शव को मोहनिया-चौसा मुख्य मार्ग पर रखकर किया जाम

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

राजपुर : लापता नाविक नागेश्वर चौधरी का शव मंगलवार को छेरा घाट से बरामद होते ही ग्रामीणों में गुस्सा फूट गया. आक्रोशित ग्रामीण शव को पुलिस को देने से इंकार करते हुए मोहनियां-चौसा मुख्य मार्ग पर रखकर प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी शुरू कर दी. प्रदर्शनकारी मृतक के परिजनों को तत्काल मुआवजा देने की मांग को लेकर कई घंटों सड़क जाम रखा.

सड़क जाम की खबर मिलते ही प्रशासनिक अधिकारियों में हड़कंप मच गया. मौके पर पहुंचे सीओ ने ग्रामीणों को समझाकर मामले को शांत कराने का प्रयास किया. मगर समाचार लिखे जाने तक ग्रामीण शव को नहीं उठने दिया. थाना क्षेत्र के रोइनीभान गांव के रहने वाले नाविक नागेश्वर चौधरी पिता जगन्नाथ चौधरी का शव मंगलवार को छेरा घाट से बरामद किया गया.
इस संबंध में मिली जानकारी के अनुसार मृतक नागेश्वर चौधरी गुरुवार के दिन कर्मनाशा नदी में प्रत्येक दिन की तरह नाव चलाने के लिए गया था. लेकिन देर शाम तक वापस नहीं लौटा था. जिसको लेकर परिजनों के द्वारा अज्ञात के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी गयी थी. इसके बाद भी पुलिस को सफलता हाथ नहीं लगी थी.
बावजूद परिजनों द्वारा लगातार कर्मनाशा नदी के किनारे विभिन्न घाटों पर खोजबीन की जा रही थी. खोजबीन के दौरान मंगलवार को दोपहर बाद जाल के द्वारा खोजबीन की जा रही थी तभी उसका शव छेरा घाट पर बरामद किया गया. शव मिलते ही आसपास के गांव में चर्चा शुरू हो गयी. जिसे देखने के लिए नदी किनारे सैकड़ों की तादाद में ग्रामीणों की भीड़ उमड़ पड़ी.
सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची राजपुर पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेने का प्रयास किया. ग्रामीणों ने शव देने से इंकार करते हुए शव को मोहनिया-चौसा मुख्य मार्ग पर लाकर प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन करने लगे. चौसा सीओ नवलकांत, राजपुर थाना अध्यक्ष सुनील कुमार निर्झर पहुंचकर ग्रामीणों से बातचीत कर रहे हैं.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें