1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. saharsa
  5. girl kidnapped in saharsa in name of sharab investigation fake police of sp lipi singh skt

एसपी लिपी सिंह की पुलिस बनकर आए बदमाश, शराब जांच के बहाने रोकी गाड़ी और लड़की का कर लिया अपहरण

सहरसा जिले में बेखौफ बदमाशों ने एक लड़की का अपहरण कर लिया. शराब जांच के बहाने बदमाशों ने गाड़ी रोकी और लड़की को उठा ले गये. इस दौरान लड़की के परिवारजनों के साथ मारपीट भी की गयी.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
अपहरण
अपहरण
फाइल

सहरसा जिले के सौरबाजार-पतरघट मुख्य मार्ग के सिलेठ के समीप दिनदहाड़े चरपहिया वाहन रुकवाकर लड़की का अपहरण कर लिया गया. इस दौरान विरोध करने पर दूसरे वाहन से आये बदमाशों ने मां, बाप व भाई को तेज धारदार हथियार से वार कर जख्मी कर दिया. वहीं दहशत फैलाने के लिए गोली भी चलायी और लड़की को अपने साथ लेकर चले गये.

पुलिस जांच में जुटी

घटना के बाद स्थानीय लोगों की मदद से जख्मी को सौरबाजार पीएचसी ले जाया गया, जहां से बेहतर इलाज के लिए सदर अस्पताल भेज दिया गया. सदर अस्पताल में जख्मी का इलाज चल रहा है. घटना के बाद कई तरह की बात सामने आ रही है. लोग प्रेम-प्रसंग में घटना को अंजाम देने की बात कह रहे हैं. हालांकि यह पुलिस अनुसंधान का विषय है, लेकिन जिस अंदाज से घटना को अंजाम दिया गया. वह पुलिस के लिए खुली चुनौती है.

शराब जांच के बहाने रोकी गाड़ी

पीड़ित सिमरी बख्तियारपुर थाना क्षेत्र के सोनपुरा गांव निवासी अवधेश सिंह ने बताया कि वह अपनी पत्नी सुमन कुमारी, पुत्री-पुत्र व अन्य के साथ कपसिया अपनी भतीजी के पुत्र के मुंडन में शामिल होने जा रहे थे. सौरबाजार से आगे निकलने के बाद एक चरपहिया ने ओवरटेक कर गाड़ी रुकवाया और शराब की जांच करने की बात कही. इस पर उन्होंने कहा भी कि उनलोगों के परिवार में भी पुलिस वाले हैं, आप जांच कर लीजिए.

दरवाजा खोलते ही कर लिया अगवा

जैसे ही गाड़ी का दरवाजा खोला, वे लोग उसकी पुत्री को खींच कर बाहर निकालने लगे. विरोध करने पर धारदार हथियार से वार कर दिया. इसमें उसका हाथ कट गया. वहीं पत्नी भी उसे बचाने गयी, तो उसको भी जख्मी कर दिया. उन्होंने बताया कि जिसके बाद उनलोगों को जख्मी हालत में सौरबाजार पीएचसी ले जाया गया, जहां से बेहतर इलाज के लिए सदर अस्पताल भेजा गया.

अपराधी पुलिस गिरफ्त से बाहर 

एक सवाल के जबाब में उन्होंने कहा कि वह लोग दो-तीन साल से गांव में ही रहते हैं. उन्होंने कुछ लोगों को पहचानने का दावा किया. उन्होंने कहा कि वे नवनिर्वाचित एमएलसी के संबंधी व ग्रामीण हैं. मामले की जानकारी पुलिस को दे दी गयी है. पुलिस मामले की जांच में जुट गयी है. समाचार लिखे जाने तक अपराधियों में किसी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी थी.

POSTED BY: Thakur Shaktilochan

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें