1. home Home
  2. sports
  3. tokyo paralympics 2020 india para athlete bhavina patel move to final win over china zhang miao rkt

Paralympics में भाविनाबेन पटेल ने रचा इतिहास, सेमीफाइनल में चीनी खिलाड़ी को दी मात, गोल्ड से बस एक कदम दूर

टोक्यो पैरालंपिक में टेबल टेनिस महिला सिंगल्स का सेमीफाइनल में भाविनाबेन पटेल ने चीन की झेंग मियाओ को 3-2 से हराया.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Tokyo Paralympics 2020
Tokyo Paralympics 2020
फोटो - ट्वीटर

Tokyo Paralympics 2020: टोक्यो पैरालंपिक में टेबल टेनिस खिलाड़ी भाविनाबेन पटेल (India Para Athlete Bhavina Patel) का शानदार प्रदर्शन जारी है. आज खेले गए सेमीफाइनल मुकाबले में भविना ने चीन की खिलाड़ी को मात दे कर फाइनल में जगह बना ली है और इसी के साथ उन्होंने रजत पदक पक्का कर लिया है. बता दें कि अब तक कोई भी भारतीय महिला ओलंपिक या पैरालंपिक खेलों में गोल्ड मेडल जीतने का कारनामा नहीं कर सकी है. भविना पटेल अगर फाइनल में भी ऐसा प्रदर्शन करती हो उन्हें गोल्डन गर्ल बनने कोई नहीं रोक सकता.

बता दें कि सेमीफाइनल में भाविनाबेन पटेल ने चीन की झेंग मियाओ को 3-2 से हराया. भाविनापटेल ने सेमीफाइनल मुकाबला 7-11, 11-7, 11-4, 9-11, 11-8 से जीता. बता दें कि 2016 में रियो ओलंपिक में पीवी सिंधु और पैरालंपिक में दीपा मलिक ने सिल्वर मेडल जीता था, वहीं भविना इस लिस्ट में शामिल होने वाली तीसरी महिला खिलाड़ी बन गयी हैं. वहीं इससे पहले शुक्रवार को खेले गए क्वार्टर फाइनल में शानदार प्रदर्शन किया था. उन्होंने क्वार्टर फाइनल में विश्व की दूसरी रैंकिंग की खिलाड़ी और मौजूदा चैंपियन बोरिस्लावा पेरिच रांकोविच पर प्रभावशाली जीत दर्ज की.

34 साल की भारतीय खिलाड़ी ने सर्बिया की खिलाड़ी को 18 मिनट तक चले मैच में 11-5, 11-6, 11-7 शिकस्त दी. सेमीफाइनल में उनका सामना चीन की झांग मियाओ से होगा, लेकिन अंतिम चार में पहुंचते ही उनका पदक पक्का हो गया था. ऐसा इसलिए था कि पैरालिंपिक टेबल टेनिस में कांस्य पदक प्ले-ऑफ मुकाबला नहीं होगा और सेमीफाइनल में हारनेवाले दोनों खिलाड़ियों को कांस्य पदक मिलेगा. भविना के इस जीत पर उन्हें चारों तरफ से बधाइंया भी मिल रही हैं.

जीत के बाद भविना ने कही ये बात

वहीं इस जीत के बाद भाविना पटेल ने कहा कि मेरी हिम्मत और भारतवासियों का प्यार ऐसे ही बना रहा तो मैं गोल्ड भी जीतकर आ सकती हूं. मैंने सोचा था कि मुझे अपना 100% देना है और मैं वो ही देती जा रही हूं. जब हम अपना 100% देते हैं तो मेडल बनता है. मैं फाइनल के लिए मानसिक रूप से तैयार हूं.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें