21.1 C
Ranchi
Thursday, February 29, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

बिहार: दरभंगा में पांच शिक्षकों के सर्टिफिकेट फर्जी, शिक्षा विभाग ने किया नोटिस जारी, जानिए पूरा मामला

Bihar Teacher News: बिहार के दरभ‍ंगा में पांच शिक्षकों के सर्टिफिकेट को फर्जी बताया गया है. इसके बाद इनके खिलाफ शिक्षा विभाग ने नोटिस जारी किया गया है. इन शिक्षकों पर बर्खास्त होने की तलवार लटक रही है.

Bihar Teacher News: बिहार के दरभंगा जिले में पांच शिक्षकों द्वारा शिक्षा विभाग को दिए गए सर्टिफिकेट को फर्जी बताया गया है. दरअसल, इनके विश्वविद्यालय की ओर से ही इन सर्टिफिकेट को फर्जी करार दिया गया है. अब, इन पांच शिक्षकों पर अब बर्खास्तगी को तलवार लटक रही है. बताया जाता है इन पांचों शिक्षकों द्वारा उत्तर प्रदेश के एक यूनिवर्सिटी का सर्टिफिकेट दिया गया है. जिसे अब फर्जी करार दे दिया गया है. इन पांचों शिक्षकों में इंद्रजीत कुमार सदर, प्रखंड के सोनकी स्थित प्राथमिक विद्यालय जफरा में , प्रीति कुमारी, मनीगाछी प्रखंड के प्राथमिक विद्यालय नारायणपुर, हरिजन, बहादुपुर प्रखंड के छपरार स्थित मध्य विद्यालय , रिंकी कुमारी, घनश्यामपुर प्रखंड के कोरथु प्राथमिक विद्यालय, डीह मुसहरी, विमल कुमार चौधरी, कुशेस्वरस्थान पूर्वी केवटगामा प्राथमिक विद्यालय ब्रहमोतर में पदस्थापित है.

शिक्षा विभाग ने जारी किया कारण बताओ नोटिस

बताया जाता है कि इन सभी पांचों शिक्षकों को विभाग ने शो कॉज नोटिस जारी किया है. साथ ही इन्हें तीन दिनों के भीतर जबाब देने के लिए कहा गया है. सही तरीके से जबाब नही देने पर ऐसे शिक्षकों पर विधि के अनुसार कार्रवाई करते हुए सेवा से बर्खास्तगी की बात कही गई है. इस संबंध में जिला शिक्षा प्रोग्राम पदाधिकारी ने पत्र जारी किया है. साथ ही इसमें कहा है कि यह सभी शिक्षक छठे चरण में 2019- 20 में बहाल हुए थे. इसके बाद इस चरण में नियोजित किये गए शिक्षकों का शैक्षनीक व प्रशैक्षणिक प्रमाणपत्रों के जांच कराने का निर्देश दिया गया था. प्रमाण पत्रों के जांच के क्रम में बीएड का प्रमाण पत्र 2018 में ग्लोबल यूनिवर्सिटी उत्तर प्रदेश के सारणपुर जांच के लिए भेजा गया था. इसे यूनिवर्सिटी ने फर्जी करार दे दिया है.

Also Read: पटना कॉलेज के 161 साल पूरे, कई महान हस्तियों ने यहां की पढ़ाई, कभी कैंपस में चलता था विधान परिषद का सेशन
बिहार में शिक्षकों की हो रही बहाली

नियोजित शिक्षकों का सर्टिफिकेट फर्जी मिलने के बाद इनके खिलाफ कार्रवाई शुरु कर दी गई है. इन्होंने उत्तर प्रदेश के विश्व विद्यालय का फर्जी सर्टिफिकेट दिया था. वहीं, मालूम हो कि बिहार में बड़े पैमानों पर सरकार की ओर से शिक्षकों की बहाली ली जा रही है. बीपीएससी के द्वारा फेज एक और दो में शिक्षकों की बहाली हुई है. वहीं, तीसरे फेज में भी शिक्षकों की बहाली हो रही है. 13 तारीख को फेज दो परीक्षा में पास हुए शिक्षकों को नियुक्ति पत्र सौंपा जाएगा. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इन्हें नियुक्ति पत्र देंगे. वहीं, नियोजित शिक्षकों को लेकर भी सरकार की ओर से आदेश जारी हुआ था. इन्हें राज्यकर्मी का दर्जा दिया जाएगा. साथ ही इन्हें कई तरह का लाभ भी मिलेगा. प्रमोशन के साथ ही ट्रांसफर का इन्हें लाभ मिलेगा. इसी बीच दरभंगा में बहाली होने के बाद शिक्षकों की डिग्री पर्जी पाई गई है. इसके बाद इन्हें बर्खाश्त किया जा सकता है.

Also Read: ईडी ने नौकरी के बदले जमीन मामले में की कार्रवाई, राबड़ी देवी व मीसा भारती के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल
जांच के क्रम में प्रमाण पत्र फर्जी साबित

दरभंगा के पांच शिक्षकों की डिग्री को इनके विश्वविद्यालय की तरफ से ही फर्जी बता दिया गया है. साल 2019 से 20 में छठे चरण में इनका नियोजन हुआ था. इसके बाद इन्हें अपने प्रमाण पत्रों को सत्यापन कराने का आदेश दिया गया था. जांच के क्रम में अब पांच शिक्षकों के प्रमाण पत्र फर्जी पाए गए है. फिलहाल, शिक्षा विभाग ने इन्हें कारण बताने के लिए कहा है. साथ ही इन्हें जल्द से जल्द बर्खाश्त करने की बात भी सामने आ रही है. इधर, राज्य सरकार ने राज्य सूचना आयुक्त के दो रिक्त पदों के लिए नौ फरवरी 2024 तक आवेदन आमंत्रित किया है. सोमवार को सामान्य प्रशासन विभाग के सचिव सोहैल द्वारा जारी सूचना के अनुसार अंतिम तिथि को शाम छह बजे तक सामान्य प्रशासन विभाग में आवेदन प्राप्त किया जायेगा. आवेदन पत्र निबंधित डाक या स्पीड पोस्ट एवं इ-मेल पर भी भेजा जा सकता है. इससे संबंधित विस्तृत जानकारी सामान्य प्रशासन विभाग के विभागीय वेबसाइट पर भी उपलब्ध कराया गया है.सूचना का अधिकार अधिनियम के तहत राज्य मुख्य सूचना आयुक्त और राज्य सूचना आयुक्त विधि, विज्ञान और प्रोद्योगिकी, समाज सेवा, प्रबंध, पत्रकारिता, जनसंपर्क माध्यम या प्रशासन और शासन में व्यापक ज्ञान और अनुभव वाले समाज में प्रख्यात व्यक्त होंगे. वहीं, संसद का सदस्य या किसी राज्य या संघ राज्य क्षेत्र के विधान मंडल का सदस्य नहीं होगा या कोई अन्य लाभ का पद धारण नहीं करेगा या राजनीतिक दल से संबद्ध नहीं होगा. इसके अलावा यह कोई कारोबार नहीं करेगा या कोई वृत्ति नहीं करेगा. सरकार की ओर से लगातार भर्ती ली जा रही है.

(दरभंगा से सूरज की रिपोर्ट.)

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें