1. home Home
  2. state
  3. bihar
  4. patna
  5. solver gang had promised to pass in neet for 50 lakhs julie who appeared in the examination was arrested along with her father rdy

नीट में 50 लाख में सॉल्वर गिरोह ने पास कराने का किया था वादा, परीक्षा में बैठने वाली जूली पिता के साथ गिरफ्तार

Bihar News परीक्षा समाप्ति के बाद ये लोग वापस अपने त्रिपुरा स्थित घर पर लौट गये थे. बता दें कि इस गिरोह के सरगना पीके को भी पुलिस पकड़ चुकी है. इसके अलावे सेटिंग करने में शामिल एक डॉक्टर को पकड़ने के लिए हाल में वाराणसी पुलिस पटना भी आयी थी .

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
नीट में 50 लाख में सॉल्वर गिरोह ने पास कराने का किया था वादा
नीट में 50 लाख में सॉल्वर गिरोह ने पास कराने का किया था वादा
File Photo

नीट में स्कॉलर के माध्यम से सेटिंग कर पास होने की फिराक में रही नाबालिग अभ्यर्थी व उसके पिता को वाराणसी के सारनाथ की पुलिस ने त्रिपुरा के धलाई जिले से गिरफ्तार कर लिया. पिता-पुत्री त्रिपुरा के धलाई जिले के कचुचारा के एडीसी साउथ कॉलोनी से पकड़े गये. नाबालिग छात्रा का नाम उस समय सामने आया था, जब पटना के बहादुरपुर निवासी व बीडीएस की छात्रा जूली को स्कॉलर के तौर पर वाराणसी के परीक्षा केंद्र से पकड़ा गया था. जूली स्कॉलर बन कर नाबालिग अभ्यर्थी को नीट में पास कराने के लिए बैठी थी. वाराणसी पुलिस के समक्ष नीट में सेटिंग करने वाले गिरोह के सरगना समेत कई लोगों के नाम सामने आ गया था.

परीक्षा केंद्र वाराणसी और अभ्यर्थी थी दिल्ली में

नाबालिग अभ्यर्थी के पिता ने पूछताछ में वाराणसी पुलिस को बताया है कि उनकी बेटी ने नीट परीक्षा दी है, इसकी पुष्टि करने के लिए वे घर से निकल कर दिल्ली चले गये. जबकि उसका परीक्षा केंद्र वाराणसी में था. परीक्षा समाप्ति के बाद ये लोग वापस अपने त्रिपुरा स्थित घर पर लौट गये थे. बता दें कि इस गिरोह के सरगना पीके को भी पुलिस पकड़ चुकी है. इसके अलावे सेटिंग करने में शामिल एक डॉक्टर को पकड़ने के लिए हाल में वाराणसी पुलिस पटना भी आयी थी .

50 लाख रुपये में सॉल्वर गिरोह से हुई थी परीक्षा में पास कराने की डील

जानकारी के अनुसार, नाबालिग अभ्यर्थी के पिता ने सॉल्वर गिरोह का सहारा लेकर अपनी बेटी को नीट परीक्षा पास कराने की कोशिश की. उन्होंने इसके लिए सॉल्वर गिरोह से 50 लाख रुपये में डील की थी और एडवांस के रूप में पांच लाख रुपये भी दे चुके थे. इन्होंने त्रिपुरा के रहने वाले मृत्युंजय देवनाथ व एक कोचिंग संचालक के माध्यम से सॉल्वर गिरोह के सरगना पीके से बात की थी और उसे ही पांच लाख रुपये दिये थे. काम पूरा होने पर 45 लाख रुपये देने का वादा किया था.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें