28.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

BPSC TRE 2: बिहार के ये डिग्रीधारी शिक्षक बहाली में नहीं कर पा रहे आवेदन, केके पाठक तक पहुंचा मामला

बिहार शिक्षक बहाली के दूसरे चरण की अधिसूचना में बीसीए, बीबीए, बीटेक डिग्रीधारी के लिए स्पष्ट उल्लेख नहीं होने से अभ्यर्थी परेशान हैं. अभ्यर्थी परीक्षा के लिए आवेदन नहीं कर पा रहे हैं. ऐसे में प्राथमिक युवा शिक्षक संघ ने इस मामले को लेकर केके पाठक को ज्ञापन सौंपा है.

बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) द्वारा दूसरे चरण की शिक्षक बहाली के लिए जारी अधिसूचना में बीसीए (बैचलर ऑफ कंप्यूटर साइंस) डिग्रीधारियों का स्पष्ट उल्लेख नहीं होने से हजारों बीसीए डिग्रीधारी छात्र परीक्षा के लिए आयोग की बेवसाइट पर आवेदन नहीं कर पा रहे हैं. इस वजह से छात्र काफी परेशान हैं. जिसके बाद बुधवार को बिहार प्राथमिक युवा शिक्षक संघ ने इस मामले को लेकर शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक को ज्ञापन सौंपा. इसके अलावा सीटेट अपीयरिंग छात्रों ने भी मौका दिए जाने को लेकर अपर मुख्य सचिव को ज्ञापन सौंपा है.

तकनीकी शिक्षा स्नातक पास अभ्यर्थियों का स्पष्ट तौर पर जिक्र नहीं

शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष दीपांकर गौरव और मीकू पाल ने बताया कि इससे पहले के छठे चरण की शिक्षक नियमावली और बहाली में बीसीए डिग्री का जिक्र था कि बीसीए करने वाले अभ्यर्थी गणित और विज्ञान के शिक्षक बन सकते हैं और बीसीए करने वाले छात्रों की गणित एवं विज्ञान विषय के शिक्षक के रूप में भर्तियां भी होती आ रही हैं. लेकिन दूसरे चरण की शिक्षक भर्ती के लिए जारी विज्ञापन में तकनीकी शिक्षा स्नातक पास अभ्यर्थियों का स्पष्ट तौर पर जिक्र न होने से दुविधा की स्थिति पैदा हो गई है.

शिक्षक नेताओं की क्या है मांग

दीपांकर गौरव ने बताया कि शिक्षक नियमावली में यह प्रावधान है कि तकनीकी शिक्षा स्नातक वर्ग छठी से आठवीं में गणित व विज्ञान विषय के शिक्षक बन सकते हैं. ऐसे में तकनीकी शिक्षा स्नातक सभी अभ्यर्थियों को बिहार लोक सेवा आयोग अध्यापक नियुक्ति भर्ती से वंचित रखना धोखा होगा. शिक्षक नेताओं ने मांग की है कि बीसीए, बीबीए, बीटेक वाले छात्रों को अध्यापक नियुक्ति भर्ती में मौका देना चाहिए.

Also Read: नवनियुक्त शिक्षकों को लेकर केके पाठक का नया आदेश, शिक्षा विभाग के कर्मियों की छुट्टियां भी की रद्द

सीटीइटी अपीयरिंग छात्रों ने भी केके पाठक को सौंपा ज्ञापन

इधर, सीटेट अपीयरिंग छात्रों ने भी बुधवार को शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक को ज्ञापन सौंपा है. इस ज्ञापन में छात्रों ने कहा है कि बीपीएससी द्वितीय चरण शिक्षक भर्ती में सीटीइटी अपीयरिंग छात्रों को भी मौका दिया जाये. पहले चरण में वर्ग छह से आठ की रिक्तियां नहीं थी. बीएड अभ्यर्थियों को प्राथमिक शिक्षक से बाहर कर दिया, लेकिन उन्होंने तैयारी के साथ एग्जाम दिया. इस कारण सीटीइटी पेपर टू पर फोकस नहीं कर पाये. बहुत से अभ्यर्थी सीटीइटी पेपर टू फॉर्म भी नहीं भर पाये थे. इस कारण अपीयरिंग छात्रों को भी दूसरे चरण शिक्षक नियुक्ति के लिए आवेदन का मौका दिया जाये. मौके पर मिथिलेश कुमार, कांति कुमारी, पिंटू के साथ अन्य सभी सीटीइटी अपीयरिंग छात्र शामिल थे.

Also Read: बिहार: दीपावली पर नकली मिठाइयों से सावधान! हो सकते हैं बीमार, खाद्य विभाग कर रही ये कार्रवाई

4 नवंबर को बीपीएससी ने जारी किया था विज्ञापन

बता दें कि बीपीएससी ने द्वितीय चरण की शिक्षक नियुक्ति के लिए शनिवार 4 नवंबर को विज्ञापन जारी किया था. इसके तहत 70,622 शिक्षकों की नियुक्ति की जानी है जिसमें से 69,706 पद शिक्षा विभाग के अंतर्गत संचालित होने वाले विद्यालयों में अध्यापकों के हैं. वहीं, 916 पद पिछड़ा वर्ग एवं अति पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग के अंतर्गत संचालित होने वाले विद्यालयों में शिक्षकों और प्रधानाध्यापक के हैं. इसके लिए आवेदन दो चरणों में शुरू हो चुका है. पांच नवंबर से आवेदकों का ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन और परीक्षा शुल्क का भुगतान शुरू किया गया है, जो बिना विलंब शुल्क के 14 नवंबर और विलंब शुल्क के साथ 17 नवंबर तक भरा जा सकेगा. वहीं, 10 नवंबर से ऑनलाइन आवेदन शुरू होगा, जो 25 नवंबर तक लिया जायेगा. परीक्षा सात से 10 दिसंबर तक होगी. इसी वर्ष के अंत तक परीक्षा का रिजल्ट भी आने की उम्मीद है.

Also Read: ‘बिहार है तैयार’ पोर्टल से सिर्फ एक क्लिक में रोजगार, जानें घर बैठे कैसे करें आवेदन

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें