1. home Hindi News
  2. sports
  3. cricket
  4. harbhajan singh first called khalistani terrorist jarnail singh bhindranwale a martyr now apologizes unconditionally operation bluestar avd

हरभजन ने खालिस्तानी आतंकी भिंडरावाले को पहले बताया शहीद, अब बिना शर्त माफी मांगी

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Harbhajan Singh
Harbhajan Singh
twitter

टीम इंडिया के दिग्गज ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह इस समय जबरदस्त विवादों में आ गये हैं. हालांकि विवाद में आने के बाद उन्होंने यूटर्न लेते हुए बिना शर्त माफी भी मांग ली है. दरअसल भज्जी ने खालिस्तानी आतंकवादी जरनैल सिंह भिंडरावाले को शहीद बताते हुए इंस्टाग्राम पर स्टोरी शेयर की थी.

जिसपर सोशल मीडिया में बवाल हो गया और लोगों ने जमकर भज्जी को भला-बुरा कहा. हालांकि विवाद बढ़ने के बाद भज्जी ने बिना शर्त माफी मांग ली और लंबा ट्वीट किया. भज्जी ने लिखा, मैं कल की एक इंस्टाग्राम पोस्ट के लिए स्पष्टीकरण देना चाहता हूं और माफी मांगना चाहता हूं. यह एक ‘व्हाट्सऐप फॉरवर्ड' था जिसे मैंने जल्दबाजी में उसका मतलब समझे बिना पोस्ट कर दिया. यह मेरी गलती थी जिसे मैं स्वीकार करता हूं.

भज्जी ने आगे लिखा कि वो खालिस्तानी विचारों को कभी समर्थन नहीं करते. और किसी भी स्तर पर मैं उस पोस्ट के विचारों या उन लोगों का समर्थन नहीं करता जिनकी तस्वीर उसमें दिख रही थी.

भज्जी ने आगे लिखा, वो ऐसे सिख हैं जो भारत के लिए लड़ेगा, न की उसके खिलाफ. उन्होंने आगे लिखा, मैं राष्ट्र की भावनाओं को आहत करने पर बिना शर्त माफी मांगता हूं. अपने देशवासियों के खिलाफ मैं ना किसी समूह का समर्थन करता हूं और ना ही कभी करूंगा. मैंने इस देश के लिए 20 साल खून और पसीना बहाया है, मैं कभी किसी ऐसी बात को समर्थन नहीं करूंगा, जो भारत के खिलाफ हो.

क्या था भज्जी के इंस्टाग्राम स्टोरी में

भज्जी ने अपने इंस्टा स्टोरी में जो पोस्टर शेयर किया था. उसमें भिंडरावाले को श्रद्धांजलि देते हुए पहले प्रणाम था. फिर आगे लिखा था, सम्मान के साथ जीना धर्म के लिए मरना. 1 जून से छह जून 1984 को सचखंड श्री हरिमंदर साहिब पर शहीद होने वाले सिंह-सिंहनियों की शहादत को कोटि-कोटि प्रणाम. भज्जी ने जो पोस्टर जारी किया, उसमें भिंडरावाले भी नजर आ रहा है.

दरअसल ऑपरेशन ब्लू स्टार की 37वीं वर्षगांठ है, जिसमें खालिस्तानी जरनैल सिंह भिंडरावाले (Jarnail Singh Bhindranwale ) मारा गया था. ऑपरेशन ब्लूस्टार 1984 में स्वर्ण मंदिर से आतंकवादियों को बाहर निकालने के लिए चलाया गया सैन्य अभियान था.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें