1. home Hindi News
  2. sports
  3. ipl 2020 dc vs rr tushar deshpande went to batsman became bowler story of becoming a fast bowler avd

IPL 2020 : दिलचस्प है इस युवा खिलाड़ी के बल्लेबाज से तेज गेंदबाज बनने की कहानी

By Agency
Updated Date
तेज गेंदबाज तुषार देशपांडे
तेज गेंदबाज तुषार देशपांडे
PTI PHOTO

मुंबई के तेज गेंदबाज तुषार देशपांडे अपने करियर के शुरू में बल्लेबाज बनने के इरादे से शिवाजी पार्क जिमखाना गये थे लेकिन बल्लेबाजी के लिये लंबी कतार देखकर वह गेंदबाजों की कतार में खड़े हो गये और अब उन्हें अपने उस फैसले पर कोई मलाल नहीं है. इस 25 वर्षीय गेंदबाज ने बुधवार की रात को इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) मैच में विषम पलों में शानदार गेंदबाजी करके दिल्ली कैपिटल्स को राजस्थान रॉयल्स पर 13 रन से जीत दिलाने में अहम भूमिका निभायी थी.

देशपांडे ने कहा, 'यह 2007 की बात है जब मैं तीन चार लड़कों के साथ कल्याण से शिवाजी पार्क जिमखाना में चयन के लिये गया था. बल्लेबाजों की लंबी कतार थी. उसमें 40-45 खिलाड़ी थे और 20-25 बल्लेबाज पैड पहनकर तैयार थे. उन्होंने एक मराठी चैट शो में कहा, गेंदबाजों की कतार में केवल 15-20 खिलाड़ी थे. दोपहर बाद तीन बजकर 30 मिनट का समय था और चयन छह से छह बजकर 30 मिनट तक ही होना था.

देशपांडे ने कहा, मुझे लगा कि बल्लेबाजी के लिये लंबी कतार है और मुझे मौका नहीं मिलेगा, लेकिन इसके साथ ही मैं खाली हाथ नहीं लौटना चाहता था और इसलिए मैं गेंदबाजों की कतार में खड़ा हो गया. इस तेज गेंदबाज आईपीएल के अपने पदार्पण मैच में 37 रन देकर दो विकेट लिये. अपने चयन ट्रायल की बात करते हुए देशपांडे ने आगे कहा, उस समय तक किसी ने यह नहीं कहा था कि मैं एक औसत लड़के की तुलना में अधिक तेजी से गेंद करता हूं.

गेंदबाजों की कतार तेजी से आगे बढ़ रही थी और जब मेरी बारी आयी तो मुझे सौभाग्य से नयीं गेंद मिल गयी. उन्होंने कहा, मैंने अपना रन अप तय किया और गेंद डाली. यह बहुत अच्छी आउटस्विंग थी और टप्पा खाने के बाद बड़ी तेजी से आगे गयी. पैडी सर (पदमाकर शिवालकर) ने कहा, बहुत अच्छी गेंद की, फिर से ऐसी गेंद करो. देशपांडे ने कहा, मुझे यह भी पता नहीं था कि वह कौन है लेकिन मैंने फिर से गेंद की. मैंने छह-सात गेंदें की और मुझे चुन लिया गया.

देशपांडे बचपन से ही दिल्ली कैपिटल्स के अपने कप्तान श्रेयस अय्यर के साथ शिवाजी पार्क जिमखाना में अभ्यास करते रहे हैं. उन्होंने कहा, दूसरे ओर तीसरे दिन भी यही प्रक्रिया अपनायी गयी. पैडी सर और संदेश कावले सर ने मेरा मनोबल बढ़ाया और मैंने जिमखाना से खेलने का फैसला किया और इस तरह से तेज गेंदबाज बन गया.

Posted By - Arbind Kumar Mishra

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें