1. home Home
  2. state
  3. jharkhand
  4. hazaribagh
  5. the people of the ryot displaced front have been sitting on a dharna for 5 days in support of their demands no one is taking care sam

अपनी मांगों के समर्थन में पांचवें दिन भी धरना पर बैठे हैं रैयत विस्थापित मोर्चा के लोग, नहीं ले रहा कोई सुध

हजारीबाग जिले के सीसीएल, हजारीबाग कोयलांचल चरही क्षेत्र के तापिन साउथ परियोजना (Tapin South Project) में रैयत विस्थापित मोर्चा का पांचवें दिन भी धरना प्रदर्शन जारी है. अपने विभिन्न मांगों के समर्थन में रैयत विस्थापित मोर्चा के सदस्य 12 सितंबर, 2020 से धरना पर बैठे हैं. इसके बावजूद आज तक कोई सुध लेने नहीं आया है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand news : रैयत एवं विस्थापितों का अपनी विभिन्न मांगों के समर्थन में पांचवें दिन भी धरना प्रदर्शन जारी.
Jharkhand news : रैयत एवं विस्थापितों का अपनी विभिन्न मांगों के समर्थन में पांचवें दिन भी धरना प्रदर्शन जारी.
प्रभात खबर.

Jharkhand news, Hazaribagh news : चरही (आनंद सोरेन) : हजारीबाग जिले के सीसीएल, हजारीबाग कोयलांचल चरही क्षेत्र के तापिन साउथ परियोजना (Tapin South Project) में रैयत विस्थापित मोर्चा का पांचवें दिन भी धरना प्रदर्शन जारी है. अपने विभिन्न मांगों के समर्थन में रैयत विस्थापित मोर्चा के सदस्य 12 सितंबर, 2020 से धरना पर बैठे हैं. इसके बावजूद आज तक कोई सुध लेने नहीं आया है.

इस दौरान रैयत विस्थापित मोर्चा के अध्यक्ष राम किशोर मुर्मू ने कहा कि रैयत विस्थापित मोर्चा फुसरी के रैयत, विस्थापित एवं प्रभावितों को ही लोकल सेल संचालन का जिम्मा दिया जाय. वहीं, मोर्चा के सचिव मन्नू टुडू ने कहा कि विस्थापितों को 60 प्रतिशत एवं प्रभावितों को 40 प्रतिशत भागीदारी सुनिश्चित किया जाये. चुरचू जिला परिषद सदस्य अग्नेशिया सांडी पूर्ति ने कहा कि जब तक रैयत विस्थापितों को हक और अधिकार नहीं मिलता है यह आंदोलन जारी रहेगा.

उन्होंने कहा कि रैयत एवं विस्थापित अपने मांगों को लेकर वर्ष 2011 से आंदोलनरत हैं. इसके बावजूद सीसीएल प्रबंधन द्वारा कोई भी सकारात्मक पहल नहीं किया जा रहा है. वहीं, संरक्षक लखीराम मांझी ने कहा कि सीसीएल प्रबंधन के अड़ियल रवैये के कारण आज तक विस्थापित एवं प्रभावितों को उनका हक और अधिकार नहीं मिल पाया है.

इस विरोध प्रदर्शन में जिला परिषद सदस्य अग्नेशिया सांडी पूर्ति के अलावा विस्थापित मोर्चा अध्यक्ष रामकिशोर मुर्मू, सचिव मन्नू टुडू, कोषाध्यक्ष गणेश मांझी, संरक्षक लखीराम मांझी, कार्यकारिणी अध्यक्ष सूरजा मांझी, मीडिया प्रभारी संजय मुर्मू, प्रियंका मुर्मू, गुलाबी किस्कू, पार्वती बाला, शांति देवी, सीता देवी, मंझली देवी, पनपती देवी, रीता देवी, सुनीता लकड़ा, सैरा बानो, सैबुन निशा, अलीमुन निशा, सरीफुन निशा, मरियम खातून, संगीता देवी, मरचो देवी, कर्मी देवी, रसो देवी, कांति देवी, सहिदुन निशा, लैला खातून, अलीमुन निशा, मजदा खातून ,रीता देवी, मीणा देवी, सीता देवी, सरुना देवी, धनेवारी देवी, प्रमिला देवी, सुभासो देवी, आशा देवी, सपना देवी, मनको देवी, जगदीश मांझी, बाढ़ो मांझी, प्रकाश सोरेन, अनिल हेंब्रम, पोरबस टुडू, मनोज टुडू, लूदू मांझी, मेहीलाल टुडू, बबलू टुडू, जयराम मांझी, रामदेव मुर्मू, अमरेंद्र कुमार गुप्ता, बासुदेव महतो, जिबलाल मुर्मू, जेठूवा मांझी, बिरसा मांझी, राजेंद्र कुमार महतो, बॉबी करीम, राजेश कुमार हांसदा, धनेश्वर हांसदा, मोहम्मद आशिक, लालो मांझी, सुरेश मुर्मू, बिनोद टुडू, अर्जुन महतो, देवलाल महतो, गुलाम रब्बानी, अजय साव, शांति देवी, होपन सोरेन, महेश सोरेन, कविता मरांडी, बीरू मुर्मू सहित अन्य लोग शामिल हैं.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें