सुनिए झारखंड के नायकों को : योजना बनाने में कलाकारों की भी राय ली जाये

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
हरेन ठाकुर
बहुत काम हुए, पर नदी का नाला बन जाना बहुत दुखदायी सा लगता है
आज से 50 साल पहले हमने जो झारखंड देखा, वो हमें वही झारखंड वापस चाहिए. उस समय प्रकृति का जो रूप देखा है. वो आज के समय से काफी अलग है.
राजनेताअों से अपील है कि सुंदर झारखंड को एक बार फिर से बनायें. हमने देखा है कि झारखंड में कुछ बड़ा फैसला हुआ, तो कलाकारों, साहित्यकारों, नाट्यकारों, बुद्धिजीवियों की राय नहीं ली गयी. राय देने का काम केवल राजनीतिज्ञों का नहीं हो.
हम कलाकरों को भी यह हक मिलना चाहिए. सरकार की ओर से एक कम्युनिटी बना देनी चाहिए, जिसमें हम कलाकार भी बोल पाये. बेशक झारखंड में बहुत काम हुए, पर नदी का नाला बन जाना बहुत दुखदायी सा लगता है. आने वाली सरकार इस पर जोर दे.
झरखंड के नदी पहाड़ बचाने का कार्य हो. झारखंड में पहले जंगल में घर दिखते थे. विकास हो, लेकिन कम से कम नुकसान हो. अब कंक्रीट के जंगल में इक्के दुक्के पेड़ दिखते हैं. इस बार चुनाव में एक अनुभवी नेता आये और अपने झारखंड को बचाये. हर राज्य में आर्ट गैलरी और रवींद्र भवन है. हमारे राज्य में एक भी रवींद्र भवन तक नही है. सरकार इस दिशा में काम करे.
वोट की अपील
मैं देश के हर नागरिक से अपील करता हूं कि वोट अवश्य करें. और एक अच्छे और अनुभवी नेता का चुनाव करें. जो राज्य को विकास की ओर ले जाये. इसके लिए हमें घर से निकल बूथ तक जाना होगा. मतदान करना होगा. स्वयं मतदान करें अौर अपने परिवार व आस-पास के लोगों को भी वोट की कीमत समझाते हुए वोट करने के लिए प्रेरित करें.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें