्शन आज, कांग्रेस ने कहा- राजनीतिक रंग न दें

नोटों की गिनती वालेंगिर स्थित स्टेट बैंक की छोटी मशीनों से शुरू हुई. मशीनों की क्षमता कम होने की वजह से पहले ही दिन नोटों की गिनती बंद करनी पड़ी.दूसरी जगह से बड़ी मशीनें आने के बाद शुक्रवार से नोटों की गिनती तेजी से शुरू की गयी. इस बीच आयकर विभाग ने शराब व्यापारी के ओडिशा स्थित कुछ नये ठिकानों पर भी छापामारी की. इन नये ठिकानों से कई बैगों में रखे नोट मिले. इन नोटों की भी गिनती की जा रही है. छापामारी के पहले दिन अलमारियों में मिले नोटों को देखते हुए विभागीय अधिकारियों ने 300 करोड़ रुपये होने का अनुमान किया था. हालांकि नये ठिकानों से और नोट मिलने के बाद छापेमारी में अब 400 करोड़ रुपये से अधिक मिलने का अनुमान किया जा रहा है.

शराब के साथ ही बाइ प्रोडक्ट का भी है व्यवसाय

बौध स्थित कारखाने की क्षमता प्रति दिन 60 किलो लीटर एक्सट्रा न्यूट्रल अल्कोहल (इएनए) बनाने की है. इएनए बनाने में चावल, मक्का और मोटे अनाज का इस्तेमाल किया जाता है. इएनए के बाई प्रोडक्ट का इस्तेमाल इसी समूह द्वारा पशु आहार बनाने में किया जाता है. बीडीपीएल समूह में शामिल बलदेव साहू इंफ्रा प्राइवेट लिमिटेड फ्लाई ऐश ब्रिक्स बनाने का काम करती है. इस कारखाने की क्षमता सालाना एक करोड़ ऐश ब्रिक्स बनाने की है. समूह में शामिल क्वालिटी बॉटलर्स में ओल्ड मॉन्क, डार्क नाइट मेच्योर्ड रम, डीके ह्विस्की, हाईफ्लायर्स डॉक्टर्स ब्रांडी की बॉलिंग की जाती है. इस कंपनी के पास एक्सपोर्ट लाइसेंस भी है.

Also Read: काले धन का पहाड़ : झारखंड के कांग्रेस नेता धीरज साहू के ठिकानों पर नोटों की गिनती जारी, सांसद ने साधी चुप्पी

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें