27.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

बिजली आपूर्ति संकट बरकरार

हजारीबाग जिले भर में बिजली आपूर्ति संकट बरकरार है. शहर व प्रखंडाें में प्रतिदिन छह से आठ घंटे बिजली कट रही है.

हजारीबाग. हजारीबाग जिले भर में बिजली आपूर्ति संकट बरकरार है. शहर व प्रखंडाें में प्रतिदिन छह से आठ घंटे बिजली कट रही है. बड़कागांव, केरेडारी, कटकमसांडी, चलकुशा, टाटीझरिया, दारू और इचाक प्रखंड में सबसे अधिक बिजली कट रही है. बिजली लगातार कटने से 15 दिनों से लोग परेशान हैं. विद्युत सहायक अभियंता ए कुमार ने बताया कि डीवीसी से कम वोल्टेज बिजली मिल रही है. डीवीसी से 33 हजार वोल्ट के स्थान पर 30 हजार वोल्ट बिजली मिल रही है. झारखंड विद्युत वितरण निगम 11 हजार वोल्ट के स्थान पर नौ हजार वोल्ट ही बिजली ट्रांसफार्मर को आपूर्ति कर रही है. इधर बिजली संयत्र पावर ट्रांसफार्मर गर्मी की वजह से काफी गर्म हो जा रहा है. जिससे बार-बार बिजली कट रही है. शाम के समय कई क्षेत्रों में बढ़े लोड की वजह से बिजली काटी जा रही है. हीराबाग विद्युत सब स्टेशन में ओवर लोड की वजह से गांधी मैदान, कुम्हार टोली, मटवारी सहित कई क्षेत्रों में लोड शेडिंग की जा रही है. कई क्षेत्रों में लो वोल्टेज की समस्या शहर व ग्रामीण क्षेत्रों में कई बिजली उपभोक्ताओं लो वोल्टेज की समस्या से जूझ रहे है. ग्रामीण क्षेत्र में शाम पांच बजे से रात के 11 बजे तक कम वोल्टेज रहने से लोग परेशान हैं. लोगों घरों में पानी टंकी भरने के लिए रात के दो बजे तक वोल्टेज के इंतजार में जाग रहे है. कुटीर उद्योग व कल कारखाने प्रभावित हजारीबाग जिले भर में बिजली आपूर्ति की अनमियतता का प्रभाव बिजली आधारित रोजगार पर भी पड़ा है. बिजली से संचालित कुटीर उद्योग और कर-कारखानों को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है. हॉस्पीटल, शिक्षण संस्थान में भी अत्यधिक जेनेरेटर चलाने से काफी आर्थिक क्षति हो रही है. वहीं दुकानदार भी बिजली की मार से परेशान है. भीषण गर्मी में बिजली कटने से लोगों को लगती है सजा 14बीजी5में- बड़कागांव चौक में शाम का दृश्य बड़कागांव. उमश भरी गर्मी के दिनों में भी बड़कागांव प्रखंड में बिजली की आंख मिचोंनी जारी है. इससे जन जीवन अस्त व्यस्त हो जाती है. यहां से बिजली कट जाती है तो लोग गर्मी से बेहाल हो जाते हैं. इस मामले में जन प्रतिनिधियों को पहल नहीं दिखती है. बिजली नहीं रहने के कारण विद्यार्थियों एवं शिक्षक नियुक्ति की तैयारी कर रहे लोगों को पठन-पाठन, इलेक्ट्रॉनिक दुकाने, आटा चक्की, सरसों तेल पेराई मशीन, हल्दी पिसाई मशीन एवं व्यापारियों को भी नुकसान उठाना पड़ रहा है. सिविल सोसाइटी के अध्यक्ष मनोज गुप्ता , कुंदन गुप्ता, अभिमन्यु गुप्ता, लोजप्पा के अल्पसंख्यक जिला अध्यक्ष मोहम्मद परवेज ने कहा कि लगभग एक सप्ताह से बिजली के आंख मिचोनी जारी है. बिजली विभाग द्वारा बड़कागांव को विभाग द्वारा शहरी घोषित किया गया है. विभाग उपभोक्ताओं से शहरी बिल लेता है.लेकिन गांव से भी बदतर बिजली मिलती है.

डिस्क्लेमर: यह प्रभात खबर समाचार पत्र की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. इसे प्रभात खबर डॉट कॉम की टीम ने संपादित नहीं किया है

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें