27.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

जगरनाथ महतो की पहली पुण्यतिथि पर बोले सीएम चंपाई सोरेन, 1932 का खतियान आधारित नीति लाकर रहेंगे, बीजेपी पर साधा निशाना

झारखंड के पूर्व मंत्री जगरनाथ महतो की पहली पुण्यतिथि पर सीएम चंपाई सोरेन ने कहा कि 1932 का खतियान आधारित नीति लाकर रहेंगे. इस दौरान उन्होंने बीजेपी पर निशाना साधा.

बेरमो-फुसरो नगर (बोकारो): झारखंड के सीएम चंपाई सोरेन ने कहा कि जगरनाथ बाबू ने हर समय अपने संघर्ष को जारी रखा. कभी भी रांची में समय नहीं बिताते थे. झारखंड का हित हो ऐसे हर काम के बारे में सोचते रहते थे. उनकी रुमाल से लेकर गाड़ी तक में झारखंडियत झलकती थी. वे अक्सर कहा कहते थे कि शिक्षा विभाग कैसे दुरुस्त होगा? पारा शिक्षकों की समस्याओं का निदान कैसे होगा? कभी भी अपने सुख पर ध्यान नहीं दिया. उन्हें पूरा विश्वास है कि आज नहीं तो कल 1932 का खतियान आधारित नीति लाकर रहेंगे. वे बोकारो के चंद्रपुरा प्रखंड के अलारगो स्थित उनके समाधि स्थल पर आयोजित श्रद्धांजलि सभा में बोल रहे थे.

बीजेपी पर साधा निशाना
मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने कहा कि जिस किसी को झारखंड व यहां की मिट्टी से दर्द है, वह कभी भी बीजेपी को वोट नहीं दे. बीजपी को यहां की जनता नहीं बल्कि खनिज-संपदा प्यारी है. मुझे पूरा विश्वास है कि आज नहीं तो कल 1932 का खतियान आधारित नीति लाकर रहेंगे. इसके साथ ही सरना धर्म कोड व आरक्षण में वृद्धि को लागू करके रहेंगे. 2024 के चुनाव में लोकतंत्र, संविधान व झारखंड को बचाना है, नहीं तो ये लोग एक दिन सबको नष्ट कर देंगे. झारखंड को संवारना है व शहीदों के सपनों को साकार करना है तो बहुरुपिया पार्टी को जगह नहीं देना है. उसके साथ जो रहेगा, उसे भी खड़ा होने की जगह नहीं देनी है.

गरीबों तक पहुंचा रहे हैं योजनाएं
सीएम चंपाई सोरेन ने कहा कि हमारी पार्टी ने झारखंड आंदोलन की बुनियाद से पैदा हुए टुंडी विधायक मथुरा महतो को गिरिडीह लोकसभा सीट से टिकट दिया है. यही आजसू गठबंधन ने रघुवर दास की सरकार में 1985 की स्थानीय नीति पर लड्डू बांटा था. बीजेपी ने कभी भी झारखंड का भला नहीं चाहा. उनकी हमेशा झारखंड की खनिज-संपदा पर नजर रही. यहां के आदिवासी-मूलवासी व्यापारी नहीं है. हमारी सरकार ने गांव के गरीब परिवार तक योजनाएं पहुंचाने का काम किया. बीजेपी ने जनता को ठगा. हम योजनाओं को लाकर शिक्षा, आर्थिक, सामाजिक व्यवस्था को दुरस्त कर रहे हैं.

Also Read: झारखंड : सीएम चंपाई सोरेन ने दी चेतावनी, काम समय पर नहीं हुआ पूरा तो देनी होगी पेनाल्टी

केंद्र सरकार पर भी बरसे चंपाई सोरेन
मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने कहा कि हेमंत बाबू की सरकार उस वक्त आदिवासियों-मूलवासियों की सोच के साथ काम कर रही थी. गरीबों को रोटी-कपड़ा व मकान देने का काम किया. केंद्र सरकार ने यहां के 8 लाख गरीबों को पीएम आवास से वंचित कर दिया. भारत सरकार ने अपने हिस्से के राशि को देना बंद कर दिया. इसलिए हमने अपने दम पर तीन कमरों का अबुआ आवास देने का काम जरुरतमंदों को शुरू किया. राज्य में पूर्व की बीजेपी सरकार ने पांच हजार से ज्यादा प्राइमरी स्कूलों को बंद कर दिया ताकि यहां के गांव-देहात के आदिवासी मूलवासी का बच्चा नहीं पढ़ सके. हमलोगों ने विद्यालयों को चालू कराया. गुरुजी क्रेडिट कार्ड दे रहे हैं. उच्च शिक्षा के लिए बच्चों को विदेश भेजा. बीजेपी से सावधान रहें. किसानों के लिए हमारी सरकार सिंचाई की सुविधा प्रदान कर रही है. मुख्यमंत्री ग्राम गाड़ी योजना चल रही है. इससे पेंशनर व वृद्ध फ्री यात्रा कर सकेंगे. केंद्र सरकार ने वन अधिकार अधिनियम को संशोधन कर दिया गया है ताकि जंगलों को कोई बड़े पूंजीपति को लीज पर दे सके. झारखंड के इतिहास को मिटाने की इनकी सोच है.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें