1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. hazaribagh
  5. jharkhand news hazaribagh animal husbandry department lacks many personnel including veterinary doctors villagers are unable to get treatment of animals smj

पशुपालन विभाग हजारीबाग में वेटनरी डॉक्टर्स समेत कई कर्मियों का अभाव, ग्रामीण नहीं करा पा रहे हैं पशुओं का इलाज

हजारीबाग जिला पशुपालन विभाग में वेटनरी डॉक्टर्स समेत कई कर्मियों की काफी कमी है. इसके कारण क्षेत्र के पशुपालकों को अपनी पशुओं का इलाज कराने में परेशानी हो रही है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
हजारीबाग जिला में वेटनरी डॉक्टर्स समेत अन्य कर्मियों की भारी कमी  है.
हजारीबाग जिला में वेटनरी डॉक्टर्स समेत अन्य कर्मियों की भारी कमी है.
प्रभात खबर.

Jharkhand News (आरिफ, हजारीबाग) : उत्तरी छोटानागपुर का प्रमंडलीय मुख्यालय हजारीबाग के पशुपालन विभाग में पशु चिकित्सक समेत कई अन्य कर्मियों की भारी कमी है. इसमें प्रखंड पशु चिकित्सा पदाधिकारी, भ्रमणशील पशु चिकित्सा पदाधिकारी, पशुधन सहायक, कार्यालय कर्मी, अनुसेवक एवं नाइट गार्ड की कमी है. इसके कारण क्षेत्र के ग्रामीण अपनी पशुओं का सही तरीके से इलाज नहीं करा पा रहे हैं. इतना ही नहीं, नाइट गार्ड के अभाव में प्रखंड पशु चिकित्सालय भी भगवान भरोसे है.

हजारीबाग जिला अंतर्गत 8 प्रखंड बड़कागांव, विष्णुगढ़, टाटीझरिया, चलकुसा, दारू, कटकमदाग, डाडी एवं पदमा में प्रखंड पशु चिकित्सा पदाधिकारी नहीं हैं. टाटीझरिया के झुमरा एवं चौपारण के रामपुर दोनों सेंटर पर भ्रमणशील पशु चिकित्सा पदाधिकारी का पद खाली है. सभी 16 प्रखंड के लिए 33 पशुधन सहायक में 26 पशुधन सहायक कार्यरत नहीं हैं. 16 अनुसेवक एवं 16 नाइट गार्ड का पद रिक्त है. रात में सभी प्रखंड पशु चिकित्सालय बगैर नाइट गार्ड के भगवान भरोसे सुरक्षित है.

प्रखंड पशु चिकित्सा पदाधिकारी का पद सृजित नहीं

हजारीबाग जिला के टाटीझरिया, चलकुसा, दारू, कटकमदाग, डाडी एवं पदमा 6 प्रखंड बने कई वर्ष गुजर गये. इन सभी में प्रखंड पशु चिकित्सा पदाधिकारी का पद अब-तक सृजित नहीं हुआ है. यहां लाखों रुपये खर्च कर पशु अस्पताल बनाये गये हैं. लेकिन, सभी वीरान स्थिति में है.

समय पर इलाज नहीं

पशु चिकित्सकों के नहीं होने से ग्रामीण क्षेत्र में पशुओं का इलाज समय पर नहीं हो रहा है. ग्रामीण क्षेत्र के किसान गाय, बैल, बकरी, सूकर, मुर्गी, बत्तख समेत अन्य पालतू जानवर पालते हैं. ये उनका आर्थिक स्रोत है. ऐसे में जानवरों के सही रख-रखाव एवं विभिन्न प्रकार की बीमारियों की देखरेख के लिए पशु चिकित्सकों का होना अनिवार्य है. इनके नहीं रहने से किसान परेशान हैं.

कई चिकित्सकों को दो व तीन प्रखंड का मिला प्रभार

बता दें कि जुलाई 2020 से अवर प्रमंडल पशु चिकित्सा पदाधिकारी का पद खाली है. प्रांतीयकृत पशु चिकित्सालय पदाधिकारी डॉ विक्टर शा को अवर प्रमंडल पशु चिकित्सा प्रभारी बनाया गया है. कई प्रखंड पशु चिकित्सा पदाधिकारी को दो एवं तीन प्रखंड का प्रभार मिला है.

पशु जांच शिविर को किसान बता रहे खानापूर्ति

जिला पशुपालन विभाग की ओर से 15 अगस्त, 2021 से पंचायत स्तर पर पशु जांच शिविर अभियान शुरू है. यह अभियान दो अक्टूबर तक चलेगा. कई किसानों ने जांच शिविर अभियान को खानापूर्ति बताया है. जांच शिविर के नाम पर मोटी रकम खर्च की जा रही है.

पेट क्लिनिक बंद : डॉ न्यूटन तिर्की

इस संबंध में जिला पशुपालन पदाधिकारी डॉ न्यूटन तिर्की ने कहा कि जिला में पशु चिकित्सक एवं कार्यालय कर्मियों की कमी है. इस पर हर तीन महीने में सरकार को रिपोर्ट भेजी जा रही है. पशु चिकित्सकों की कमी के कारण कल्लू चौक स्थित एकमात्र प्रांतीयकृत पशु चिकित्सालय में 24 X 7 पेट क्लिनिक सेवा को बंद किया गया है.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें