1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. jharkhand panchayat chunav 2022
  5. jharkhand panchayat chunav latehar collectorate is in possession of tana bhagat for 72 hours grj

झारखंड पंचायत चुनाव : 72 घंटे से टानाभगतों के कब्जे में है लातेहार समाहरणालय, ये है इनकी मांग

लातेहार में टानाभगतों ने टोली बनाकर कई कार्यालयों का भ्रमण कर देखा कि कोई कार्यालय खुला तो नहीं है. इसके बाद टानाभगत धरनास्थल पर बैठ गये. समाहरणालय समेत सभी कार्यालयों के बाहर पुलिस के जवान तैनात हैं.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand Panchayat Chunav 2022: टानाभगतों को संबोधित करते परमेश्वर टानाभगत
Jharkhand Panchayat Chunav 2022: टानाभगतों को संबोधित करते परमेश्वर टानाभगत
प्रभात खबर

Jharkhand Panchayat Chunav 2022: झारखंड पंचायत चुनाव की सरगर्मी के बीच लातेहार में 72 घंटे से जिला समाहरणालय के सभी सरकारी कार्यालय टाना भगतों के कब्जे में हैं. आंदोलन के तीसरे दिन गुरुवार को भी आंदोलनकारी टाना भगतों ने समाहरणालय समेत कई सरकारी कार्यालयों में किसी अधिकारी व कर्मियों को घुसने नहीं दिया. टानाभगतों ने टोली बनाकर कई कार्यालयों का भ्रमण कर देखा कि कोई कार्यालय खुला तो नहीं है. इसके बाद टानाभगत धरनास्थल पर बैठ गये. समाहरणालय समेत सभी कार्यालयों के बाहर पुलिस के जवान तैनात हैं. कार्यालय बंद रहने से त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव समेत कई कार्य प्रभावित हो रहे हैं.

झारखंड पंचायत चुनाव के कार्य प्रभावित

लातेहार समाहरणालय में टानाभगतों का आंदोलन 72 घंटे से जारी है. टानाभगतों के आंदोलन के कारण झारखंड पंचायत चुनाव के कार्य प्रभावित हो रहे हैं. नामांकन की प्रक्रिया जहां-तहां करायी जा रही है. तीसरे चरण के चुनाव को लेकर नामांकन प्रपत्रों की खरीदारी करने वाले प्रत्याशियों को इधर-उधर भटकते देख जा रहा है. त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के दूसरे चरण को लेकर नामांकन प्रपत्रों की स्क्रूटनी का कार्य परिसदन भवन में किया जा रहा है. आपको बता दें कि टानाभगत झारखंड पंचायत चुनाव रद्द करने की मांग कर रहे हैं.

संविधान के अनुसार चाहिए सुविधाएं

धरना को सबोधित करते हुए धनेश्वर टानाभगत ने कहा कि टाना भगत आंदोलन की उपज हैं. हमारे पूर्वजों ने आंदोलन कर देश को आजाद कराया था. हमें भी अपने आंदोलन से संविधान के अनुसार दी गयी सुविधाएं लेनी हैं. राज्य के अनुसूचित जिलों में जनजातीय समुदाय का शासन होना चाहिए. इसलिए पंचायत चुनाव नहीं होने देंगे.

रिपोर्ट : चंद्रप्रकाश सिंह

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें