1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. bhagalpur
  5. kidnapping and murder of a teenager in a betting dispute of ipl in nathnagar bhagalpur skt

Bihar: सट्टेबाजी विवाद में किशोर का अपहरण कर गला रेता, दोनों हाथ काटकर नदी किनारे गाड़ा, एक हिरासत में

भागलपुर के नाथनगर में एक किशोर को आइपीएल की सट्टेबाजी के विवाद में मौत के घाट उतार दिया गया.किशोर का अपहरण कर उसकी हत्या कर दी गयी. उसके दोनों हाथ काट दिये गये और नदी किनारे शव गाड़ दिया.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
सट्टेबाजी विवाद में किशोर की हत्या के बाद परिजनों में कोहराम
सट्टेबाजी विवाद में किशोर की हत्या के बाद परिजनों में कोहराम
प्रभात खबर

भागलपुर जिला के नाथनगर के लालूचक से किशोर का अपहरण कर उसकी हत्या कर दी गयी. हत्या के बाद किशोर का हाथ काट लिया गया और शव छिपाने के लिए जमीन के अंदर गाड़ दिया गया. बुद्धुचक दियारा में बुधवार सुबह उसका शव क्षत-विक्षत अवस्था में मिला. शव की पहचान बुद्धुचक के गौरी मंडल के पुत्र जितेंद्र कुमार (17) के रूप में की गयी. जितेंद्र 16 अप्रैल की शाम पांच बजे से घर से निकलने के बाद से लापता था.

17 अप्रैल को गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज, हिरासत में युवक

सिटी डीएसपी प्रकाश कुमार ने बताया कि हत्या के पीछे कारणों का पता लगाया जा रहा है. जल्द ही अपराधियों को पकड़ा जायेगा. पिता ने नाथनगर थाने में 17 अप्रैल को छोटे बेटे की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करायी थी. मृतक के पिता गौरी मंडल ने कहा कि 16 अप्रैल की शाम बेटा घर से निकला था. कुछ देर बाद ही बुद्धुचक निवासी मुकेश मंडल का पुत्र सुनील कुमार बेटे को घर पर खोजने भी आया था. पिता ने सुनील पर ही बेटे की हत्या का आरोप लगाया है. फिलहाल पुलिस सुनील को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है.

घाट किनारे शव को जमीन के अंदर गाड़ा

ग्रामीणों ने जमुनिया घाट किनारे शव को जमीन के अंदर गड़ा देखा और जितेंद्र के परिजनों ने कपड़े से शव की शिनाख्त की. नाथनगर पुलिस ने ग्रामीणों की मदद से मिट्टी खुदाई करा जमीन के अंदर गड़े शव को बाहर निकाला. पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराने के बाद परिजनों को सौंप दिया.

किशोर के दोनों हाथ कटे हुए मिले

किशोर के दोनों हाथ कटे हुए थे, जबकि गले पर किसी धारदार हथियार से रेतने का गहरा निशान था. मृतक की मां ने कहा कि छोटे बेटा कई गंभीर बीमारी से ग्रसित था. दो साल तक इलाज कराने के बाद वह पूरी तरह स्वस्थ हो चुका था. इलाज में काफी खर्च से घर की आर्थिक स्थिति खराब हो गयी थी. इस कारण मैट्रिक के बाद जितेंद्र की पढ़ाई भी छूट गयी थी.

गेम को लेकर बाजी लगी

गांव के ही मुकेश मंडल के पुत्र सुनील मंडल के पास छोटे बेटे का रुपये फंसा हुआ था. इसे बार-बार मांगने के बावजूद वह नहीं लौटा रहा था. दोनों के बीच मोबाइल में किसी गेम को लेकर बाजी लगी थी. इसमें बेटे ने 50 हजार रुपये जीता था, लेकिन सुनील बेटे को रुपये नहीं दे रहा था. इस बीच बीते 16 अप्रैल की शाम से बेटा घर से निकलने के बाद से लापता था.

POSTED BY: Thakur Shaktilochan

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें