1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. kodarma
  5. in a land dispute in koderma of jharkhand the opposing side locked the minor in the room if he did not fill it then the wall was erected outside the door the minor girl survived the accused woman arrested grj

जमीन विवाद में विरोधी पक्ष ने कोडरमा में नाबालिग को कमरे में बंद कर लगाया ताला, जी नहीं भरा, तो दरवाजे के बाहर खड़ी कर दी दीवार, बाल-बाल बची नाबालिग, आरोपी महिला गिरफ्तार

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
कोडरमा पुलिस की तत्परता से नाबालिग की बची जान
कोडरमा पुलिस की तत्परता से नाबालिग की बची जान
फाइल फोटो

Jharkhand News, कोडरमा न्यूज : झारखंड के कोडरमा जिले के जयनगर थाना क्षेत्र अंतर्गत योगियाटिल्हा में जमीन विवाद में एक नाबालिग लड़की को कमरे में बंद कर दरवाजे पर ताला लगा दिया गया. इससे भी जब मन नहीं भरा तो दरवाजे के बाहर दीवार खड़ी कर दी. जमीन विवाद में विरोधी पक्ष की इस हरकत की खबर जब पुलिस को मिली, तो तत्काल पहुंची पुलिस ने दीवार और दरवाजा तोड़कर नाबालिग लड़की को मुक्त कराया. हालांकि दम घुटने से वह बेहोशी की हालत में मिली. आपको बता दें कि नाबालिग लड़की घर में अकेली थी. उसके परिजन गृह प्रवेश में जयनगर गए हुए थे. इसी का फायदा उठाकर विरोधी पक्ष ने ये दुस्साहस किया. पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपी सावित्री देवी को जेल भेज दिया है.

जमीन विवाद में विरोधी पक्ष की हरकत का अजीबो-गरीब मामला सामने आया है. नाबालिग लड़की के परिजन अपने एक रिश्तेदार के घर जयनगर गए थे. इसी दौरान विरोधी पक्ष ने नाबालिग लड़की को कमरे में बंद कर ताला लगा दिया. इसके बाद दरवाजे के बाहर दीवार खड़ी कर दी. शाम को जब परिजन वापस घर आए तो उन्होंने दरवाजे के आगे मिट्टी और ईंट से बनी दीवार देखी. परिजनों ने तत्काल पुलिस को इसकी सूचना दी. इसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने दीवार को गिरा कर दरवाजा तोड़ा तो अंदर नाबालिग बेहोशी की हालत में मिली. उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र जयनगर भेजा गया. वहीं आरोपी महिला सावित्री देवी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया.

आपको बता दें कि नाबालिग के पिता का गांव के ही विनोद पंडित, शंकर पंडित, मनोज पंडित, बीरबल पंडित से जमीन विवाद चल रहा है. बताया जाता है कि अचानक विनोद पंडित, शंकर पंडित, मनोज पंडित, बीरबल पंडित, उषा देवी, गायत्री देवी, मनीषा देवी, मीना देवी, सावित्री देवी उसके घर पहुंच गए और जबरन उसे कमरे के अंदर बंद कर बाहर से ताला लगा दिया. इसके बाद दरवाजे के आगे मिट्टी और ईंट से दीवार खड़ी कर दी. नाबालिग चिल्लाती रही, लेकिन किसी का कलेजा नहीं पसीजा. एसआई राजेंद्र राणा ने जानकारी दी कि समय पर नाबालिग को बाहर नहीं निकाला जाता तो उसकी जान भी जा सकती थी.

Posted By : Guru Swarup Mishra

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें