29.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

झारखंड: सुरक्षा बलों की भाकपा माओवादी से मुठभेड़, 300 राउंड चलीं गोलियां, नक्सली कैंप ध्वस्त

पुलिस अधीक्षक आशुतोष शेखर ने बताया कि उन्हें गुप्त सूचना मिली थी. उसी के आधार पर कार्रवाई की गयी है. इसमें पुलिस को सफलता मिली है. नक्सल ऑपरेशन पर निकले सुरक्षा बलों की भाकपा माओवादी से मुठभेड़ हो गयी. इसमें करीब 300 राउंड गोलियां चली हैं. नक्सली कैंप ध्वस्त किया गया है. कई सामान बरामद किए गए हैं.

चाईबासा, सुनील सिन्हा: झारखंड के पश्चिमी सिंहभूम जिले के जंगलों में नक्सल ऑपरेशन पर निकले सुरक्षा बलों की भाकपा माओवादी से मुठभेड़ हो गयी. बताया जा रहा है कि इस क्रम में करीब 300 राउंड गोलियां चली हैं. मुठभेड़ में माओवादियों के घायल होने की सूचना है, लेकिन अभी तक आधिकारिक पुष्टि नहीं की गयी है. पुलिस को भारी पड़ता देख माओवादी जंगल का फायदा उठाते हुए भाग निकले. मुठभेड़ के बाद सुरक्षा बलों ने जंगल में सर्च ऑपरेशन चलाया. इस दौरान उन्हें नक्सली कैंप मिले. तत्काल नक्सल कैंप को ध्वस्त कर दिया गया. यहां के कई सामान बरामद कए गए हैं. पुलिस अधीक्षक आशुतोष शेखर ने बताया कि उन्हें गुप्त सूचना मिली थी. उसी के आधार पर कार्रवाई की गयी है. इसमें पुलिस को सफलता मिली है.

10 अक्तूबर से जारी है अभियान

भाकपा माओवादी के खिलाफ बीते 10 अक्तूबर से अभियान गोईलकेरा थानान्तर्गत ग्राम कुईड़ा, छोटा कुईड़ा, मारादिरी, मेरालगड़ा, हाथीबुरू, तिलायबेड़ा बोयपाईससांग, कटम्बा, बायहातु, बोरोय, लेमसाडीह के सीमावर्त्ती क्षेत्र तथा टोंटो थानांतर्गत हुसिपी, राजाबासा, तुम्बाहाका, रेगड़ा, पाटातोरब, गोबुरू, लुईया गांव के सीमावर्त्ती क्षेत्र में शुरू किया गया है. इसी क्रम में बुधवार को नक्सली संगठन भाकपा माओवादी के शीर्ष नेता व एक करोड़ के इनामी नेता मिसिर बेसरा, पतिराम मांझी उर्फ अनल उर्फ रमेश एवं असीम मंडल के सारंडा क्षेत्र में भ्रमणशील होने की सूचना पर पश्चिमी सिंहभूम जिला पुलिस व सीआरपीएफ जवानों ने संयुक्त कार्रवाई कर न केवल नक्सली कैंप को ध्वस्त कर दिया है, बल्कि भारी मात्रा में नक्सलियों के सामान भी बरामद किए हैं.

Also Read: झारखंड: नक्सलियों के खिलाफ मिली बड़ी सफलता, लेवी के पांच लाख रुपये के साथ दो माओवादी गिरफ्तार

मुठभेड़ में चलीं 300 राउंड गोलियां

पुलिस अधीक्षक आशुतोष शेखर ने बताया कि उन्हें नक्सलियों की केंद्रीय कमेटी के सदस्य मिसिर बेसरा, पतिराम मांझी उर्फ अनल उर्फ रमेश व असीम मंडल के सारंडा में भ्रमणशील होने की जानकारी मिली थी. जानकारी मिलने के बाद पांच दिसंबर को नक्सलियों के खिलाफ छोटानागरा थाना एवं जराईकेला थाना के सीमावर्त्ती जंगली क्षेत्र में संयुक्त अभियान शुरू किया गया था. इसी क्रम में अभियान के दूसरे दिन छह दिसंबर को प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी एवं सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़ हो गयी. करीब आधा घंटा तक चली इस मुठभेड़ में दोनों ओर से करीब 300 राउंड गोलियां चलायी गयी थीं.

Also Read: झारखंड: सीएम हेमंत सोरेन ने 348 करोड़ की दी सौगात, बोले-आठ लाख गरीबों के आशियाने का सपना पूरा करेगी अबुआ सरकार

नक्सली कैंप ध्वस्त

आशंका जतायी जा रही है कि कुछ नक्सलियों को गोली भी लगी है, लेकिन इसकी पुष्टि नहीं हो पायी है. मुठभेड़ के क्रम सुरक्षा बलों को भारी पड़ता देख नक्सली जंगल एवं पहाड़ का लाभ उठाते हुए भाग खड़े हुए. इसके बाद पुलिस व सुरक्षाबलों ने नक्सलियों के खिलाफ सर्च अभियान भी चलाया. सर्च अभियान के क्रम में ही छोटानागरा थाना एवं जराईकेला थाना के सीमावर्त्ती जंगली एवं पहाड़ी क्षेत्र में नक्सलियों का आधा दर्जन अस्थायी कैंप ध्वस्त किया गया. इन कैंपों में करीब 50-60 नक्सलियों के रुकने की व्यवस्था थी. कैंप को सुरक्षा बलों के द्वारा ध्वस्त कर दिया गया. इसके साथ ही कैंप से नक्सलियों के दैनिक उपयोग एवं कैंप के निर्माण में उपयोग किये जाने वाली सामग्री भी बरामद की गयी.

Also Read: झारखंड: 1000 करोड़ के अवैध खनन मामले में पंकज मिश्रा समेत तीन के साहिबगंज आवास पर सीबीआई की रेड

नक्सलियों के खिलाफ जारी है अभियान

उल्लेखनीय है कि प्रतिबंधित भाकपा माओवादी नक्सली संगठन के शीर्ष नेता मिसिर बेसरा, अनमोल, मोछु, चमन, कांडे, अजय महतो, सागेन अंगरिया, अश्विन अपने दस्ता सदस्यों के साथ कोल्हान क्षेत्र में विध्वंसक गतिविधि के लिए भ्रमणशील है. लिहाजा पश्चिमी सिंहभूम जिला पुलिस, कोबरा 209, 203, 205, झारखंढ जगुआर के अलावा सीआरपीएफ 60, 197, 157, 174, 193, 134 एवं 26 बटालियन की टीमों द्वारा संयुक्त अभियान दल गठित कर लगातार अभियान चलाया जा रहा है. पुलिस अधीक्षक ने कहा कि नक्सलियों के खिलाफ यह अभियान लगातार जारी है.

Also Read: झारखंड कैबिनेट की बैठक में 27 प्रस्तावों पर मुहर, 15 से 21 दिसंबर तक के शीतकालीन सत्र को मिली स्वीकृति

नक्सली कैंप से बरामद किए गए सामान

– डेटोनेटर (इलेक्ट्रिक) 15 नग

– बैटरी (9वी) 20 नग

– बैटरी कनेक्टर 12 नग

– मैगजीन (इंसास) 01

– खाली केस (762 एमएम एसएलआर) 01

– प्रिंटर (एचपी) 01

– वर्दी (काली डांगरी) 06

– नक्सली कैप 06

– बेल्ट (काला एवं हरा) 02 प्रत्येक

– बैग (काला पिट्ठू बैग) 10

– जंगल जूते (लिबर्टी) 01 जोड़ी

– जैरी केन (प्लास्टिक) 20 नग

– मेडिसिन बक्स 04

– एल्यूमिनियम पतीला 04

– स्टील मग 08 – टिफिन बक्स 06

– चावल 25 किग़्रा

– दाल 25 किग़्रा

– चीनी 10 किग़्रा

– कैंप के निर्माण में उपयोग किये जाने वाली सामग्री

– अन्य दैनिक उपयोग के सामान

Also Read: झारखंड: नहीं रहीं पूर्व विधायक व 1974 आंदोलन की सिपाही रानी डे, बोकारो में शुक्रवार को होगा अंतिम संस्कार

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें