1. home Home
  2. sports
  3. tokyo olympics medalist lovlina borgohain appointed as dsp in assam police takes oath aml

टोक्यो ओलंपिक पदक विजेता लवलीना बोरगोहेन बनी डीएसपी, असम सरकार ने दिया बड़ा गिफ्ट

टोक्यो ओलंपिक पदक विजेता मुक्केबाद लवलीना बोरगोहेन ने असम पुलिस में डीएसपी के रूप में आज शपथ ले ली है. उन्होंने राज्य सरकार को धन्यवाद दिया है. उन्होंने कहा कि वे खेल की नयी प्रतिभा की तलाश जारी रखेंगी. राज्य में खिलाड़ियों को मौका देने के लिए प्रयासरत रहेंगी.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
लवलीना बोरगोहेन के कंधे पर सितारे लगाते मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा
लवलीना बोरगोहेन के कंधे पर सितारे लगाते मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा
Twitter

असम की अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाज और टोक्यो ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता लवलीना बोरगोहेन को असम सरकार ने असम पुलिस में पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) के रूप में नियुक्त किया है. असम के मुख्यमंत्री डॉ हिमंत बिस्वा सरमा ने बुधवार को गुवाहाटी में जनता भवन (असम सचिवालय) में आयोजित एक समारोह में राज्य में डीएसपी के रूप में नियुक्त किये गये लवलीना को नियुक्ति पत्र सौंपा.

टोक्यो ओलंपिक पदक विजेता लवलीना बोरगोहेन ने डीएसपी के रूप में शपथ भी ले ली. असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा और डीजीपी भास्कर ज्योति महंत द्वारा लवलीना बोरगोहेन के कंधों पर असम पुलिस के डीएसपी प्रतीक चिन्ह लगाया गया. मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन ने इसी समारोह में असम पुलिस के डीएसपी के रूप में शपथ ली.

लवलीना बोरगोहेन छह बार की विश्व चैंपियन एम सी मैरी कॉम और विजेंदर सिंह के बाद ओलंपिक पदक जीतने वाली तीसरी भारतीय मुक्केबाज हैं. पिछले साल सितंबर में असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ओलंपिक मुक्केबाज कांस्य पदक विजेता को एक करोड़ रुपये का चेक भेंट किया था और गुवाहाटी में आयोजित एक सम्मान कार्यक्रम में राज्य पुलिस में डीएसपी के पद की पेशकश की थी.

पिछले साल 29 अक्टूबर को असम कैबिनेट ने ओलंपिक पदक विजेता मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन को असम पुलिस के पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) के रूप में नियुक्त करने को मंजूरी दी थी. इससे पहले, धावक हिमा दास, जिन्हें 'ढिंग एक्सप्रेस' के नाम से भी जाना जाता है, को असम सरकार द्वारा राज्य पुलिस में डीएसपी के रूप में नियुक्त किया गया था.

लवलीना बोरगोहेन ने आभार व्यक्त किया

लवलीना बोरगोहेन ने कहा कि डीएसपी बनने के बाद वह गर्व महसूस कर रही हैं और वह खेलों पर भी ध्यान देंगी. उन्होंने कहा कि असम और देश के लिए और अधिक पदक जीतना मेरा कर्तव्य होगा. मैं अपने प्रशिक्षण पर ध्यान दूंगी. जब तक मैं बॉक्सिंग खेलती हूं, मुझे पुलिस की ड्यूटी नहीं करनी पड़ेगी. बॉक्सिंग से रिटायरमेंट के बाद मैं पुलिस की ड्यूटी ज्वाइन करूंगी. अब से मेरे जीवन में एक नयी जिम्मेदारी आ गयी है. मुझे यह नौकरी देने के लिए मैं असम सरकार की बहुत आभारी हूं.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें