1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. gumla
  5. jharkhand news zila parishad gumla feat registration of more than 300 contractors canceled without notice smj

जिला परिषद गुमला का कारनामा, बिना नोटिस दिये 300 से अधिक ठेकेदारों का रजिस्ट्रेशन किया रद्द

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand news : गुमला जिला परिषद ने बिना सूचना दिये 300 से अधिक ठेकेदारों का रजिस्ट्रेशन किया रद्द.
Jharkhand news : गुमला जिला परिषद ने बिना सूचना दिये 300 से अधिक ठेकेदारों का रजिस्ट्रेशन किया रद्द.
प्रभात खबर.

Jharkhand News, Gumla News, गुमला (दुर्जय पासवान) : जिला परिषद, गुमला ने अपने विभाग से निबंधित 300 से अधिक संवेदकों (ठेकेदार) का रजिस्ट्रेशन रद्द कर दिया है. इन कॉन्ट्रैक्टरों को कोई नोटिस नहीं मिला है. अचानक रजिस्ट्रेशन रद्द करने की सूचना जारी कर दी गयी, जबकि इन संवेदकों का रजिस्ट्रेशन वर्ष 2022 तक वैद्य है. अभी रजिस्ट्रेशन की वैद्यता दो साल बाकी है.

अचानक रजिस्ट्रेशन रद्द होने से जिले के सभी संवेदक परेशान हैं, क्योंकि लाखों रुपये खर्च कर संवेदकों ने जिला परिषद में रजिस्ट्रेशन कराया था, ताकि जिला परिषद से निकलने वाले टेंडर (भवन, सड़क, पुल, पुलिया व अन्य विकास के काम) में शामिल होकर अपनी रोजी- रोटी चला सके. रजिस्ट्रेशन रद्द होने के बाद अब संवेदकों को पुन: नये सिरे से रजिस्ट्रेशन कराना होगा. फिर लाखों रुपये का खर्च होगा.

जिला परिषद के अधिकारी ने रजिस्ट्रेशन रद्द करने में इतनी जल्दबाजी क्यों की. यह गुमला में संवेदकों के बीच चर्चा का विषय बना है. साथ ही अधिकारी के इस कारनामे को लेकर संवेदक एकजुट हो रहे हैं. संवेदकों ने कहा है कि जिला परिषद ने विज्ञापन जारी किया है. जिसमें एक फरवरी से रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन प्राप्त करने की तिथि है, लेकिन कब तक आवेदन लिया जायेगा. यह तिथि तय नहीं है. न ही रजिस्ट्रेशन कब तक हो जायेगा. इसकी भी तिथि जारी नहीं की गयी है. संवेदकों ने आरोप लगाया कि लेनदेन को लेकर रजिस्ट्रेशन रद्द किया गया है. अगर 300 संवेदक रजिस्ट्रेशन कराते हैं, तो इसमें करोड़ों रुपये का लेनदेन होने की संभावना है.

संवेदकों ने खड़े किये सवाल

इस मामले को लेकर संवेदकों (ठेकेदारों) ने कई सवाल भी खड़े किये हैं. कहा गया है कि जिला परिषद में जितने भी रजिस्ट्रेशन था. सभी को अचानक रद्द किया गया है. आवेदन लेने के बाद रजिस्ट्रेशन कब होगा. इसकी भी तिथि जारी नहीं की गयी है. रजिस्ट्रेशन रद्द करने से पहले सभी संवेदकों को नोटिस दिया जाना चाहिए था. अधिकारी ने अपने मन से नियम कानून का हवाला देकर रजिस्ट्रेशन रद्द किया. वहीं, ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन कराने की जगह ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन क्यों नहीं हो रहा. रजिस्ट्रेशन रद्द कराने में एक अधिकारी व एक कर्मचारी की भूमिका ज्यादा है. संवेदकों का यह आरोप भी है कि वर्ष 2022 तक वैद्य है, तो अभी क्यों रजिस्ट्रेशन रद्द हुआ.

विज्ञापन जारी कर रजिस्ट्रेशन किया रद्द

वहीं, जिला परिषद गुमला के एक कर्मचारी ने बताया कि जिला परिषद के सचिव के दिशा- निर्देश के बाद सभी संवेदकों का रजिस्ट्रेशन रद्द किया गया है. रजिस्ट्रेशन रद्द करने से पहले किसी भी संवेदक को मौखिक सूचना नहीं दी गयी और न ही नोटिस दिया गया. सीधे विज्ञापन जारी कर रजिस्ट्रेशन रद्द होने एवं नये सिरे से रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन प्राप्त करने की जानकारी दी गयी है.

300 से अधिक लोगों का रजिस्ट्रेशन हुआ रद्द : राजेश कुमार

गुमला के जिला संवेदक राजेश कुमार ने कहा कि 300 से अधिक लोगों का रजिस्ट्रेशन जिला परिषद ने रद्द कर दिया है, जबकि वर्ष 2022 तक रजिस्ट्रेशन वैद्य है. रद्द कर नये सिरे से रजिस्ट्रेशन कराने के पीछे का मकसद अवैध कमाई करना है. रजिस्ट्रेशन के नाम पर अब लेनदेन की दुकान शुरू होगी. इसमें संवेदकों को परेशानी के साथ मोटी रकम भी चुकानी पड़ सकती है. करोड़ों रुपये के लेनदेन की संभावना है.

पुराने नियमावली के तहत रजिस्ट्रेशन हुआ रद्द : संजय बिहारी

वहीं, डीडीसी सह जिप सचिव, गुमला के संजय बिहारी ने कहा कि पुरानी नियमावली से जितने भी रजिस्ट्रेशन था. सभी को रद्द कर दिया गया है. अब नयी नियमावली के तहत सभी संवेदकों का रजिस्ट्रेशन होगा. पूर्व में जिला परिषद के बोर्ड की बैठक में रजिस्ट्रेशन रद्द कर नये सिरे से रजिस्ट्रेशन कराने का निर्णय लिया गया था.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें