1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. hazaribagh
  5. jharkhand news scam of millions in barkatha in the name of pm awas middleman withdrawn money instead of beneficiary know the whole matter smj

PM Awas के नाम पर बरकट्ठा में लाखों का घोटाला, लाभुक की जगह बिचौलिये ने निकाली राशि, जानें पूरा मामला

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand news : बरकट्ठा बीडीओ से शिकायत करने पहुंचे लाभुक शिकारी मांझी के साथ पूर्व विधायक जानकी यादव व अन्य.
Jharkhand news : बरकट्ठा बीडीओ से शिकायत करने पहुंचे लाभुक शिकारी मांझी के साथ पूर्व विधायक जानकी यादव व अन्य.
प्रभात खबर.

Jharkhand news, Hazaribagh News, बरकट्ठा (हजारीबाग) : झारखंड के हजारीबाग जिला अंतर्गत चेचकप्पी पंचायत क्षेत्र के डुमरडीहा गांव में पीएम आवास योजना में घोटाला करने का मामला सामने आया है. लाभुक के बिना पीएम आवास बने बिचौलियों के द्वारा पूरी राशि निकाल कर गबन कर लिया गया. इस बाबत लाभुक शिकारी मांझी पिता बंशी मांझी ने लिखित शिकायत बरकट्ठा बीडीओ कृति बाला लकड़ा से की है.

लाभुक ने बताया कि मेरे नाम से पीएम आवास की स्वीकृति मिली. इसके लिए नंबर भी अंकित हुआ. लेकिन, डुमरडीहा गांव के ही मनोज मुर्मू पिता सीताराम मांझी पर आरोप लगाते हुए कहा कि धोखाधड़ी कर मनोज ने पूरी राशि की निकासी कर ली है. मनोज मुर्मू बैंक आफ इंडिया एवं स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की मिनी बैंक संचालक है.

लाभुक शिकारी ने बताया कि मनोज के मुताबिक, उसे पीएम आवास स्वीकृत होने की बात बतायी. मनोज के बार-बार कहने पर मशीन में अंगूठा भी लगाया. इसके बाद भी काफी समय तक पीएम आवास की राशि मुझे नहीं मिली. कुछ दिनों के बाद पता चला कि मेरे स्टेट बैंक के खाता से पीएम आवास का पहला किस्त 40 हजार रुपये, दूसरी किस्त 85 हजार रुपये एवं तीसरी किस्त 5 हजार रुपये की निकासी कर ली गयी है, जबकि इस बाबत मुझे किसी भी तरह की कोई सूचना नहीं दी गयी और ना ही मेरा पीएम आवास का काम शुरू हो पाया है.

इस मामले को लेकर पूर्व विधायक जानकी प्रसाद यादव ने लाभुक के साथ बरकट्ठा प्रखंड मुख्यालय जाकर बीडीओ से अविलंब कार्रवाई करने की मांग की है. पूर्व विधायक श्री यादव ने कहा कि पूर्व में भी इस तरह के कई मामले प्रखंड क्षेत्र में सामने आये हैं, लेकिन उसपर उचित जांच और कार्रवाई नहीं पायी है.

उन्होंने कहा कि केंदुआ में भी बिना पीएम आवास बने प्रखंड कर्मियों की मदद से पूरी राशि निकाली गयी थी. उस मामले का आरोपी पर किसी तरह की कोई कार्रवाई अब तक नहीं हुई. इधर, बीडीओ ने लाभुक से मिली लिखित शिकायत की बाद पंचायत सेवक एवं कोर्डिनेटर को जांच कर 12 घंटे में रिपोर्ट सौंपने को कहा है. उन्होंने बताया कि मामले की जांच के बाद दोषी पाये जाने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जायेगी.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें