38.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

केके पाठक की नवनियुक्त शिक्षकों को दो टूक, गांव के स्कूल में नहीं करनी नौकरी, तो दे दें इस्तीफा

शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक ने बेगूसराय में नवनियुक्त शिक्षकों से कहा कि आपने अपनी मेरिट को साबित कर दिया है. अब आप लोगों को गांव में रहना है, जो गांव में नहीं रह सकते, उनके लिए यह नौकरी नहीं है, अभी भी मौका है नौकरी छोड़ दें.

बिहार लोक सेवा आयोग की परीक्षा से नव चयनित शिक्षकों को पदस्थापित किया जा रहा है. पदस्थापना का कार्य 21 नवंबर तक पूरा कर लिया जाना है. इसी बीच शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक ने नवनियुक्त शिक्षकों से कहा कि आप लोग नियोजित नहीं नियुक्त शिक्षक हैं. आपने अपनी मेरिट और सिंसेरिटी को साबित कर दिया है. उन्होंने कहा कि बीपीएससी द्वारा शिक्षकों की नियुक्ति ग्रामीण क्षेत्र के विद्यालय में हुई है. जो शिक्षक ग्रामीण क्षेत्र में नहीं रह सकते हैं वह नौकरी छोड़ दें. केके पाठक ने यह बातें बेगूसराय के प्रशिक्षण संस्थानों में प्रशिक्षण ले रहे बीपीएससी उत्तीर्ण नवनियुक्त शिक्षकों से संवाद के दौरान कही.

प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे नवनियुक्त शिक्षकों के साथ केके पाठक ने किया संवाद

अधिकारियों के साथ प्रशिक्षण केंद्र पहुंचे केके पाठक ने इस दौरान डाइट की विभिन्न व्यवस्थाओं को देखा तथा निरीक्षण एवं चर्चा करने के बाद अधिकारियों को कई निर्देश दिए. इसके बाद केके पाठक डीएम रोशन कुशवाहा एवं जिला शिक्षा पदाधिकारी शर्मिला राय सहित अन्य अधिकारियों के साथ पीटीसी विष्णुपुर पहुंचे. यहां भी उन्होंने प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे नवनियुक्त शिक्षकों के साथ संवाद किया. प्रशिक्षण के व्यवस्थाओं एवं अन्य मुद्दों की जानकारी ली. उन्होंने पीटीसी का निरीक्षण भी किया.

ग्रामीण क्षेत्र के स्कूलों में होगी नियुक्ति

दोनों जगहों पर नवनियुक्त शिक्षकों के साथ संवाद में केके पाठक ने कहा है कि आप सभी को प्रशिक्षण समाप्त होते ही नियुक्ति पत्र मिल जाएगा. नियुक्ति पत्र सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में कंप्यूटर द्वारा जनरेट होगा. जिसमें कहीं से कोई गड़बड़ी नहीं हो सकती है. कंप्यूटर तय करेगा कि आपको किस गांव में जाना है. आप सभी की नियुक्ति ग्रामीण क्षेत्र के विद्यालयों में होगी.

शिक्षकों से उनके मूल निवास स्थान की ली जानकारी

संवाद के दौरान केके पाठक ने सभी शिक्षकों से उनके मूल निवास स्थान की जानकारी ली. इसके बाद कहा कि आप लोग नियोजित नहीं नियुक्त शिक्षक हैं. आपने अपनी मेरिट और सिंसेरिटी को साबित कर दिया है. आप लोगों को गांव में रहना है, जो गांव में नहीं रह सकते, उनके लिए यह नौकरी नहीं है, अभी भी मौका है नौकरी छोड़ दें. आपकी नियुक्ति से गांव के लोगों में जोश है. पूरे राज्य भर के सभी गांव में लोग आपका इंतजार कर रहे हैं.

Also Read: नवनियुक्त शिक्षकों को लेकर केके पाठक का नया आदेश, सीसीटीवी की निगरानी में होगा स्कूल आवंटन

अंग्रेजी स्कूलों से बेहतर पढ़ाई दें : पाठक

केके पाठक ने कहा कि गांव के विद्यालय में शहर के अंग्रेजी स्कूलों से बेहतर पढ़ाई दें. जिससे कुछ दिन बाद ही सभी बच्चे कहने लगें कि अच्छी पढ़ाई के लिए चलो सरकारी स्कूल. बिहार सरकार को भी आपसे काफी आशा है, आप स्कूल जाएं और अच्छे से पढ़ाएं. केके पाठक के बेगूसराय पहुंचने की सूचना पहले से ही थी लेकिन रात में अचानक पहुंचते ही शिक्षा विभाग में हड़कंप मच गया. शिक्षक से लेकर अधिकारी तक अलर्ट मोड में दिखे.

शिक्षकों पर भड़के केके पाठक

जिले के प्रशिक्षण केंद्रों के निरीक्षण के बाद केके पाठक ने शुक्रवार को बेगूसराय में विभिन्न विद्यालयों का निरीक्षण किया. निरीक्षण के दौरान उन्होंने शिक्षा व्यवस्था, शिक्षा की गुणवत्ता, विद्यालय की व्यवस्था सहित अन्य पहलुओं का गहनता पूर्वक जांच की तथा कमी को देखते हुए निर्देश दिए. पाठक सबसे पहले जिला मुख्यालय के जेके इंटर स्कूल की कक्षा में निरीक्षण के लिए पहुंचे. जहां विद्यार्थी सही तरीके से किताब भी नहीं पढ़ पा रहे थे. इसके बाद केके पाठक ने शिक्षकों की जमकर क्लास ली. उन्होंने कहा कि इस विद्यालय में 20 शिक्षक-शिक्षिका हैं लेकिन पढ़ाई की गुणवत्ता एकदम बेकार है. सभी शिक्षक-शिक्षिका अगर पांच-पांच बच्चे को अडॉप्ट कर लें तो पढ़ाई की गुणवत्ता में सुधार हो जाएगा लेकिन आप लोग सिर्फ 40 हजार वेतन लेते हैं, पढ़ाने के मामले में जीरो हैं. बच्चों का कैरियर बर्बाद कर रहे हैं. जब बच्चे किताब खोलकर पढ़ नहीं पा रहे हैं तो आप लोग पढ़ाते क्या हैं.

Also Read: नवनियुक्त शिक्षकों को लेकर केके पाठक का नया आदेश, शिक्षा विभाग के कर्मियों की छुट्टियां भी की रद्द

कचरा देख बिफरे केके पाठक

क्लाससरू से निकलने के बाद केके पाठक, डीएम रोशन कुशवाहा एवं डीइओ शर्मिला राय सहित अन्य अधिकारियों के साथ शिक्षक कक्ष पहुंचे तथा वहां की व्यवस्था देखा. शिक्षक कक्ष के बाद शौचालय जाकर साफ-सफाई देखी, लेकिन शौचालय से कुछ ही दूरी पर कचरा को देखकर बिफरे तथा इंजीनियर को बुलाकर व्यवस्था दुरुस्त करने का निर्देश दिया. उन्होंने प्रधानाध्यापक और अधिकारियों को गंभीरता पूर्वक कार्य करने के निर्देश दिए तथा मैदान की बदहाल स्थिति को भी ठीक करने का आदेश दिया.

इन स्कूलों का केके पाठक ने किया निरीक्षण

अपर मुख्य सचिव ने बेगूसराय भ्रमण के दौरान उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालय सुशील नगर, कंकौल, जीडीआर उच्च विद्यालय बड़ी बलिया तथा साहेबपुर कमाल के मध्य विद्यालय बिंद टोली का भी निरीक्षण किया. सभी जगह पर उन्होंने मंथली टेस्ट, क्वार्टरली टेस्ट, वर्ग कक्ष, साफ-सफाई की जानकारी ली तथा बच्चों और शिक्षकों से संवाद किया. उन्होंने बच्चों की उपस्थिति बढ़ाने तथा विद्यालय व्यवस्था दुरुस्त करने का भी आदेश दिया.

Also Read: BPSC TRE 2: बिहार के ये डिग्रीधारी शिक्षक बहाली में नहीं कर पा रहे आवेदन, केके पाठक तक पहुंचा मामला

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें