17.1 C
Ranchi
Thursday, February 29, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

BPSC Result : बीजेपी नेता की बहू बनी बीडीओ, किसान का बेटा और शिक्षक की बेटी भी बनी एसडीएम…

BPSC 67th Result के टॉप-05 में चार लड़कियां और टॉप-10 में छह लड़कियां शामिल हैं. सफल होने वाले अभ्यर्थियों में कोई किसान का बेटा है तो कोई शिक्षक की बेटी. किसी के माता-पिता विधायक और वकील भी है.

BPSC 67th Result : बिहार लोक सेवा आयोग ने 67वीं संयुक्त परीक्षा का परिणाम शनिवार को घोषित कर दिया है. इसके तहत 24 सेवाओं के लिए कुल 799 अभ्यर्थियों का चयन हुआ है, जिनमें 289 महिलाएं हैं. बाढ़ के मूल निवासी और दिल्ली में रहकर पढ़ाई करने वाले अमन आनंद टॉपर बने हैं. दूसरे और तीसरे स्थान पर क्रमश: जहानाबाद की निकिता कुमारी और अंकिता चौधरी ने बाजी मारी है. टॉप-05 में चार लड़कियां और टॉप-10 में छह लड़कियां शामिल हैं. सफल होने वाले अभ्यर्थियों में कोई किसान का बेटा है तो कोई शिक्षक की बेटी. किसी के माता-पिता विधायक और वकील भी है. तो किसी ने पहले प्रयास में सफलता पाई है. आइए जानते हैं है ऐसे ही कुछ सफल उम्मीदवारों के बारे में…

ट्यूशन पढ़ा कर पूरा किया अफसर बनने का सपना

गया जिला के फतेहपुर नगर पंचायत के वार्ड नंबर सात के रहने वाले विश्वजीत तिवारी ने बीपीएससी की परीक्षा पास कर आरडीओ का पद प्राप्त कर इलाके का नाम रोशन किया. बहुत ही साधारण किसान के पुत्र का जीवन कमियों में गुजरा. अपने सपनों को पूरा करने के लिए अपने बड़े भाई इंद्रजीत तिवारी के साथ मिलकर बच्चों को गांव में ट्यूशन पढाया. उस आय को अपने परिवार का जीविका सहित अपने प्रशासनिक परीक्षा के लिए लगाया. शुरू से ही पढाई में मेधावी विश्वजीत तिवारी का भले ही जीवन अभाव में गुजरा था, पर पढ़ाई के मामले में वह शुरू से ही मेधावी रहा.

प्लस टू राम सहाय उच्च विद्यालय फतेहपुर से प्रथम श्रेणी से मैट्रिक पास की. उसके बाद गया कॉलेज गया से इंटर, ग्रेजुएट व पीजी की परीक्षा प्रथम श्रेणी से पास किया. इसके पहले भी बीपीएससी की परीक्षा में दो बार शामिल हुआ था. लेकिन, सफलता नहीं मिल सकी थी. विश्वजीत ने बताया कि वह अपनी सफलता का श्रेय माता -पिता व संतोष सर को दिया है. विश्वजीत ने बताया कि घर की माली स्थित ठीक नहीं थी. इसके कारण उसके पास परीक्षा की तैयारी के लिए वह गांव में ही रखकर सेल्फ स्टडी कर इस मुकाम को हासिल किया है.

विधायक की पुत्री बनेगी श्रम प्रवर्तन पदाधिकारी

मधेपुरा जिला के आलमनगर विधानसभा के विधायक नरेंद्र नारायण यादव की पुत्री ने बीपीएससी की परीक्षा पास कर क्षेत्र का मान बढ़ाया. पूर्व मंत्री सह विधायक नरेंद्र नारायण यादव की छोटी पुत्री मौसम कुमारी ने 580वां रैंक प्राप्त कर श्रम प्रवर्तन पदाधिकारी का पद प्राप्त किया है.

मालूम हो कि मौसम ने स्नातक पटना के विमेंस कॉलेज से किया. इसके बाद स्नातकोत्तर बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी से की. पीजी करने के बाद एनईटी आइआरएफ की परीक्षा पास कर 66वां रैंक प्राप्त किया था. इसके बाद भी वह नहीं रुकी और लगातार शिक्षा के क्षेत्र में परिश्रम करते हुए 67वीं बीपीएससी की परीक्षा में 580 वां रैंक प्राप्त कर श्रम प्रवर्तन पदाधिकारी का पद प्राप्त करेगी.

किसान का बेटा बना एसडीएम

समस्तीपुर के विद्यापतिनगर प्रखंड के कांचा ग्राम के किसान उपेंद्र राय उर्फ पीना राय का पुत्र प्रवीण कुमार बीपीएससी की परीक्षा में 45वीं रैंक हासिल कर एसडीएम बना है. सुदूरवर्ती कांचा पंचायत के किसान पुत्र ने अपनी प्रतिभा के बल पर सफलता अर्जित की है. उनके पिता खेती किसानी के साथ दुग्ध सेंटर चलाते हैं. मां स्थानीय पीएचसी में एएनएम का कार्य कर चुकी हैं.

आरंभिक छात्र जीवन में मेधावी रहे प्रवीण ने अपनी सफलता का श्रेय पिता समेत परिजनों के आशीर्वाद और शिक्षकों के कुशल मार्गदर्शन को दिया है. पिता ने पुत्र की सफलता पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि यह पूरे क्षेत्र के लिए गर्व की बात है.

नियोजित शिक्षक का बेटा बीपीएससी में सफल

नवादा जिला के नियोजित शिक्षक के बेटे ने सफलता प्राप्त कर परिवार व समाज का नाम रोशन किया है. इंटर विद्यालय ओहारी के नियोजित शिक्षक चंद्रकांत प्रसाद के बेटे राजकमल ने रेवेन्यू आफिसर का पद हासिल किया है. राजकमल को 417वां स्थान प्राप्त हुआ है. बड़े भाई प्रविण कुमार सिविल कोर्ट में कार्यरत है.

राजकमल ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा सरकारी स्कूल गांधी इंटर विद्यालय से एवं स्नातक की पढ़ाई केएलएस कालेज नवादा से की है. इसकी उपलब्धि पर ओहारी इंटर स्कूल के प्राचार्य नागेंद्र उपाध्याय सहित सभी शिक्षक एवं सहायक कर्मियों ने चंद्रकांत प्रसाद को बधाई दी.

शिक्षक की बेटी बनी एसडीएम

कटिहार शहर के रामनगर की रहने वाली रानी कुमारी ने 67वीं बीपीएससी परीक्षा में एसडीएम के पद पर चयनित हुई है. इनके पिता गुलाबचंद मंडल शिक्षक हैं. माता रीता कुमारी मंडल गृहणी है. एक भाई मनीष कुमार है. रानी कुमारी के दादा रामनारायण मंडल मनसाहीे प्रखंड के कुरेठा के निवासी हैं.

एसडीएम के पद पर चयनित होने वाली रानी कुमारी मारवाड़ी पाठशाला से प्रथम श्रेणी से मैट्रिक किया. इंटर और बीएससी प्रथम श्रेणी से डीएस कॉलेज से पास की है. बीएड कर पटना में बीपीएससी की तैयारी कर रही थी. पहली बार बीपीएससी की परीक्षा में चार अंक से पिछड़ गई थी. दूसरे बार में 57वां रैंक लाकर बाजी मारी. एसडीएम पद पर चयनित होने पर परिजन समेत उनके शुभचिंतकों में खुशी की लहर व्याप्त है.

पूर्व डिप्टी मेयर संतोष यादव की बेटी अंशु प्रिया का बीपीएससी में चयन

पूर्णिया की बेटी अंशु प्रिया ने लक्ष्मी पूजा के उमंग में डूबे पूर्णिया वासियों की खुशियों को दोगुना कर दिया. 67वीं बिहार लोक सेवा आयोग की परीक्षा में उत्तीर्ण होकर अंशु ने पूरे सीमांचल को गौरवान्वित कर दिया. अंशु के पिता पूर्णिया नगर निगम के पूर्व डिप्टी मेयर संतोष यादव, माता कविता कुमारी, दादी पार्वती देवी समेत परिजनों को लगातार बधाइयां मिल रही हैं.

अंशु के पिता पूर्व डिप्टी मेयर संतोष यादव ने बताया कि अंशु की शिक्षा-दीक्षा पूर्णिया में हुई है. माउंट जियोन स्कूल से उसने 12वीं तक की पढ़ाई की. इसके बाद पूर्णिया कॉलेज से जूलॉजी में स्नातक प्रतिष्ठा की डिग्री हासिल की. इसके बाद वह प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में जुट गयी.

अधिवक्ता की पुत्री ने हासिल की बीपीएससी में कामयाबी

दरभंगा के हनुमाननगर प्रखंड अंतर्गत थलवाड़ा निवासी अधिवक्ता बैद्यनाथ झा एवं मंजू कुमारी की पुत्री रानी कुमारी ने बीपीएससी की परीक्षा में कामयाबी हासिल कर क्षेत्र का नाम रोशन किया है. रानी की प्राथमिक शिक्षा गांव के ही नव उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालय में हुई.

स्नातक की पढ़ाई नागेंद्र झा महिला महाविद्यालय से करने के उपरांत रानी ने ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय से इतिहास से पीजी की पढ़ाई की. अपने सफलता का श्रेय रानी ने अपने दादा रामदेव झा, माता-पिता व गुरुजनों को दी है.

रश्मि ने पहले प्रयास में बीपीएससी परीक्षा में लहराया परचम

भागलपुर के सबौर प्रखंड के खनकिता गांव की रहने वाली रश्मि भारती पहले ही प्रयास में बीपीएससी परीक्षा में परचम लहराया है. रश्मि भारती ने आरडीओ का पद हासिल किया है. रश्मि ने जवाहर नवोदय विद्यालय से 10वीं व 12वीं पास किया. 2019 में टीएमबीयू से जूलॉजी विज्ञान से स्नातक किया. रश्मि ने बताया बीपीएससी परीक्षा की तैयारी को लेकर किसी प्रकार का ट्यूशन व कोचिंग का सहायता नहीं ली है.

उन्होंने बताया कि खुद से परीक्षा को लेकर तैयारी की थी. सोशल साइट्स से थोड़ा मदद लिया था. रश्मि के माता पिता दोनों शिक्षक है. रश्मि भारती ने छात्रों से कहा कि लक्ष्य पर फोकस करे. रोजाना चार से पांच घंटा कम से कम पढ़ाई करे. पढ़ाई के दौरान नकारात्मक चीजों से बचे. सफलता मिलकर रहेगी.

Also Read: BPSC 67th Result जारी, 799 सफल अभ्यर्थियों में अमन आनंद टॉपर, एक क्लिक पर यहां करें PDF डाउनलोड..

भाजपा नेता की पुत्रवधू बनीं बीडीओ

गया जिला के परैया खुर्द के मुखिया सह भाजपा नेता सुनील कुमार दांगी की पुत्रवधू व युवा नेता आकाश दयाल की पत्नी स्मृति वर्मा ने बीपीएससी में बाजी मारी है. फिलहाल व महिला दारोगा के रूप में प्रशिक्षण ले रही हैं. स्मृति की प्रारंभिक पढ़ाई राजकीय उच्च विद्यालय नवस्थापित गया हाइस्कूल से तथा स्नातक (प्रतिष्ठा विषय) हिंदी, आरजीएस मेमोरियल इवनिंग कॉलेज गया से हुई.

इसके बाद इनकी दृढ़ इच्छा शक्ति व कुशल मेहनत व लगन प्रयास से इनका चयन पुलिस अवर निरीक्षक वर्ष 2022 में हुआ. इसका प्रशिक्षण पुलिस अकादमी राजगीर में करने के उपरांत पुनःवर्मा ने पढ़ाई जारी रखी और बीपीएससी में सफलता हासिल कर बीडीओ बनीं. इससे आसपास के इलाकों में खुशी है.

Also Read: BPSC 67 Topper List: बाढ़ के अमन आनंद ने बीपीएससी में किया टॉप, देखें कटऑफ और टॉपर्स की लिस्ट

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें