34.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

UPSC Result: बिहार के राहुल लगातार 3 बार हुए फेल, इन 5 वजहों ने पटना में रहकर बिना कोचिंग दिलवाया 10वां रैंक..

UPSC Result: बिहार के मुजफ्फरपुर निवासी राहुल श्रीवास्तव ने दसवां रैंक हासिल किया है. राहुल ने पटना में रहकर पढ़ाई की और बिना कोचिंग के ही सबसे कठिन माने जाने वाली परीक्षा में टॉप 10 में आ गए. राहुल ने किन 5 चीजों को अपने अंदर ढाला और सफल हुए, जानिए..

UPSC Result: बिहार के मुजफ्फरपुर निवासी राहुल श्रीवास्तव (rahul shrivastava upsc) को यूपीएससी परीक्षा 2022 में दसवां स्थान मिला है. टॉप 10 में शामिल हुए राहुल के संघर्ष की कहानी भी प्रेरणादायक है. लगातार तीन बार असफल रहने के बाद राहुल हताश नहीं हुए, बल्कि इससे सीख लेते हुए तैयारी का तरीका ही बदल दिया. नतीजा, चौथे प्रयास में सिविल सेवा में 10वां रैंक मिला.

पटना में ही रहता है पूरा परिवार

मुजफ्फरपुर शहर के काजी मोहम्मदपुर थाना क्षेत्र के दामुचक निवासी केनरा बैंक से सीनियर मैनेजर के पद से रिटायर्ड बसंत कुमार के पुत्र राहुल श्रीवास्तव की सफलता जिले के साथ ही पूरे राज्य के लिए बड़ी उपलब्धि है. राहुल का पूरा परिवार पटना के चितकोहरा में रहता है. उनका ननिहाल भी वहीं है. राहुल की प्रारंभिक शिक्षा पटना से ही हुई है.

पटना में रहकर की तैयारी..

डीएवी पटना से 12वीं की पढ़ाई पूरी करने के बाद एनआइटी त्रिची से वर्ष 2015 में इलेक्ट्रॉनिक्स में बीटेक किया. राहुल ने बताया कि बीटेक के बाद सिविल सेवा की तैयारी में जुट गये. उनकी मां मधुबाला सहाय गृहिणी हैं. बड़ी बहन मीनल चंद्रा की शादी हो गयी है. राहुल ने बताया कि पटना में माता-पिता के साथ रहकर तैयारी कर रहे थे.

Also Read: UPSC Result: बिहार से टॉपर बनीं इशिता व गरिमा के सिर से उठ गया था पिता का साया, जानें संघर्ष व सफलता की कहानी
जानिये सफलता की पांच मुख्य वजह-

  • तीन बार असफल रहने के बाद चाैथे प्रयास में 10वां रैंक आने के पीछे प्रमुख वजह क्या रही?

राहुल- यूपीएससी 2022 की तैयारी शुरू करने से पहले मैंने खुद का आकलन किया. कुछ कमियां मिलीं, तो उसे सुधारने का प्रयास किया. साथ ही इस बार अपना स्ट्रेटजी भी बदल दिया. बेसिक बुक्स के साथ ज्यादा से ज्यादा रिवीजन पर फोकस किया. इससे पहले जहां से जो भी मिल जाता, उसी से पढ़ाई कर लेता था.

  • आठ साल लगातार तैयारी करते रहे, इस दौरान असफलता से मन विचलित नहीं हुआ?

राहुल- 2015 में बीटेक पूरा करने के बाद सिविल सर्विसेज में जाने का मन बनाया और तैयारी शुरू कर दी. इससे पहले तीन बार यूपीएससी की परीक्षा में शामिल हुआ और असफलता मिली. अन्य कई परीक्षाओं में भी शामिल हुआ और सफल रहा. इसी वजह से कभी मन डिगा नहीं और हर बार अधिक उत्साह से लक्ष्य हासिल करने में जुट जाता.

  • प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए कोचिंग कर रहे थे या खुद पढ़ाई की?

राहुल- यूपीएससी की तैयारी के लिए मैंने सेल्फ स्टडी का ही विकल्प चुना था. पटना में मम्मी-पापा के साथ रहते हुए खुद से तैयारी कर रहे थे. कुछ स्टडी मैटीरियल ऑनलाइन भी उपलब्ध थे, जिससे काफी सहयोग मिला.

  • आप सोशल मीडिया पर कितने सक्रिय हैं?

राहुल- सोशल मीडिया पर ज्यादा सक्रिय नहीं हूं. केवल न्यूज या करेंट अफेयर्स से अपडेट रहने के लिए ही इस्तेमाल करता हूं. फेसबुक-इंस्टाग्राम सहित अन्य प्लेटफॉर्म को लेकर कोई रुचि नहीं है.

  • यूपीएससी के लिए रोजाना कितने घंटे पढ़ाई करते थे?

राहुल- रोजाना औसत पांच से छह घंटे ही पढ़ाई करता था. कभी कम, तो कभी ज्यादा भी हो जाता था. हमेशा यही प्रयास रहा कि जितनी देर भी पढ़ूं, एकाग्र होकर पढ़ूं. जो भी विषय पढ़ता, उस पर पूरा फोकस रखता था.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें