1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. chaibasa
  5. jharkhand ied blast update ied blast in chaibasa three soldiers martyred three injured on the basis of suspicion being interrogated taking so many people in custody srn

Jharkhand IED Blast : नक्सलियों ने जेसीबी मशीन के पाइप से तैयार किया था डायरेक्शनल माइंस, विस्फोट में तीन जवान शहीद

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
Jharkhand Naxal News : चाईबासा में आइइडी विस्फोट में तीन जवान शहीद, 3 घायल
Jharkhand Naxal News : चाईबासा में आइइडी विस्फोट में तीन जवान शहीद, 3 घायल
प्रभात खबर

Naxal Attack in jharkhand, Jharkhand news, Chaibasa news : रांची/चक्रधरपुर. पश्चिमी सिंहभूम (चाईबासा) जिले के टोकलो थाना क्षेत्र के लांजी जंगल में गुरुवार सुबह 8.30 बजे नक्सलियों के आइइडी विस्फोट में एसटीएफ (झारखंड जगुआर) के एक हवलदार व दो आरक्षी शहीद हो गये. शहीद हवलदार देवेंद्र पंडित गोड्डा के ललमटिया थाना क्षेत्र के घानाबिंदी गांव, आरक्षी किरण सुरीन सिमडेगा व हरिद्वार साह पलामू के उंटारी प्रखंड अंतर्गत लहरबंजारी गांव के रहनेवाले थे. वहीं, खूंटी के रहनेवाले आरक्षी दीप टोपनो व लातेहार निवासी आरक्षी निक्कू उरांव गंभीर रूप से घायल हो गये हैं.

इसके अलावा सीआरपीएफ 197 बटालियन का रेडियो ऑपरेटर बाला गुरुंग आंशिक रूप से घायल हो गये. सभी घायलों का इलाज मेडिका अस्पताल (रांची) में चल रहा है. लैंडमाइन विस्फोट के बाद सीआरपीएफ व एसटीएफ की टीम ने मोर्चा संभाल ताबड़तोड़ नक्सलियों पर फायरिंग शुरू कर दी. लेकिन कुछ देर बाद कोई जवाब नहीं मिलने पर फायरिंग बंद कर दी गयी. संदेह के आधार पर जवानों ने तीन ग्रामीण को हिरासत में लिया है. कुछ जवानों ने कहा कि विस्फोट के बाद घटनास्थल से तीन सौ मीटर दूर पर एक युवक को जंगल की ओर भागते देखा गया था.

घटना के बाद कोल्हान डीआइजी राजीव रंजन, सीआरपीएफ 60 बटालियन के कमाडेंट आनंद जेराई, चाईबासा एसपी अजय लिंडा घटनास्थल पहुंचे व जायजा लिया. शहीद जवानों को एसटीएफ मुख्यालय में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, मुख्य सचिव सुखदेव सिंह व डीजीपी नीरज सिन्हा सहित अन्य अधिकारियों ने सलामी दी.

सर्च अभियान पर निकली थी टीम

झारखंड एसटीएफ व सीआरपीएफ 197 बटालियन की टीम सर्च अभियान पर निकली थी. गुरुवार सुबह कुल 60 पुलिसकर्मी लांजी पहाड़ पर चढ़ रहे थे. 50 मीटर ऊपर चढ़ने पर अचानक जोरदार धमाका हुआ. नक्सलियों द्वारा छिपा कर रखे गये डायरेक्शनल माइन के विस्फोट में एसटीएफ जवान किरन सुरीन व हरिद्वार साह घटनास्थल पर ही शहीद हो गये. वहीं, हवलदार सहित चार जवानों को घायल अवस्था में हेलीकॉप्टर से रांची के मेडिका अस्पताल लाया गया. जहां हवलदार देवेंद्र पंडित की मौत हो गयी.

क्या है डायरेक्शनल माइन

डायरेक्शनल माइन को पाइप में तैयार किया जाता है. यह टारगेट वाले दिशा में विस्फोट करता है. घटनास्थल से तीन मीटर तार, जेसीबी मशीन का चार फीट का पाइप व छोटे-छोटे 12 एमएम रॉड का टुकड़ा बरामद किया गया है. इन सब चीजों का इस्तेमाल डायरेक्शनल माइंस में किये जाने की बात कही जा रही है.

रांची के टेंडरग्राम स्थित झारखंड जगुआर मुख्यालय में शहीद हवलदार देवेंद्र कुमार पंडित, आरक्षी हरिद्वार साह व आरक्षी किरण सुरीन को पुष्पचक्र अर्पित कर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने श्रद्धांजलि दी. शहीदों के परिजनों से मिलकर मुख्यमंत्री ने उन्हें सांत्वना दी.

नक्सली मुख्यधारा में लौटें वरना कार्रवाई : aमुख्यमंत्री

रांची. मुख्यमंंत्री हेमंत सोरेन ने चाईबासा में हुए नक्सली हमले की निंदा की है. उन्होंने शहीद जवानों को सैल्यूट किया. सीएम ने कहा कि नक्सलियों के खिलाफ ऑपरेशन में तेजी लायी गयी है. इस तरह की घटनाएं ज्यादा समय तक नहीं चल सकेंगी. मुख्यमंत्री ने नक्सल वारदात में शामिल लोगों से मुख्यधारा में आने की एक बार फिर अपील की. सीएम ने उन्हें आश्वस्त किया कि सरकार उनके और उनके पूरे परिवार के साथ मानवीय व्यवहार करेगी. अन्यथा पुलिस उनके खिलाफ अभियान तेज करेगी.

सर्च अभियान पर निकली थी टीम

एसटीएफ के दो जवान घायल, सीआरपीएफ का रेडियो ऑपरेटर भी घायल

घटनास्थल से थोड़ी दूर पर भागता दिखा युवक, तीन ग्रामीण हिरासत में

शहीद होनेवालों में एक हवलदार गोड्डा के व दो आरक्षी पलामू और सिमडेगा के

टोकलो थाना क्षेत्र के लांजी जंगल की घटना

Posted By : Sameer Oraon

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें