1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. jharkhand panchayat chunav 2022
  5. jharkhand panchayat chunav senadoni panchayat teacher entered election fray to become mukhiya grj

झारखंड पंचायत चुनाव : मुखिया बनने के लिए चुनाव मैदान में उतरे गुरुजी, पंचायत के विकास का कर रहे दावा

पूर्व प्रधानाध्यापक व मुखिया प्रत्याशी शिवकुमार देव ने कहा कि उनकी पंचायत में कुल 11 गांव हैं. कई वर्षों से वे सरकारी विद्यालय में पढ़ाते आ रहे हैं, लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों का विकास नहीं हुआ. पंचायतों के विकास को लेकर वे मुखिया का चुनाव लड़ रहे हैं.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand Panchayat Chunav 2022: चुनाव प्रचार करते प्रत्याशी शिवकुमार देव
Jharkhand Panchayat Chunav 2022: चुनाव प्रचार करते प्रत्याशी शिवकुमार देव
प्रभात खबर

Jharkhand Panchayat Chunav 2022: झारखंड पंचायत चुनाव को लेकर गांवों की फिजा बदली-बदली सी है. गिरिडीह जिले के सिरसिया प्रखंड की सेनादोनी पंचायत में सियासी माहौल है. यहां प्रधानाध्यापक रह चुके शिवकुमार देव समेत 8 प्रत्याशी चुनाव लड़ रहे हैं. एक तरफ जहां मतदाताओं के बीच चुनावी चर्चा तेज है, वहीं नामांकन दाखिल करने के बाद प्रत्याशियों ने चुनाव प्रचार तेज कर दिया है और वे पंचायत के विकास के दावे कर रहे हैं. इस पंचायत में 8 प्रत्याशियों ने मुखिया पद के लिए किस्मत आजमायी है.

विकास करने वाले को वोट

झारखंड पंचायत चुनाव को लेकर सेनादोनी पंचायत में जगह-जगह पर होर्डिंग्स, बैनर्स एवं पोस्टर्स लगाए गए हैं. प्रत्याशियों की हर संभव कोशिश मतदाताओं को अपनी ओर आकर्षित करने पर है. इस दौरान प्रत्याशियों की ओर से जीत के दावे किए जा रहे हैं. इधर, वोटर्स की प्रत्याशियों पर पैनी नजर है. वे उनकी हर गतिविधि पर नजर रख रहे हैं. मतदाताओं का कहना है कि जो पंचायत का विकास करेगा, वोट उसे ही मिलेगा.

मुखिया पद के लिए आठ प्रत्याशी चुनाव मैदान में

सेनादोनी पंचायत के पूर्व मुखिया बालेश्वर यादव इस बार भी चुनाव मैदान में हैं. मुखिया पद के लिए सत्येन्द्र कुमार देव, पूर्व प्रधानाध्यापक शिवकुमार देव, अनु देवी, जागेश्वर प्रसाद यादव, पंकज कुमार वर्मा, प्रियंका कुमारी वर्मा एवं विनय कुमार पंचायत चुनाव लड़ रहे हैं.

गांवों के विकास के लिए लड़ रहे चुनाव

पूर्व प्रधानाध्यापक व मुखिया प्रत्याशी शिवकुमार देव ने कहा कि उनकी पंचायत में कुल 11 गांव हैं. कई वर्षों से वे सरकारी विद्यालय में पढ़ाते आ रहे हैं, लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों का विकास नहीं हुआ. पंचायतों के विकास को लेकर वे मुखिया का चुनाव लड़ रहे हैं. उनकी कोशिश होगी कि सरकारी योजना का लाभ जरूरतमंदों को मिल सके. आवास योजना, वृद्धा पेंशन, राशन कार्ड इत्यादि जैसे लाभ सभी जरूरतमंदों को दिलाना उनकी प्राथमिकता होगी.

इनपुट : हिमांशु कुमार देव

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें