1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. deoghar airport bjp mp nishikant dubey files contempt petition in jharkhand high court grj

झारखंड का देवघर एयरपोर्ट : बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने हाईकोर्ट में दायर की अवमानना याचिका

हाईकोर्ट में दायर अवमानना याचिका में कहा गया है कि देवघर एयरपोर्ट बनकर तैयार है. लोगों के सहयोग से एयरपोर्ट का एप्रोच रोड बनाया जा चुका है, लेकिन राज्य सरकार उसके पैरलल एप्रोच रोड बनाने के लिए टेंडर कर रही है. राज्य सरकार अपने हिस्से का कार्य करने में देर कर रही है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand News: हाईकोर्ट
Jharkhand News: हाईकोर्ट
प्रभात खबर

Jharkhand News: झारखंड के देवघर एयरपोर्ट को लेकर गोड्डा से बीजेपी सांसद डॉ निशिकांत दुबे की ओर से हाईकोर्ट में अवमानना याचिका दायर की गयी है. प्रार्थी की ओर से अधिवक्ता दिवाकर उपाध्याय ने याचिका दायर की है. इसमें सिविल एविएशन एवं नोडल पदाधिकारी आदि को प्रतिवादी बनाया गया है. याचिका में कहा गया है कि देवघर एयरपोर्ट बनकर तैयार है. लोगों के सहयोग से एयरपोर्ट का एप्रोच रोड बनाया जा चुका है, लेकिन राज्य सरकार उसके पैरलल एप्रोच रोड बनाने के लिए टेंडर कर रही है. राज्य सरकार अपने हिस्से का कार्य करने में देर कर रही है. एयरपोर्ट का ग्रिड भी नहीं बनाया गया है. एयरपोर्ट को पानी की आपूर्ति भी नहीं की जा रही है. ये हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना है.

देवघर एयरपोर्ट का ये कार्य है अधूरा

झारखंड हाईकोर्ट ने डॉ निशिकांत दुबे की जनहित याचिका पर सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार और राज्य सरकार के जवाब से संतुष्ट होकर वर्ष 2018 में मामला निष्पादित कर दिया था. इसमें कहा गया था कि एक साल में देवघर एयरपोर्ट बनकर तैयार हो जाएगा. वर्ष 2019 तक कार्य पूरा कर लेना था, लेकिन राज्य सरकार के हिस्से वाला कार्य अब तक अधूरा है. सरकार काम करने में विलंब कर रही है, जबकि केंद्र सरकार की ओर से कार्य पूरा कर लिया गया है. देवघर एयरपोर्ट बनकर तैयार हो गया है. डीजीसीए से भी परमिशन मिल गयी है, लेकिन उसका एप्रोच रोड, एयरपोर्ट ग्रिड और एयरपोर्ट को पानी देने का कार्य अधूरा है.

झारखंड हाईकोर्ट के आदेश की अवहेलना

राज्य सरकार अपने हिस्से का कार्य करने में विलंब कर रही है, जो झारखंड हाईकोर्ट के आदेश की अवहेलना है. प्रार्थी की ओर से अधिवक्ता दिवाकर उपाध्याय ने याचिका दायर की है. इसमें प्रार्थी ने सिविल एविएशन, नोडल पदाधिकारी आदि को प्रतिवादी बनाया है. प्रार्थी ने अपनी याचिका में यह भी कहा है कि लोगों के सहयोग से एयरपोर्ट का एप्रोच रोड बनाया जा चुका है, लेकिन राज्य सरकार उसके पैरलल एप्रोच रोड बनाने के लिए टेंडर कर रही है. एयरपोर्ट का ग्रिड भी नहीं बनाया गया है. एयरपोर्ट को पानी की आपूर्ति भी नहीं की जा रही है. आपको बता दें कि देवघर एयरपोर्ट से उड़ान के लिए इंडिगो व गो एयरवेज को अनुमति भी मिल गई है.

रिपोर्ट : राणा प्रताप

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें