1. home Hindi News
  2. religion
  3. surya rashi parivartan march 2021 date effects on all 12 zodiac signs sun transit on 04 to 17th march these letter name rashifal people take precaution planet transit astrology news hindi smt

Surya Rashi Parivartan March 2021: आज शाम 6 बजे सूर्य करेंगे राशि परिवर्तन, द, ग, स, च समेत इन अक्षर वालों की बढ़ेगी परेशानी, आग और बिजली से रहें सावधान

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Surya Rashi Parivartan March 2021, Date, Effects On All Zodiac Signs
Surya Rashi Parivartan March 2021, Date, Effects On All Zodiac Signs
Prabhat Khabar Graphics

Surya Rashi Parivartan March 2021, Date, Effects On All Zodiac Signs, Rashifal, Sun Transit 2021, 04 March: सूर्य का गोचर इस माह 4 मार्च को होने वाला है. ज्योतिष विशेषज्ञों की मानें तो इस दौरान कुछ जातकों के लिए बेहद फलदायी साबित होने वाला है तो वहीं कुछ की समस्याएं बढ़ सकती है. आपको बता दें कि 4 मार्च को शाम 6 बजे भगवान सूर्य पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र में प्रवेश कर जाएंगे. वे इस दौरान 17 मार्च रात 02 बजकर 21 मिनट तक यहीं रहने वाले है. इस दौरान स, द या च नाम के अक्षर के नाम वाले लोगों की परेशानी बढ़ सकती है. आइए जानते हैं किसके लिए क्या लाया है सूर्य का राशि परिवर्तन...

स, द या च नाम के अक्षर वालों को बिजली, आग से खतरा

गौरतलब है कि सूर्य का गोचर होने वाला है ऐसे में जिनका नाम स, द या च अक्षर से शुरू होता है और जो पूर्वाभाद्रपद, उत्तराभाद्रपद या रेवती नक्षत्र में जन्में हैं उन्हें खास तौर पर 17 मार्च तक संभल कर रहने की जरूरत है.

  • ऐसे जातकों को आग, बिजली व इस तरह की चीजों से खतरा हो सकता है.

  • यदि 17 मार्च तक आप नया घर बनाने की सोच रहे हैं तो आपके लिए बेहतर होगा इस योजना को फिलहाल टाल दें.

उपाय: 17 मार्च तक प्रतिदिन सूर्य मंत्र का जाप करें व सुबह शाम अर्घ्य दें

च, ल, अ, ई, उ, ए या व नाम के अक्षर वाले लोगों की जीवन मायूसी भरी

जिनके नाम का पहला अक्षर च, ल, अ, ई, उ, ए या व से शुरू होता है और उनका जन्म अश्विनी, कृतिका, भरणी या रोहिणी नक्षत्र में हुआ हो तो 17 मार्च तक उनकी जीवन मायूसी भरी होगी.

  • जीवन की गति थोड़ी थम सी जायेगी

  • बने काम में भी इस दौरान रूकावट आ जाएगी

उपाय: ऐसी स्थिति से बचने के लिए पक्षियों को प्रतिदिन सुबह शाम अन्न या बाजरा खिलाएं

व, क, घ, ह या ड नाम के अक्षर वाले लोग

जो जातक मृगशिरा, आर्द्रा, पुनर्वसु या पुष्य नक्षत्र में जन्में है और उनके नाम का पहला यदि व, क, घ, ह या ड है तो 17 मार्च तक उनका जीवन पहले की तरह स्थिर रहेगा.

  • ऐसे जातकों पर शुभ-अशुभ प्रभाव नहीं पड़ेगा

  • करियर में कोई उतार-चढ़ाव नहीं देखने को मिलेगा

उपाय: फिर सूर्य के गोचर का शुभ लाभ लेने के लिए बंदर को कुछ भोजन खिलाएं

ड, म या ट नाम के अक्षर वाले लोग

जिन जातकों के नाम का पहला अक्षर ड, म या ट से शुरू होता है और यदि वे आश्लेषा, मघा या पूर्वाफाल्गुनी नक्षत्र में जन्मे हैं तो ऐसे लोगों पर 17 मार्च तक मां लक्ष्मी की विशेष कृपा रहेगी.

  • इन चौदह दिनों में आपको आक्समिक धन-संपत्ति लाभ हो सकता है,

उपाय: मां लक्ष्मी की कृपा बनाये रखने के लिए आप 17 मार्च तक काली गाय की सेवा करें उन्हें भोजन करवाएं.

ट, प, र या त नाम के अक्षर वाले लोग

जिन जातकों के नाम का पहला अक्षर ट, प, र या त से शुरू हो रहा है और वे उत्तराफाल्गुनी, हस्त, चित्रा या स्वाती नक्षत्र में जन्में हो तो उन्हें 17 मार्च तक कई बेहतर अवसर प्राप्त होंगे.

  • आपको किसी अच्छी जगह से जॉब ऑफर हो सकता है

  • व्यापार में भी नए अवसर प्राप्त होंगे

उपाय: इस स्थिति को बनाए रखने के लिए आप माता-पिता की निस्वार्थ भाव से सेवा करें और बड़े भाई के काम में हाथ बंटाए.

य, त या न नाम के अक्षर वाले लोग

जिनका जन्म अनुराधा, विशाखा या ज्येष्ठा नक्षत्र में हुआ है या नाम का पहला अक्षर य, त व न अक्षर से शुरू होता है तो 17 मार्च तक उनकी पारिवारिक समस्याएं बढ़ सकती है.

  • घर के मुखिया को कुछ परेशानी हो सकती है

  • सेहत के प्रति सावधानी बरतें

उपाय: 17 मार्च तक ऐसे लोग सफेद या शर्बती रंग की टोपी व पगड़ी पहनें. कोशिश करें कि बाहर निकलने पर उनका सिर ढका रहें

य, भ, ध, फ, ज या ख नाम के अक्षर वाले लोग

जिनके नाम का पहला अक्षर ख, य, भ, ध, फ, या ज से शुरू होता है और जो पूर्वाषाढा, मूल, उत्तराषाढ़ा या श्रवण नक्षत्र में जन्मे हैं उन्हें आर्थिक मामले में संभल कर रहने की जरूरत है.

  • 17 मार्च तक ऐसे लोगों को आर्थिक समस्याओं से गुजरना पड़ सकता है

  • इस दौरान धन हानि की भी संभावना है

उपाय: रात को सिरहाने पर 5 बादाम रखकर सोएं. अगले दिन सुबह उठने के बाद उस बादाम को किसी मंदिर में दान करें

ग या स नाम के अक्षर वाले लोग

जिन लोगों का जन्म शतभिषा या धनिष्ठा नक्षत्र में हुआ हो या उनके नाम का पहला अक्षर यदि ग या स से शुरू होता हो तो उन्हें इस दौरान सेहत का ध्यान रखना होगा.

  • इस दौरान अस्पताल के चक्कर काटने पड़ सकते है

  • किसी रोग का भय सता सकता है

उपाय: इससे बचने के लिए आपको मंदिर में गुड़ दान करना होगा.

Posted By: Sumit Kumar Verma

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें