30.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

जेडीयू के दो विधायकों के अपहरण का केस दर्ज, तोड़ने के लिए 10 करोड़ का ऑफर, तेजस्वी यादव के करीबी पर लगा आरोप

हरलाखी विधानसभा से जदयू के विधायक सुंधाशु शेखर ने विधायक बीमा भारती व दिलीप राय को डरा-धमका कर अगवा करने का आरोप लगाते हुए कोतवाली थाने में केस दर्ज कराया है. इस मामले में उन्होंने अपनी पार्टी के एक विधायक और राजद के विधायक पर आरोप लगाया है.

बिहार की नई एनडीए सरकार ने 12 फरवरी को विधानसभा में विश्वास मत हासिल कर लिया है. जिसके बाद अब पटना के कोतवाली थाना में जदयू के दो विधायक बीमा भारती व दिलीप राय के अपहरण का केस दर्ज हुआ है. इस मामले जिस पर किडनैप करने का आरोप लगाया गया है. वो तेजस्वी यादव के करीबी नेता बताए जाते हैं. यह शिकायत हरलाखी विधानसभा से जदयू के विधायक सुंधाशु शेखर ने दर्ज कराई है.

इन लोगों पर लगाया अगवा करने का आरोप

सुंधाशु शेखर ने विधायक बीमा भारती व दिलीप राय को डरा-धमका कर अगवा करने का आरोप लगाते हुए कोतवाली थाने में 11 फरवरी को आइपीसी की धारा 342, 365, 343, 346, 34 और 120 डी के तहत केस दर्ज करा दिया है. उन्होंने इस मामले में जदयू विधायक डॉ संजीव कुमार व राजद पार्टी से जुड़े किदवईपुरी निवासी इंजीनियर सुनील पर अगवा करने की आशंका जतायी है. कोतवाली पुलिस ने दोनों को आरोपित बनाते हुए केस दर्ज कर लिया है और जांच कर रही है. पुलिस विधायक डॉ संजीव कुमार व इंजीनियर सुनील से इस मामले में पूछताछ करेगी.

दस करोड़ रुपये का प्रलोभन देने का आरोप

विधायक सुंधाशु शेखर ने अपनी लिखित शिकायत में पुलिस को बताया है कि नौ फरवरी की रात 8.32 बजे हाजीपुर के रंजीत कुमार के मोबाइल नंबर से व्हाट्सएप कॉल आया. उन्होंने मुझसे कहा कि इंजीनियर सुनील आये हैं और आपसे बात करना चाहते हैं. जब मैंने उनसे बात किया तो उन्होंने कहा कि आप महागठबंधन में आ जाइए, अभी पांच करोड़ दे देते हैं और काम होने के बाद पांच करोड़ मिल जायेंगे. अगर पैसा नहीं लेना है तो मंत्री पद ले लीजिए. इसके बाद सोचकर बताने की बात कह कर टाल दिया. इसके बाद उन्होंने कहा कि अगर आप कहें तो आपके घर पर भी आ जायेंगे.

विश्वास मत प्रस्ताव में गठबंधन को सपोर्ट करने की बात

सुंधाशु शेखर ने बताया कि इसके बाद दस फरवरी को 10.11 बजे पूर्व मंत्री नागमणी कुशवाहा के व्हाट्सएप से कॉल आया कि अखिलेश कुमार बात करना चाहते हैं और जल्द संपर्क करेंगे. एक घंटे बाद 11.02 मिनट पर एक नंबर से इंटरनेट कॉल आया और बात करने वाले व्यक्ति ने अपना नाम अखिलेश बताया और कहा कि वह राहुल गांधी का करीबी है. आप हमारे साथ आ जाइए और इसके बदले में जो भी आपका डिमांड होगा, पूरा कर दिया जायेगा. विश्वास मत प्रस्ताव में हमारे गठबंधन का सपोर्ट कीजिए.

Also Read: महागठबंधन के टूटने से विश्वास मत तक, तस्वीरों में देखें बिहार की सियासत में कब क्या हुआ?

मंत्री पद का प्रलोभन

सुंधाशु शेखर ने बताया कि मेरे साथी हिलसा विधायक कृष्ण मुरारी शरण ने बताया कि उन्हें भी राजद प्रवक्ता शशि यादव ने 30 या 31 जनवरी को फोन कर कहा था कि एक व्यक्ति सुबह में आपसे मिलेगा, बात कर लीजिएगा. दूसरे दिन सुबह में हिलसा विधानसभा क्षेत्र का ही एक व्यक्ति उनसे मिला और कहा कि 12 फरवरी को विश्वासमत प्रस्ताव में राजद के पक्ष में वोट करिए तो आपको मंत्री पद मिल जायेगा या जितना पैसा चाहिए, वह मिल जायेगा.

डॉ संजीव कुमार की भूमिका को बताया संदिग्ध

सुंधाशु शेखर ने पुलिस को बताया है कि मेरे पार्टी के विधायक निरंजन कुमार मेहता को भी राजद के पक्ष में वोट करने के लिए प्रलोभव व धमकी दी गयी है. इस पूरे प्रकरण में मेरे दल के परबत्ता विधानसभा के विधायक डॉ संजीव कुमार की भूमिका संदिग्ध है. वे भी पार्टी के कई विधायकों को राजद के पक्ष में वोट करने के लिए प्रलोभन व धमकी दे रहे हैं.

साथ ही उन्होंने पुलिस को यह भी जानकारी दी है कि मुझे साथी विधायकों से यह जानकारी मिली है कि मेरे दल की विधायक बीमा भारती व दिलीप राय को डरा-धमका कर जबरन अपहरण कर लिया गया है, ताकि 12 फरवरी को होने वाले विश्वासमत प्रस्ताव में मेरे पार्टी के खिलाफ में वोट देने के लिए मजबूर किया जा सके. आशंका है कि मेरे दल के विधायक डॉ संजीव कुमार व राजद पार्टी से जुड़े इंजीनियर व उनके अज्ञात सहयोगियों द्वारा आपराधिक साजिश कर अपहरण की घटना को अंजाम दे दिया गया है.

Also Read: ‘नीतीश कुमार को हमेशा दशरथ की तरह माना…’ विश्वास मत के दौरान तेजस्वी यादव के भाषण की 10 बड़ी बातें

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें