निर्माणाधीन दवा फैक्टरी के गार्ड की गोली मार कर हत्या

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

खुसरूपुर/फतुहा : पुलिस अनुमंडल के खुसरूपुर थाना क्षेत्र का शेखमोहम्मदपुर गांव रविवार की सुबह गोलियों की तड़तड़ाहट से दहल उठा. गोलियों की आवाज सुन गांव वाले घरों में दुबक गये. बेखौफ अपराधियों ने गांव के समीप पटना-बख्तियारपुर फोरलेन के नीचे निर्माणाधीन दवा फैक्टरी पर धावा बोला और एक सुरक्षा गार्ड की गोली मारकर हत्या कर दी.

दूसरा गार्ड किसी तरह जान बचाकर भागने में सफल रहा. अपराधियों ने गार्ड के शरीर पर पांच गोलियां उतार दी. मृतक गार्ड की पहचान नालंदा जिले के कल्याणबीघा के सिरसी बराह निवासी स्व रामबृक्ष यादव के पुत्र अवधेश प्रसाद (45) के रूप में हुई है.
सूचना पर पुलिस पहुंची तब लोगों का जुटान हुआ. बताया जाता है कि सुबह करीब साढ़े तीन बजे सफेद रंग की बोलेरो से हथियारबंद अपराधी फैक्टरी पर पहुंचे और किवाड़ खुलवाया. जैसे ही गार्ड अवधेश बाहर निकला उस पर गोलियों की बौछार कर दी. गोली लगते ही वह जमीन पर गिर गया और उसकी मौत हो गयी. गार्ड की मौत की पुष्टि कर लेने के बाद सभी अपराधी बोलेरो पर सवार होकर निकल गये. घटना की सूचना पर बड़ी संख्या में परिजन घटनास्थल पर पहुंचे और विलाप करने लगे.
आक्रोशित ग्रामीणों ने शव फोरलेन पर रख जाम लगा दिया. लोग अपराधियों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे. जाम स्थल पर पहुंचे दवा फैक्टरी के मालिक शंभु शरण ने गार्ड की मौत पर दुख जताया और कहा कि अपराधियों द्वारा लगातार रंगदारी की मांग की जा रही थी.
रंगदारी के िलए पहले भी की थी फायरिंग
19 मार्च को भी अपराधियों ने फैक्टरी पर अंधाधुंध फायरिंग की थी. जब से जमीन पर निर्माण कार्य प्रारंभ किया गया है, इस तरह की घटनाएं लगातार हो रही हैं. मामले को लेकर वरीय पदाधिकारियों को लिखित आवेदन भी दिया गया पर पुलिस प्रशासन की ओर से कोई ठोस कार्रवाई आजतक नहीं हुई. प्रशासन यदि सक्रिय रहता तो आज गरीब गार्ड की मौत नहीं होती. उन्होंने कहा कि इलाके में जितने उद्यमियों ने फैक्टरी लगायी है, सब परेशान हैं.
अपरािधयों की कर ली गयी है पहचान
थानाध्यक्ष ज्योति कुमार बसु, दवा कारोबारी एवं स्थानीय जनप्रतिनिधियों ने आक्रोशित लोगों को समझाकर शांत कराया और जाम समाप्त कराया. थानाध्यक्ष ने लोगों से कहा कि अपराधियों की पहचान कर ली गयी है. घटना में शामिल सभी अपराधियों एवं मास्टरमाइंड को शीघ्र गिरफ्तार किया जायेगा. अधिकारियों और प्रतिनिधियों की पहल पर आक्रोशित लोगों ने पुलिस को शव सौंप दिया. पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए पटना भेज दिया. खुसरूपुर पुलिस ने संदेह के आधार पर आसपास के कई गांवों में छापेमारी की है. संदेह के घेरे में आये कई लोग घरों में ताला बंद कर फरार हो गये हैं.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें